Navratri 2022: व्रत में फसई के चावल खाने के फायदे

Health Benefits of eating Pasai rice: व्रत में तिन्नी का चावल खाने की परंपरा सदियों से भारत में चली आ रही है।

 

 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasUpdated at: Sep 27, 2022 12:02 IST
Navratri 2022: व्रत में फसई के चावल खाने के फायदे

Navratri 2022: पूरे देश में शारदीय नवरात्रि का त्योहार शुरू हो चुका है। जगह-जगह पंडाल सज चुके हैं, मंदिरों में भक्तों की भीड़ भी उमड़ चुकी है। नवरात्र में मां दुर्गा के आगमन में कई लोग व्रत भी रखते हैं। नवरात्रि में व्रत के दौरान (Navratri Fast Diet Plan) वैसे तो कई चीजें खाई जाती हैं, लेकिन पसई के चावल का विशेष महत्व है। ज्यादातर लोग व्रत में पसई के चावल की खीर, पापड़ और पूड़ियां बनाकर खाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं पसई के चावल का सेवन करने से शरीर को भी कई तरह के फायदे मिले हैं। 

पसई के चावल या तिन्नी चावल में भारी मात्रा में  विटामिन बी, जिंक, फाइबर, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम (Red Rice Benefits) पाया जाता है। तिन्नी या पसई के चावल में आम सफेद या ब्राउन राइस के मुकाबले ज्यादा एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है। आइए जानते हैं तिन्नी का चावल या पसई के चावल खाने के फायदों के बारे में।

इसे भी पढ़ेंः क्या ब्राउन शुगर वजन घटाने में मदद कर सकता है?

 red rice for Weight Loss

पसई के चावल या तिन्नी चावल खाने के फायदे

हड्डियों को बनाता है मजबूत

पसई के चावल या तिन्नी चावल में प्रचुर मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है, जो हड्डियों के विकास और मजबूती के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। मैग्नीशियम की कमी के कारण बाद में ऑस्टियोपोरोसिस और हड्डियों का घनत्व कम हो सकता है। अगर नियमित तौर पर पसई के चावल या तिन्नी चावल का सेवन किया जाता है, तो ये हड्डियों की समस्या से राहत दिलाने में मदद कर सकता है।

वजन मैनेज करने में मददगार - red rice for Weight Loss

पसई के चावल या तिन्नी चावल का सेवन करने से आपके अंदर खाने की इच्छा कम होती है। अगर सुबह नाश्ते में पसई के चावल या तिन्नी चावल का सेवन किया जाए तो ये भूख को कंट्रोल करने में मददगार साबित होता है। पसई के चावल या तिन्नी चावल की खास बात ये है कि इसमें जीरो फैट पाया जाता है। इसलिए इसका सेवन किसी भी उम्र के लोग बिना संकोच के कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः गंदी जीभ के कारण कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं?

आयरन की कमी को करता है पूरा - red rice iron deficiency

सफेद चावल के मुकाबले पसई के चावल या तिन्नी चावल सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद माना जाता है। इसमें पर्याप्त मात्रा में आयरन पाया जाता है, जिससे एनीमिया की शिकायत को दूर किया जा सकता है। पसई के चावल या तिन्नी चावल पर हुई एक रिसर्च में ये बात सामने आई है कि नियमित तौर पर इसका सेवन करने से शरीर में आयरन की 5 प्रतिशत आपूर्ति की जा सकती है।

घाव भरने में करता है मदद

तिन्नी चावल मैंगनीज और एंटीऑक्सीडेंट्स का बेस्ट सोर्स माना जाता है। ये जिंक का भी सोर्स माना जाता है। जिंक का सेवन करने से शरीर के घाव, चोट को तेजी से भरने में मदद मिलती है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स सेल्स को डैमेज होने से बचाते हैं और फ्री-रेडिकल्स से छुटकारा देता है।

Image credit- freepik images

 
Disclaimer