Navratri Vrat: व्रत में खाया जाता है सिंघाड़े के आटे का हलवा, जानें सिंघाड़े के आटा क्यों होता है फायदेमंद

इस नवरात्रि आप भी खाएं सिंघाड़े के आटे का हलवा क्योंकि इस आटे में होते हैं सेहत के लिए फायदेमंद कई बेहतरीन गुण।

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraUpdated at: Apr 12, 2021 18:56 IST
Navratri Vrat: व्रत में खाया जाता है सिंघाड़े के आटे का हलवा, जानें सिंघाड़े के आटा क्यों होता है फायदेमंद

सिंघाड़े के आटे को अपने आहार का हिस्सा बनाने से आपको बहुत सारे फायदे हो सकते हैं। खासकर आज के समय में तो सिंघाड़े के आटे से बने खाने को जरूर खाना चाहिए। सिंघाड़े के गुणों से तो सभी वाकिफ होंगे। सिंघाड़े को अक्सर लोग फल के रूप में खाना पसंद करते हैं। वहीं इसके आटे का कुछ खास इस्तेमाल नहीं किया जाता है। भारत में सिंघाड़े का आटा अमूमन नवरात्रों के समय में ही इस्तेमाल किया जाता है। नवरात्रों में लोग सिंघाड़े के आटे का हलवा, पूरी आदि जैसे पकवानों को खाना पसंद करते हैं। व्रत के लिए भी यह आटा बेहद कारगर माना जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह एक मल्टी न्यूट्रियेंट आटा है। इसका सेवन यदि नियमित रूप से करने पर हमारी शरीर में बहुत से पोषक तत्व अवशोषित होते हैं। इस आटे का प्रयोग अधिकांश शुगर के मरीज ही करते हैं। जो उनकी सेहत के लिए अच्छा होने के साथ साथ निरोगियों के लिए भी बहुत मददगार माना गया है। सिंघाड़ा एक जलीय पौधा है, इसलिए इसकी तासीर ठंडी होती है। यह वात, पित्त और कफ जैसी समस्याओं को भी नियंत्रित करने के साथ उनका संतुलन बनाए रखता है। सिंघाड़े का आटा त्वचा, बालों और पेट से जुड़ी कई समस्याओं से निजात दिलाता है। इस लेख के माध्यम से आज हम आपको बताएंगे कि सिंघाड़े का आटा सेहत के लिए फायदेमंद क्यों माना जाता है।

weight

1. वज़न घटाने में आसानी (Helps in Reducing Weight)

सिंघाड़े का आटा फाइबर से भरपूर होता है और लो इन सोडियम होता है। इसका सीधा अर्थ है कि सिंघाड़े के आटे में सोडियम की मात्रा कम और फाइबर की मात्रा अधिक होती है। इसलिए यह वज़न घटाने में बहुत मददगार होता है। खाने में भारी होने की वजह से यह भूख को कम कर थोड़े खाने में ही पेट भर देता है। जिससे आपको वजन घटाने में मदद मिलती है। इसमें मौजूद अन्य पौष्टिक तत्व शरीर को ऊर्जा पहुंचाते है।

इसे भी पढ़ें - Navratri 2021: व्रत में कैसा होना चाहिए आहार? न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर से जानें खानपान का सही तरीका

2. शक्तिशाली व्रत आहार (Powerful food for Fast) 

सिंघाड़े का आटा लोग ज़्यादातर नवरात्री के समय व्रत में इस्तेमाल करते हैं। व्रत के दौरान शरीर में कमज़ोरी ना महसूस हो इसलिए सिंघाड़े के आटे से बनी पूरिया, रोटी, हलवा या कचौड़ियां खाने से बहुत एनर्जी मिलती है। सिंघाड़े का आटा एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर होता है। साथ ही इसमें ढेर सारे विटामिन्स, प्रोटीन, मिनरल्स कैल्शियम, आयोडीन पोटैसियम आदि होते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। सिंघाड़े के आटे में शरीर के लिए आवश्यक तकरीबन सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। 

3. थायरॉयड (Thyroid)

थायरॉयड की समस्या तब होती है जब थायरॉयड नामक ग्लैंड ठीक से काम नहीं करता। थायरॉयड के रोगियों को थकान, वज़न में गिरावट, बाल झड़ना तनाव, हाई बीपी की परेशानी होती है। ऐसे में सिंघाड़े का आटा बहुत फायदेमंद होता है। थायरॉयड में यह आटा ज़रूर खाना चाहिए। इससे शरीर में आयोडीन की कमी नहीं होगी और ज़िंक व आयरन के पौष्टिक फायदे थायरॉयड को नियंत्रित रखेंगे। थायरॉयड के मरीजों के लिए यह आटा काफी फायदेमंद माना जाता है।

bone

4. हड्डी और खून का विकास (Beneficial In Growth of Bone and Blood) 

सिंघाड़े के आटे को आहार में शामिल करने से हड्डियां मजबूत होती है। सिंघाड़े में कैल्शियम होता है जो हड्डियों के विकास के लिए बहुत ज़रूरी है। इसके नियमित सेवन से आप हड्डियों के तमाम विकारों से दूर रहेंगे। साथ ही साथ सिंघाड़े के आटे में आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जिससे खून की कमी नहीं होती और अनेमिया जौंडिस जैसे रोगों का खतरा काम हो जाता है। 

5. शरीर को पोषण देता हैं (Gives Nutrients)

सिंघाड़े का आटा हर एक महत्वूर्ण पोषण से भरा हुआ है। शरीर के लिए ज़रूरी पोषण जैसे कि कैल्सियम, प्रोटीन, आयरन, आयोडीन, मैंगनीज, विटामिन बी-6, विटामिन सी ज़िंक फास्फोरस फाइबर आदि सिंघाड़े के आटे में मौजूद है। सेहत से सुखी होना है तो अपनी डाइट में सिंघाड़े का आटा अवश्य शामिल करें। इसके सेवन से आप इन सभी पोषक तत्वों को शरीर में आसानी से अवशोषित कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - गर्मी में ये स्पेशल 'घट्ट दही' खाने से कम होगा वजन और शरीर रहेगा ठंडा, पूजा मखिजा से जानें फायदे और रेसिपी

6. कब्ज़ से दिलाते राहत (Relief From Acidity)

अगर आप कब्ज़ की समस्या से परेशान है तो आपको सिंघाड़े के आटे से बना भोजन ही खाना चाहिए। सिंघाड़े के आटे में फाइबर की मात्रा अधिक होती है, जो को मल को सॉफ्ट और भारी बना देती है। इससे मल त्याग में आसानी होती है और दर्द व जलन नहीं होती। साथ ही पाचन संबंधी सभी समस्याएं भी दूर होंगी। 

diabetes

7. डायबिटीज़ में फायदेमंद (Beneficial in Diabetes)

सिंघाड़े का आटा डायबिटीज़ के रोगियों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। यह आपके ब्लड शुगर को नियंत्रित करके रखता है, जिससे डायबिटीज़ कंट्रोल में रहती है। डायबिटीज़ में फाइबर विटामिन्स और प्रोटीन रिच आहार खाना चाहिए। इसलिए सिंघाड़े के आटे की सलाह दी जाती है। 

सिंघाड़े के आटे में मौजूद सभी पोषक तत्व आपकी शरीर को उर्जावान बनाते हैं। इसके नियमित सेवन से आप खुद को कई बीमारियों से बचा सकते हैं। 

Read more Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer