बर्गमोट के फल और तेल दोनों में होते हैं औषधीय गुण, जानें इनके प्रयोग का तरीके और फायदे

बर्गमोट नींबू की तरह दिखने वाला एक खट्टा फल है, जिसका प्रयोग कई तरह की बीमारियों और समस्याओं से छुटकारा पाने में किया जा सकता है। जानें इस फल के फायदे

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraUpdated at: Mar 31, 2021 14:55 IST
बर्गमोट के फल और तेल दोनों में होते हैं औषधीय गुण, जानें इनके प्रयोग का तरीके और फायदे

फलों की खूबियां तो आप बखूबी जानते होंगे, लेकिन कुछ फल ऐसे भी हैं जिनका नाम सबको पता नहीं होता है, लेकिन गुणों में वे सबसे आगे होते हैं। ऐसा ही एक फल है बर्गमोट। बर्गमोट (Bergamot) एक औषधीय फल है, जो नींबू के समान दिखता है। यह खाने में काफी खट्टा और कड़वा होता है। लेकिन इसमें कुछ खास गुण मौजूद होते हैं, जिन्हें सेहत के लिहाज से काफी अच्छा माना जाता है। बर्गमोट का पेड़ लगभग 10 से 12 फुट लंबा होता है। यह पेड़ भारत में नहीं बल्कि दक्षिण पूर्व एशिया के जंगलों में पाए जाते हैं। इन फलों का आकार रंग और बनावट नींबू और नासपाति से मिलती जुलती है। यह फल खट्टा और कड़वा होने के चलते कम पसंद किया जाता है। हालांकि इसकी चाय पीना लोग बहुत पसंद करते हैं। बर्गमोट के रस का इस्तेमाल कुछ खाद्य पदार्थों के स्वाद को बढ़ाने के लिए भी किया जाता है। इस फल की चाय के भी कई फायदे हैं। इसकी चाय पीने से फल के सभी पोषक तत्व शरीर में आसानी से अवशोषित (Absorbs) हो जाते हैं।

पहले के समय में लोग इसे मेडिटेरियन डाइट (Medditerian Diet) के तौर पर इस्तेमाल किया करते थे। बर्गमोट का खट्टा रस (Sour Juice) और इसके छिलकों में ऐसे गुण हैं कि यह एरोमाथेरेपी (Aromatherapy) में इस्तेमाल किए जाने वाले एसेंशियल ऑइल्स (Essential oil) में से एक है। हालांकि समुचित मात्रा में इसका सेवन नहीं करने पर हार्टबर्न, मसल्स क्रैंप (Muscle Cramp) आदि जैसे कुछ नुकसान भी देखे गए हैं, लेकिन समुचित मात्रा में और सही तरीके से इसका इस्तेमाल किया जाए तो यह आपकी कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को कम कर सकता है। इस फल को साइटस बर्गामिया के नाम से भी जाना जाता है। आइये जानते हैं बर्गमोट के कुछ स्वास्थ्य फायदों के बारे में। 

cholestrol

कोलेस्ट्रोल कम करे (Reduces Cholesterol) 

जिस प्रकार नींबू कोलेस्ट्रोल (Cholesterol) को घटाने में कामगर है उसी प्रकार बर्गमोट में मौजूद फ्लेवेनोइड और एंटीऑक्सीडेंट गुण (Antioxidants) आपके लिपिड के स्तर को काफी हद तक घटा देता है। इससे आपका कोलेस्ट्रोल लेवल कम होता है। इसके रस का सेवन आपके एलडीएल यानि बैड कोलेस्ट्रोल (Bad Cholesterol) को कम करकर आपके मोटापे को भी नियंत्रित (Controls Fat) करता है। यदि कई चीजों के बाद भी आपका कोलेस्ट्रोल कम नहीं हो रहा है तो आप बर्गमोट के फल का सेवन कर सकते हैं। कई शोध में ऐसा देखा गया है कि इसका रस आपके कोलेस्ट्रोल को पूरी तरह से नियंत्रित कर देता है। 

इसे भी पढ़ें - औषधीय गुणों वाले 'अगस्त्य के पेड़' से दूर हो सकती हैं कई बीमारियां, आयुर्वेदाचार्य से जानें फायदे और प्रयोग

जोड़ों के दर्द में सहायक (Joint Pain) 

बर्गमोट आपके जोड़ों के दर्द को दूर करने में भी काफी सहायक है। जोड़ों के दर्द में बर्गमोट का तेल लगाने से दर्द में काफी राहत मिलती है। साल 2015 में हुई एक रिसर्च के दौरान यह पाया गया कि बर्ममोट का तेल (Bergamot Oil) लगाने से लोगों को न्यूरोपैथिक दर्द (Neuropathic Pain) में राहत मिलती है। यही नहीं इसमें मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी गुण (Anti Inflammatory) छोटे दर्द के साथ ही अर्थराइटिस (Arthritis) के तमाम प्रकारों में भी राहत दिलाते हैं। न केवल बर्गमोट का तेल बल्कि इसके छिलकों और रस का सेवन भी जोड़ों के दर्द में असरदार है। 

strss

स्ट्रेस कम करे (Reduces Stress)

सुनने में भले ही थोड़ा अजीब लगे, लेकिन स्ट्रेस कम करने में भी यह फल काफी मददगार है। बर्गमोट के तेल को एरोमाथेरेपी (Aromatherapy) और हीलिंग (Healing) के लिए खूब इस्तेमाल किया जाता है। डिप्रेशन (Depression) के रोगियों को भी इस तेल की मसाज दी जाती है। बर्गमोट में पाए जाने वाले सिटरस सेंट में डिप्रेशन को कम करने के खास गुण मौजूद होते हैं। सिटरस हीलिंग के लिए काफी अच्छा माना जाता है। जो आपके बिगड़े हुए मूड को तरोताजा करने में मदद करता है। स्ट्रेस के साथ ही यह क्रॉनिक फैटीग के लिए भी काफी सहायक है।

इसे भी पढ़ें - Ayurvedic Herbal Waters: इन जड़ी बूटियों को पानी में मिलाकर पीने से होते हैं अनेक फायदे

श्वसन प्रणाली को साफ करे (Cleans Respiratory System)

बर्गमोट का पौधा इतना सुगंधित होता है कि इसका फल या पौधा सूंघने मात्र से ही आपकी श्वासन प्रणाली में मौजूद बैक्टीरिया (Bacteria), फंगी (Fungus) आदि साफ हो जाते हैं और आपकी बंद सांस की प्रणाली फिर से सुचारू रूप से कार्य करने लगती है। इस पौधे में यूकेलिप्टस (ucoliptis) मौजूद होता है, जो श्वासन प्रणाली (Respiratory System) को साफ रखने में मदद करता है। बर्गमोट के रस का सेवन करने से भी आपकी श्वासन प्रणाली साफ होती है। यूकेलिप्टस आपको जुकाम, कफ आदि से भी बचाता है। श्वासन प्रणाली के साथ ही छाती में जकड़न आदि में भी यह आपके लिए फायदेमंद है। 

insomnia

अनिद्रा (Insomnia) 

बर्गमोट के फायदों में अनिद्रा भी शामिल है। नींद लाने के लिए भी इसे काफी फायदेमंद माना जाता है। बर्गमोट का तेल बाकी सिटरस ऑइल्स से काफी अलग है। यह आपके बल्ड प्रेशर और दिल की धड़कन की गति को धीमी कर देता है और तनाव को बिलकुल हल्का कर देता है, जिससे आपको जल्दी नींद आने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। इसके तेल का रात के समय नियमित सेवन करने से आपको कभी अनिद्रा की समस्या नहीं होगी। 

किन लोगों को बर्गमोट के उपयोग से बचना चाहिए 

  • बर्गमोट औषधीय गुणों से भरपूर फल है, इसमें कोई संदेह नहीं है। लेकिन इसका इस्तेमाल यदि समुचित मात्रा में न किया जाए या फिर गलत तरीके से या जानकारी के अभाव में किया जाए तो इसके कई नुकसान भी हो सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि इसे इस्तेमाल करने से पहले ये जान लिया जाए कि किन लोगों के लिए इसका प्रयोग नुकसानदायक हो सकता है। 
  • 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को इसका सेवन न कराएं, कई मायनों में यह उनके लिए नुकसानदायक भी हो सकता है।
  • प्रेगनेंसी के दौरान महिलाएं बर्गमोट के फल का सेवन करने से परहेज करें। 
  • किसी गंभीर समस्या से पीड़ित मरीज को बर्गमोट का सेवन चिकित्सक की सलाह के बाद ही करना चाहिए।
  • बर्गमोट के रस का सेवन समुचित मात्रा में ही करना फायदेमंद है अन्यथा इसके कई नुकसान भी हो सकते हैं। 

बर्गमोट का फल आपके लिए लाभकारी है। अगर आपको इसका स्वाद नहीं पसंद तो इसकी चाय या इसके तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। उनमें भी उतने ही पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

Read more Articles on Ayurveda In Hindi 

Disclaimer