अरारोट किस तरह किया जाता है तैयार? जानें इसके इस्तेमाल के 9 फायदे और नुकसान

अरारोट स्किन से लेकर पाचन से जुड़ी समस्याओं के लिए काफी फायदेमंद होता है। इससे कई तरह की समस्याएं दूर की जाती है। जानते हैं इसके बारे में विस्तार से

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Feb 09, 2021
अरारोट किस तरह किया जाता है तैयार? जानें इसके इस्तेमाल के 9 फायदे और नुकसान

हमारे आसपास कई ऐसी चीजें मौजूद होती हैं, जो स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद है। लेकिन इसमें से कई चीजों से हम अनजान हैं। इन्हीं में से एक है अरारोट। यह एक बारहमासी जड़ी-बूटी है, जो सेहत के लिहाज से काफी फायदेमंद है। यह एक कंदमूल फल है, इसमें स्टार्च की अधिकता होती है। कई लोग अरारोट का इस्तेमाल आटे के रूप में करते हैं। वहीं, कई लोग स्किन केयर रुटीन में भी इसे शामिल करते हैं। अरारोट का वैज्ञानिक नाम मैरेंटा अरुंडिनेशी एल. (Maranta Arundinacea L.) है। इसके सेवन से स्वास्थ्य को कई फायदे होते हैं। आज हम आपको इस लेख के जरिए अरारोट के कुछ फायदे (Benefits of Arrowroot) बताने जा रहे हैं, जिसके बाद आप एक बार इसे जरूर ट्राई करेंगे।

अरारोट का सेवन आप सभी मौसम में कर सकते हैं। इम्यूनिटी बूस्ट (arrowroot Boost Immunity) करने के साथ-साथ सर्दी-जुकाम की समस्या से राहत दिलाने में असरादार होता है। इसके अलावा डिलीवरी के बाद महिलाओं को अरारोट खिलाया जाता है, ताकि उनके शरीर को संपूर्ण पोषक तत्व मिले और उनके बच्चों का स्वास्थ्य सही रहे। आइए जानते हैं इसके अन्य फायदों के बारे में-

1. पाचन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है अरारोट

पाचन संबंधी परेशानियों के लिए अरारोट काफी फायदेमंद हो सकता है। इसमें मौजूद स्टार्च पेट दर्द और कब्ज की परेशानी से राहत दिला सकते हैं। इसमें प्रोबायोटिक बैक्टीरिया होता है, जो पाचन में सुधार करके आपके आंतों को स्वस्थ रखता है। इसके अलावा पेट दर्द में राहत दिलाने में असरदार होता है। इसमें मौजूद एंटी डायरिया आपको दस्त और डायरिया जैसी परेशानी से राहत दिला सकता है। 

2. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए अरारोट

अरारोट के सेवन से इम्यूनिटी पावर को बूस्ट किया जा सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) पर छपी रिपोर्ट के मुताबिक, अरारोट का स्टार्च हमारे शरीर में फाइबर की तरह कार्य करता है। इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इसके साथ ही अरारोट में इम्युनोस्टिमुलेटरी (Immunostimulatory) होता है, जो हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। 

इसे भी पढ़ें - ब्लड शुगर घटाने और स्वस्थ रहने के लिए वीगन नहीं अपनाएं पीगन डाइट, एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे और नुकसान

3. सर्दी-जुकाम से दिलाए राहत

सर्दी-जुकाम से राहत दिलाने में भी अरारोट काफी असरकारी होता है। सर्दी-जुकाम होने पर बच्चों को भी अरारोट दिया जाता है, ताकि उनकी इम्यून पावर मजबूत हो। साथ ही सर्दी-जुकाम की परेशानी से बचाया जा सके। 

4. ग्लूटेन फ्री डाइट है अरारोट

अरारोट ग्लूटेन फ्री आहार है। एनसीबीआई पर छपी रिपोर्ट के अनुसार, ग्लूटेन फ्री आहार का सेवन करने से सीलिएक रोग और ग्लूटेन एलर्जी खतरे को कम किया जा सकता है। इसके सेवन से आप आंतों में सूजन की परेशानी को कम कर सकते हैं।

5. डायबिटीज रोगियों के लिए है अरारोट

डायबिटीज को कंट्रोल करने में अरारोट काफी फायदेमंद होता है। अरारोट में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है। यानी इसका कार्बोहाइड्रेट शरीर में तेजी से ग्लूकोज के रूप में नहीं बदलाता है, जो डायबिटीज रोगियों के लिए काफी फायदेमंद है। इसके साथ ही अरारोट के आटे में फाइबर की प्रचुरता होती है, जो डायबिटीज मरीजों के लिए फायदेमंद है। इसमें एंटीडायबिटिक गुण होता है, जो डायबिटीज जैसी परेशानी से बचाव कर सकता है। डॉक्टर की सलाह पर अरारोट का सेवन जरूर करें।

इसे भी पढ़ें - लीची जैसा दिखने वाला 'लोंगन फ्रूट' है बहुत गुणकारी, जानें इस फल से सेहत को मिलने वाले 8 जबरदस्त फायदे

6. हृदय को रखे स्वस्थ  

अरारोट के उपयोग से हृदय स्वास्थ्य और बेहतर हो सकता है। अरारोट में मौजूद फ्लेवोनॉयड से हृदय संबंधित समस्याओं से बचाव में मदद मिल सकती है। साथ ही अरारोट पाउडर में पोटेशियम की अच्छी मात्रा होती है। बता दें कि एक शोध के अनुसार, पोटेशियम उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करके हृदय रोग के जोखिम जैसे कि धमनियों से संबंधित हृदय रोग और हार्ट फेलियर से बचाव कर सकता है। साथ ही इसमें मौजूद फाइबर को भी हृदय के लिए अच्छा माना जाता है।

7. वजन को करे कम  

अरारोट के इस्तेमाल से बढ़ती चर्बी और मोटापे की समस्या को भी कम किया जा सकता है। दरअसल, इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर होता है, जिसे मोटापे कम करने में मदद मिलती है। इसके अलावा, अरारोट में प्रोटीन की भी अच्छी मात्रा होती है। प्रोटीन और फाइबर दोनों पोषक तत्व भूख को नियंत्रित करने में मदद करते हैं, जिससे वजन को बढ़ने से रोकने में मदद मिल सकती है।

8. डायरिया में सहायक

अरारोट पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में कारगर साबित हो सकता है। डायरिया यानी दस्त की समस्या पाचन संबंधी परेशानियों में से एक है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के मुताबिक, लंबे समय तक अरारोट पाउडर का सेवन करने से दस्त की समस्या से राहत मिल सकती है। इसमें एंटी डायरिया प्रभाव होता है, लेकिन अरारोट में मौजूद कौन-सा तत्व बतौर एंटीडायरिया काम करता है यह स्पष्ट नहीं है।

9. स्किन के लिए फायदेमंद 

अरारोट में Vitamin-C की अच्छी मात्रा होती है। ये विटामिन स्किन को शुष्कता और बेजान होने से बचा सकता है। साथ ही ये उम्र की बढ़ती गति, झुर्रियां और दाग-धब्बों को कम करने में सहायक माना जाता है। इतना ही नहीं, विटामिन सी सूर्य की हारिकारक पैराबैंगनी किरणों से बचाने और डैमेज्ड स्किन सेल्स को रिपेयर करने में भी सहायक हो सकता है । इसी वजह से अरारोट को त्वचा स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है।

इसे भी पढ़ें - आयुर्वेद के अनुसार सही खानपान से पा सकते हैं निरोगी शरीर, डॉक्टर से जानें आयुर्वेदिक डाइट के चार जरूरी नियम

अरारोट के नुकसान (Side Effects of Arrowroot)

आमतौर पर अरारोट सुरक्षित माना जा सकता है, लेकिन इसकी अधिक मात्रा हानिकारक हो सकती है। एक रिसर्च के दौरान दो कोरियाई महिलाओं में अरारोट जूस के सेवन के बाद विषाक्त हेपेटाइटिस (लिवर से संबंधित) समस्या पाई गई। इस समस्या के कारण महिलाओं में मतली, उल्टी और पीलिया जैसे लक्षण देखे गए। ऐसे में अरारोट के नुकसान से बचने के लिए इसका सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना बेहतर होगा।

इस लेख में आपने अरारोट के फायदों के बारे में जाना है। अरारोट पाउडर में कई असाधारण गुण छिपे होते हैं, जो शरीर के लिए काफी फायदे होते हैं। यह कई प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर कर सकता है, लेकिन ध्यान दें कि अरारोट पाउडर बीमारियों का इलाज नहीं किया  जा सकता है। इसके सेवन से आप सिर्फ अपनी समस्याओं से बचाव कर सकते हैं।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

 

Disclaimer