होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला रंगों का त्योहार है। यह पर्व आपसी भाईचारे के तौर पर भी जाना जाता है। आमतौर पर यह पर्व भारतीय उप महाद्वीप में हिंदू समुदाय द्वारा मनाया जाता है। इसके अलावा जहां-जहां इस समुदाय के लोग रहते हैं वहां भी इस पर्व का उत्‍साह देखने को मिलता है। होली के इस पावन पर्व पर भारतीय अपने घरों में स्‍वादिष्‍ट पकवान बनाने के साथ रंग और गुलाल की होली खेलते हैं। 

"/>

Happy Holi: होली को स्‍वस्‍थ और सुरक्षित कैसे बनाएं? जानें ये 5 महत्‍वपूर्ण बातें

होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला रंगों का त्योहार है। यह पर्व आपसी भाईचारे के तौर पर भी जाना जाता है। आमतौर पर यह पर्व भारतीय उप महाद्वीप में हिंदू समुदाय द्वारा मनाया जाता है। इसके अलावा जहां-जहां इस समुदाय के

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Mar 18, 2019Updated at: Mar 18, 2019
Happy Holi: होली को स्‍वस्‍थ और सुरक्षित कैसे बनाएं? जानें ये 5 महत्‍वपूर्ण बातें

होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला रंगों का त्योहार है। यह पर्व आपसी भाईचारे के तौर पर भी जाना जाता है। आमतौर पर यह पर्व भारतीय उप महाद्वीप में हिंदू समुदाय द्वारा मनाया जाता है। इसके अलावा जहां-जहां इस समुदाय के लोग रहते हैं वहां भी इस पर्व का उत्‍साह देखने को मिलता है। होली के इस पावन पर्व पर भारतीय अपने घरों में स्‍वादिष्‍ट पकवान बनाने के साथ रंग और गुलाल की होली खेलते हैं। लेकिन, कई बार रंग खेलते समय हम अपने स्‍वास्‍थ्‍य का ध्‍यान नहीं रख पाते हैं, जिसका दुष्‍परिणाम स्वयं को ही झेलना पड़ता है। कुछ लोग रंग खेलते वक्‍त असावधानी बरतते हैं तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो पकवान का सेवन जरूरत से ज्‍यादा कर लेते हैं जिससे स्‍वास्‍थ्‍य खराब हो जाता है। यहां हम आपको स्‍वस्‍थ और सुरक्षित होली मनाने के तरीकों के बारे में बता रहे हैं। 

 

स्‍वस्‍थ और सुरक्षित होली कैसे मनाएं 

रंग से संवेदनशील अंगों को बचाएं 

होली के रंग में लोग इतने मदमस्‍त हो जाते हैं कि वह इससे होने वाले दुष्‍परिणामों को नजरअंदाज कर देते हैं। होली खेलते समय अक्‍सर रंग हमारी आंखों, मुंह, नाक और कान में चले जाते हैं जो काफी हानिकारक है। रंग खेलते समय संवेदनशील अंगों का जरूर ध्‍यान रखें। केमिकल युक्‍त रंग आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं। 

होली के मौके पर ओवरईटिंग से बचें

होली के मौके पर हर तरफ मिठाईयां व पकवान ही नजर आते हैं, इसलिए आप हर वक्त कुछ न कुछ खाते रहते हैं। लेकिन यह काफी नुकसानदेह है आपके लिए त्योहारों के मौके पर ओवरईटिंग से बचना चाहिए। होली पर बनने वाली मिठाईयां व व्यजंन काफी तले भुने होते हैं और यह आसानी से नहीं पच पाते हैं। जिससे आपको फूड प्वॉजनिंग की समस्या हो सकती है। होली में कोशिश करें कि घर पर बनी मिठाईयों का सेवन करें।

होली में क्‍या खाएं और क्‍या नहीं 

होली में बनने वाली गुजिया का सेवन ज्यादा नहीं करें। खोए व मैदे से बनी गुजिया आपके सेहत के लिए सही नहीं है। होली में आप ड्राई फ्रूट्स का सेवन कर सकते हैं। यह आपके स्वास्थ के लिए फायदेमंद है। होली में पेय पदार्थ में आप जूस पी सकते हैं। इससे आपके शरीर को पोषण भी मिलेगा।

इसे भी पढ़ें: इन जानलेवा चर्मरोगों का कारण बन सकते हैं होली के रंग, रहें सावधान

भांग का सेवन करने से बचें 

होली पर आप कुछ ना कुछ खाते रहते हैं लेकिन पानी पीना भूल जाते हैं। जिससे शरीर में पानी की कमी हो सकती है और खाद्य पदार्थ को पचने में काफी समस्या आती है। कम से कम आठ गिलास पानी जरुर पीना चाहिए। होली में बनने वाली ठंडई व भांग से दूर रहना चाहिए। इसकी जगह आप जूस या पानी पीना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: होली 2019: आंख, कान और नाक में चला जाए रंग तो क्या करें, जानें एक्सपर्ट की राय

त्‍वचा की करें रक्षा 

होली में रंग खेलने के 15 मिनट पहले अपने शरीर पर खूब सारा मॉस्चोराइजर या तेल जरूर लगाएं। इसके बाद शरीर पर वाटरप्रूफ सनस्क्रीन लगाना नहीं भूलें। इससे रंग छुड़ाने में ज्यादा परेशानी नहीं होगी। होली के दिन पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनने चाहिए। हो सके तो कपड़े के अंदर कोई स्विमिंग सूट पहन लें जिससे होली का रसायन कपड़ों क अंदर नहीं जा पाए। अगर आपके शरीर पर कोई घाव या चोट आदि है तो होली नहीं खेलनी चाहिए। इससे रंगों में मिले रासायनिक तत्व घाव के माध्यम से शरीर के रक्त में मिलकर नुकसान पहुंचा सकते हैं।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Miscellaneous In Hindi

Disclaimer