पेट के बैक्‍टीरिया भी बन सकते हैं हाई ब्‍लड प्रेशर और पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन का कारण, जाने बचाव के तरीके

Gut Bacteria and High Blood Pressure:आंत बैक्‍टीरिया अचानक से बढ़ने वाले ब्‍लड प्रेशर के पीछे का कारण हो सकता है। आइए जानते हैं कैसे? 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Feb 27, 2020Updated at: Feb 27, 2020
पेट के बैक्‍टीरिया भी बन सकते हैं हाई ब्‍लड प्रेशर और पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन का कारण, जाने बचाव के तरीके

हाई ब्‍लड प्रेशर कई ज्ञात कारणों के बीच शोधकर्ताओं ने पाया है कि कुछ प्रकार के आंत बैक्टीरिया भी ब्‍लड प्रेशर के स्तर में अनियमितता का कारण बन सकते हैं। ये बैक्टीरिया पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन या PAH के विकास को गति प्रदान कर सकते हैं। यह शोध संयुक्त राज्य अमेरिका में फ्लोरिडा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं की एक टीम ने किया था। 

क्‍या कहता है शोध? 

मेडिकल जर्नल 'हाइपरटेंशन' में प्रकाशित, इस अध्ययन से पता चलता है कि एक विशिष्ट आंत बैक्टीरिया 'माइक्रोबायोटा' जो पाचन में मदद करता है, पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन को ट्रिगर कर सकता है। शोधकर्ताओं की टीम ने कहा कि पेट में एक विशेष माइक्रोबायोटा प्रोफाइल होने से पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन की उपस्थिति देखी गई।

Gut Bacteria can cause Pulmonary Artery Hypertension

अमेरिका में फ्लोरिडा विश्वविद्यालय के प्रमुख शोधकर्ता मोहन रायजादा ने बताया, "हमने पहली बार दिखाया कि पेट में विशिष्ट बैक्टीरिया पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन (PAH) वाले लोगों में मौजूद हैं। जबकि वर्तमान पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन (PAH) उपचार फेफड़ों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, फेफड़े/आंत की धुरी को देखकर पाचन तंत्र में केंद्रित नए उपचारों के लिए एक दरवाजा खोल सकते हैं।" 

पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन क्‍या है? 

पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन (PAH) एक प्रगतिशील और पुरानी स्वास्थ्य स्थिति है, जहां फेफड़ों को खून की आपूर्ति करने वाली धमनियों में कसाव या संकुचन आता है। पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन (PAH) में, फेफड़े की धमनियों पर ब्‍लड प्रेशर बढ़ जाने के कारण, खून की आपूर्ति करने का दबाव हृदय के दाहिनी ओर भी बढ़ जाता है, जो इस प्रकार हार्ट फेल्‍योर या हृदय की विफलता का कारण बन सकता है। इसलिए, इस स्थिति से बचने की जरूरत है।

इसे भी पढें:  वजन घटाने से लेकर ब्‍लड प्रेशर कंट्रोल तक, जानें 1 कप केले की चाय पीने के 5 फायदे और बनाने की विधि

Pulmonary Artery Hypertension

पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन के लक्षण 

आपके फेफड़ों में छोटी धमनियां यानि पल्मोनरी आर्टरी में कसाव या संकुचन आ जाता है, तो यह फेफड़ों के माध्‍यम से होने वाले खून के बहाव में कठिन बना देती है, जिससे कि फेफड़ों में दबाव बढ़ता है और कुछ इस प्रकार के लक्षण दिखते हैं: 

  • थकान महसूस करना 
  • सांस फूलना 
  • दिल की धड़कन कम या बहुत तेज होना 
  • सूखी खांसी आना
  • चक्‍कर आना 
  • सीने में दबाव महसूस होना 
  • सिर दर्द 
  • पाचन क्रिया का असंतुलित होना

अध्‍ययन के निष्‍कर्ष 

प्रमुख शोधकर्ता मोहन रायजादा के अनुसार, '' अध्‍ययन के निष्‍कर्ष में पाया गया कि अधिकांश प्रकार के आंत के बैक्टीरिया या माइक्रोबायोटा ने हृदय स्वास्थ्य के लिए संभावित खतरा हैं, जहां हाई ब्‍लड प्रेशर एक प्रारंभिक लक्षण है। हालांकि पेट माइक्रोबायोटा हमारे भोजन और कुछ पर्यावरणीय कारकों के आधार पर बदलता रहता है। हालांकि, पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन (PAH) से जुड़े बैक्टीरिया अद्वितीय हैं और बदलते नहीं दिखते।'' 

इसे भी पढें: खूनी हो या बादी बवासीर, एक्सपर्ट के अनुसार पाइल्स में नहीं खाने चाहिए ये 5

हाई ब्‍लड प्रेशर से के कारण  

यहां आप इस वीडियो में हाई ब्‍लड प्रेशर के कारण जान सकते हैैै: 

पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन से बचने के उपाय 

वैसे तो इसके लिए आपको तुरंत डाक्‍टर से सलाह लेकर दवा की मदद लेनी चाहिए, लेकिन हम यहां आपको पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन से बचने के कुछ घरेलू उपाय बता रहे हैं। 

  • नमक के सेवन को कम कर देना चाहिए क्‍योंकि यह ब्‍लड प्रेशर का सबसे बड़ा दुश्‍मन है। 
  • लहसुन की कलियां चबाएं, यह आपके खून के थक्‍के नहीं जमने देगी और कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल रखेगी। 
  • आधा कप आंवले का रस शहद मिलाकर सुबह और शाम पिएं ब्‍लड प्रेशर कंट्रोल में रहेगा। 
  • तरबूज के बीज और खसखस को पीसकर रोजाना 1 चम्‍मच खाएं। 
  • तुलसी और नीम के पत्‍तों को पीसकर इसका रस पानी में मिलाकर खाली पेट पिएं। 

Read More Article On Other Diseases In Hindi 

Disclaimer