डॉक्टर स्वाति बाथवाल से जानें दादी मां के ऐसे नुस्खे, जो आपको रखेंगे हमेशा हेल्दी

आधुनिक समय में, भले ही हम अपने पूर्वजों द्वारा अनुसरण की गई स्वास्थ्य प्रथाओं को नहीं अपनाते हैं, पर अगर हम ये करें तो ज्यादा स्वास्थ रह सकते हैं।

 
स्वाती बाथवाल
Written by: स्वाती बाथवालPublished at: Feb 26, 2020Updated at: Feb 26, 2020
डॉक्टर स्वाति बाथवाल से जानें दादी मां के ऐसे नुस्खे, जो आपको रखेंगे हमेशा हेल्दी

आज के आधुनिक समय में हमारे दादा-दादी द्वारा पालन किए जाने वाले नियम लगभग गायब ही हो गए हैं। वहीं हमारी इस आधुनिक लाइफस्टाइल के कारण ही मधुमेह, उच्च रक्तचाप, कैंसर, उच्च कोलेस्ट्रॉल, गठिया और कई खराब लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियां बढ़ रही हैं। वहीं अगर हम अब भी अपने पूर्वजों द्वारा पालन किए गए भोजन साधनओं या नियामाओं को मामना शुरू कर दें, तो कई तरह की बीमारियों से बच सकते हैं। पर हम में से कितनों को पता भी नहीं होगा कि वो नियम थे क्या, जिन्हें पूर्वज अपने जीवन में पालन किया करते थे। आइए आज हम खानत-पान से जुड़ी कुछ ऐसे ही नियमों को जानेंगे, जिन्हें हमने आधुनिक समय में बंद कर दिया है।

inside_BAIYHKARKHANA

भोजन करते समय मौन मुद्रा धारण करें

खाने के साथ हमारी भावनाएं जुड़ी होता हैं। वहीं हमारा भोजन कैसे पचता है, उसमें एक मुख्य भूमिका निभाती है। उदाहरण के लिए, जब आप खुश होकर मीठा खाते हैं, तो यह हमारे पाचन तंत्र द्वारा पचा लिया जाता है। वहीं अगर आप परेशान हैं या अगर आप नकारात्मक सोच रहे हैं, तो ये पच नहीं पाता है। इसलिए, हमें अपने भोजन करते समय हमेशा मौन की कला को बनाए रखना चाहिए। अगर आप चुप नहीं रह सकते, तो बस अपने आसपास हल्के वार्तालाप करें। इसके साथ ही हमें फर्श पर सीधे बैठने और जमीन पर बर्तन कर खाने की कोशिश करनी चाहिए। खाने को ऐसे रखकर आप आगे झुककर खाएं। इस तरह ये खाने के सेवन को नियंत्रित करने में भी मदद करेगा। दरअसल बैठे हुए आगे झुककर खाने से ये दबाव खाने की मात्रा को सीमित करता है। हम में से बहुत से लोग फर्श पर नहीं बैठते हैं और इसका हर दिन अभ्यास नहीं करते हैं, तो उन्हें ये करने की कोशिश करनी चाहिए। वहीं हमें ये भी ध्यान में रखना चाहिए कि हमें तब तक खाना नहीं खाना चाहिए जब तक कि पूर्णता का एहसास न हो। हमेशा, अपने भोजन के बाद एक तिहाई पेट खाली छोड़ दें।

खाने में अंजुलि वाले नियम का पालन करें

अंजुलि से तात्पर्य उस मात्रा से है जिसे दो हाथों से पकड़कर एक साथ रखा जा सकता है। हमारे अपने हाथों से अनाज या सब्जियों की दो अंदुलि प्रकृति द्वारा हमारे पेट के लिए डिजाइन की गई हैं। नियम एक दिन में प्रत्येक वयस्क के लिए दो अंजुलि खाना और एक बच्चे के लिए एक अंजुलि खाना पर्याप्त है। यह खाने को नियंत्रण का एक उत्कृष्ट तरीका है।

inside_HANDRULE

माइक्रोवेव खाने के पोषक तत्वों को नष्ट कर देता है

हमारे पूर्वजों ने प्राकृतिक ईंधन का उपयोग ऊर्जा के स्रोत के रूप में किया था जैसे कि गाय की खाद या भोजन में सीधे कोयले का उपयोग। यह एक महान एंटीसेप्टिक लाभ था और ऊर्जा के इस रूप का उपयोग भोजन में पोषक तत्वों को बचाता है। जब हम माइक्रोवेव या बर्निंग स्टोव या इलेक्ट्रिक स्टोव का उपयोग करते हैं, तो हम भोजन में कई विटामिन और खनिज नष्ट कर देते हैं। विशेष रूप से, माइक्रोवेव, यह हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। यह भोजन की संरचना को विकृत करता है और इसकी सारी ऊर्जा को नष्ट कर देता है। माइक्रोवेव की तुलना ऊपर गैस से जलने वाला स्टोव अभी भी फायदेमंद है।

inside_MITTIKEBARTAN

 इसे भी पढ़ें: डॉक्टर स्वाति बाथवाल से जानें बालों के लिए कौन-से न्यूट्रीएंट्स हैं जरूरी

मसालों का इस्तेमाल पत्थर पर पीस कर करें

ताजे जड़ी बूटियों और मसालों का उपयोग हाथ से या पत्थर पीस कर करें। प्राचीन पत्थर पीसने की विधि का उपयोग हमारे शरीर में संज्ञानात्मक स्मृति को सक्षम करता है। वहीं पीसने से मसाला शुद्ध और ज्यादा फायदेमंद हो जाता है। वहीं जब आप पीसे हुए मसालों को सब्जियों में इस्तेमाल करते हैं, तो ये आपके घर की सुगंध हवा को शुद्ध करती है। इस तरह ये एक प्रकार का अरोमाथेरेपी भी है। साथ ही, ताजे मसालों का उपयोग इसके एंटीऑक्सीडेंट गुणों को बनाए रखने और हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में सक्षम बनाता है। शुद्ध या पारंपरिक अतिरिक्त वर्जिन या कोल्ड-प्रेस्ड तेल, घर का बना घी, सरसों का तेल, मूंगफली का तेल, तिल का तेल, नारियल का तेल, रिफाइंड या हाइड्रोजनीकृत तेलों का इस्तेमाल करते वक्त इस बात का ख्याल रखें कि तेल की गुणवत्ता हमारे हृदय स्वास्थ्य में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

भोजन अच्छी तरह चबा कर करें

चबाना आपके भोजन खाने का एक अनिवार्य पहलू है। क्या आप जानते हैं कि जब आप भोजन ठीक से चबाते हैं तो हम अपने भोजन को बेहतर तरीके से पचा सकते हैं। इस बारे में मत सोचें कि आपको अपना भोजन खत्म करने में कितना समय लगता है, बल्कि इस चबा-चबा कर आराम से खाएं।

inside_SEELPARMASALA

इसे भी पढ़ें: खुद से खाना पकाकर अपनी डाइट को बना सकते हैं हेल्‍दी, बता रही हैं डॉ. स्‍वाति बाथवाल

मिट्टी के बर्तनों में भोजन पकाएं या स्टोर करें

दादी और दादाजी ने मिट्टी के बर्तनों में भोजन या पकाया हुआ भोजन संग्रहीत किया। इसने न केवल हमारे भोजन को परजीवियों से दूर रखा बल्कि भोजन में पोषक तत्वों को संरक्षित किया। आधुनिक समय में हम अपने खाद्य पदार्थों को संग्रहीत करने के लिए प्लास्टिक के कंटेनरों का उपयोग करते हैं । इन प्लास्टिक लीचिस से BPA नामक एक रसायन होता है और स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। हमारे खाद्य पदार्थों को प्लास्टिक-मुक्त कंटेनरों में संग्रहीत किया जाना चाहिए और एल्यूमीनियम में पकाया नहीं जाना चाहिए। एल्युमीनियम रैप्स और प्लास्टिक रैप्स के बारे में सोचें जिन्हें हम अपनी रोजमर्रा की रसोई में इस्तेमाल कर रहे हैं। हमें खाना बनाने के लिए एल्युमिनियम से मुक्त बरतन या आयरन कढाई का इस्तेमाल करना चाहिए।

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer