Expert

एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों को कम करने में मददगार हैं ये 5 फूड्स, डाइट में करें शामिल

एंडोमेट्रियोसिस के कारण महिलाओं को पीरीयड्स में गंभीर दर्द और गर्भधारण करने में दिक्कत हो सकती है, जानें एंडोमेट्रियोसिस को मैनेज करने के लिए 5 फूड्स।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Apr 07, 2022Updated at: Apr 07, 2022
एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों को कम करने में मददगार हैं ये 5 फूड्स, डाइट में करें शामिल

एंडोमेट्रियोसिस एक बेहद दर्दनाक रोग है (What Is Endometriosis In Hindi)। यह समस्या तब पैदा होती है जब ओवरी, बाउल और पेल्विस की लाइनिंग के टिश्यू पर एंडोमेट्रियल टिश्‍यू का विकास होने लगता है। एंडोमेट्रियोसिस की स्थिति में गर्भाशय की लाइनिंग बनाने वाले टिश्यू से मिलता हुआ टिश्यू गर्भाशय से बाहर निकलने लगता है। एंडोमेट्रियोसिस के कारण (Endometriosis Causes In Hindi) महिलाओं को गंभीर दर्द का अनुभव होता है खासकर पीरियड्स के दौरान, साथ ही गर्भधारण करने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। लेकिन अच्छी बात यह है कि कुछ फूड्स एंडोमेट्रियोसिस को मैनेज करने में आपकी मदद कर सकते हैं। जी हां, आपने बिल्कुल सही पढ़ा!

फिटनेस एक्सपर्ट और डायटीशियन गरिमा गोयल (एमएस, आरडी, सीडीई) बताती हैं कि एंडोमेट्रियोसिस एक ऐसी स्थिति है जिसमें गर्भाशय की परत बनाने वाले टीश्यू का विकास होता है। अपने आहार में कुछ परिवर्तन करने से एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों (Endometriosis Symptoms In Hindi) को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है जैसे कि पैल्विक क्षेत्र में दर्द और पीरियड्स के दौरान दस्त आदि। इस लेख में हम आपको एंडोमेट्रियोसिस को मैनेज करने के लिए 5 फूड्स (Foods That Can Help Manage Endometriosis In Hindi) के बारे में बता रहे हैं।

एंडोमेट्रियोसिस को मैनेज करने के लिए 5 फूड्स (Foods That Can Help Manage Endometriosis In Hindi)

1. ओमेगा 3 फैटी एसिड रिच फूड्स (Omega-3 Rich Foods)

डायटीशियन गरिमा के अनुसार एंडोमेट्रियोसिस से पीड़ित महिलाओं की डाइट में पर्याप्त मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड रिच फूड्स को शामिल करके दर्द और सूजन की गंभीरता को कम किया जा सकता है। यह प्रोस्टाग्लैंडीन के उत्पादन के कारण होता है, जिसमें हार्मोन जैसे प्रभाव होते हैं। अपने आहार में मछली, मछली का तेल और अलसी के बीज जैसे ओमेगा रिच फूड्स को शामिल करने का प्रयास करें!

इसे भी पढें: इन बीमारियों से पीड़ित लोगों को नहीं करना चाहिए टमाटर का सेवन, हो सकता है नुकसान

2. फाइबर से भरपूर फूड्स (Fibre Rich Foods)

डायटीशियन गरिमा बताती हैं कि फाइबर शरीर से अतिरिक्त एस्ट्रोजन को निकालने में मदद करता है। एस्ट्रोजेन एक बहुत ही आवश्यक हार्मोन है, लेकिन यह बहुत अधिक एंडोमेट्रियोसिस में एक उत्तेजक कारक हो सकता है। यदि आपके आहार में फाइबर की मात्रा कम है, तो इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि आपको कब्ज है साथ ही आपके एस्ट्रोजन का स्तर सामान्य से अधिक है। सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त सलाद, हरी पत्तेदार सब्जियां और फल खाएं।

3. मैग्नीशियम से भरपूर फूड्स (Magnesium Rich Foods)

मैग्नीशियम मांसपेशियों को आराम देने वाले एजेंट के रूप में कार्य करता है और पीरियड्स के दौरान ऐंठन को कम करने में मदद कर सकता है। कुछ मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों में डार्क चॉकलेट, हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स और बीज शामिल हैं। सुनिश्चित करें कि आप अपने आहार से पर्याप्त मैग्निशियम प्राप्त कर रहे हैं।

4. जिंक रिच फूड्स (Zinc Rich Foods)

डायटीशियन गरिमा के अनुसार जब आपके मासिक धर्म चक्र को प्रबंधित करने की बात आती है तो जिंक एक महत्वपूर्ण मिनरल है। यह प्रोजेस्टेरोन उत्पादन को बढ़ावा देकर हार्मोनल संतुलन में मदद करता है, जो अंततः शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर को संतुलित करेता है। यह हार्मोनल संतुलन बनाए रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, खासकर यदि आप एंडोमेट्रियोसिस से पीड़ित हैं। समुद्री भोजन, चिकन, बीन्स जैसे फूड्स को डाइट में शामिल करने पर विचार करें। अगर आपके शरीर में जिंक की कमी है तो आप अपने डॉक्टर से सलाह लेकर कुछ सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।

इसे भी पढें: वजन घटाने के लिए पपीता कैसे खाएं? जानें वेट लॉस डाइट में कैसे शामिल करें पपीता

5. कम FODMAP वाला आहार

डायटीशियन गरिमा कम FODMAP (fermentable oligo-, di-, mono-saccharides, and polyols) वाला आहार आंतों की परेशानी के लक्षणों को कम करने के लिए इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS) वाले लोगों के लिए है, क्योंकि IBS वाले लोगों में एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों की गंभीरता बढ़ सकती है। इस डाइट में आपको गेहूं, राई, फलियां, लहसुन, प्याज, दूध, दही, नरम पनीर, शहद, कम कैलोरी वाले मिठास और कुछ विशिष्ट फलों जैसे खाद्य पदार्थों से बचना होता है। इसलिए यदि आप एंडोमेट्रियोसिस के साथ-साथ एक संवेदनशील आंत से पीड़ित हैं, तो कम FODMAP वाला आहार वास्तव में संबंधित लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।

All Image Source: Freepik.com

(With Inputs Dietitian And Diabetes Educator Garima Goyal, MS, RD, CDE- Dt. Garima Diet Clinic Ludhiana, Punjab)

Disclaimer