त्‍वचा की इन 5 समस्‍याओं को खुद सुलझायें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 05, 2014
Quick Bites

  • मायो क्‍लीनिक के अनुसार एक्ने की समस्‍या बहुत सामान्‍य है।
  • एथलीट फूट और जॉक इचिंग त्‍वचा खमीर संक्रमण से होता है।
  • वार्ट्स और रेजर बर्न जैसी त्‍वचा की समस्‍या भी शामिल है।
  • एंटी-फंगल क्रीम के प्रयोग से हो सकता है समस्‍या का उपचार।

त्‍वचा की समस्‍यायें से सभी ग्रस्‍त होते हैं, और कई समस्‍यायें तो ऐसी भी हैं जो बार-बार होती हैं जैसे- एलर्जी, एक्‍ने, संक्रमण आदि। कए शोध की मानें तो सबसे ज्‍यादा लोग त्‍वचा की 5 समस्‍याओं के कारण चिकित्‍सक के पास जाते हैं।

मायो क्‍लीनिक द्वारा कराये गये शोध के अनुसार अन्‍य बीमारियों की तुलना में त्‍वचा की समस्‍या के कारण लोग चिकित्‍सक के पास जाते हैं। मायो क्‍लीनिक ने 2005 से 2009 के बीच शोध के बाद यह परिणाम निकाला। इस शोध में यह निष्‍कर्ष निकला कि त्‍वचा की समस्‍यायें, जोड़ों की समस्‍यायें और कमरदर्द 3 प्रमुख बीमारियां हैं जिसके कारण लोग चिकित्‍सक के पास अधिक जाते हैं।

लेकिन क्‍या आपको पता है कि त्‍वचा की कई ऐसी समस्‍यायें हैं जिनका उपचार आप खुद से आसानी से कर सकते हैं, यदि आपको उस बीमारी के बारे में जानकारी है तो उपचार में समस्‍या नहीं होती है। इस लेख में हम त्‍वचा की 5 समस्‍याओं के बारे में आपको जानकारी दे रहे हैं जिनका उपचार आप आसानी से कर सकते हैं।

DIY Skin Fixes

एथलीट फुट

यह पैरों की उंगलियों में होने वाली समस्‍या है जो खमीर के सतही संक्रमण के कारण होता है। यह संक्रमण सार्वजनिक जगहों के प्रयोग के कारण अधिक होता है, जैसे - सार्वजिनक शॉवर के इस्‍तेमाल के समय, सार्वजनिक लॉक-अप का प्रयोग, आदि के कारण होता है। यदि इस संक्रमण के फैलने के दौरान ही उपचार कर लें तो यह गंभीर समस्‍या नहीं बनता है। इस संक्रमण को रोकने के लिए एंटी-फंगल क्रीम का प्रयोग कीजिए। यदि इसका समय पर उपचार न किया जाये तो यह दर्दनाक हो सकता है, इसके कारण उंगलियों में सूजन भी हो सकती है। लेकिन यह समस्‍या अगर 2 सप्‍ताह से ज्‍यादा समय तक रहे तो चिकित्‍सक से जरूर मिलें।


जॉक खुजली

एथलीट फुट और जॉक खुजली वास्तव में एक ही कवक के कारण होते हैं। लेकिन त्‍वचा की यह समस्‍या उन लोगों को ज्‍यादा होती है जिनको पसीना अधिक होता है यानी जिम जाने वालों को यह समस्‍या अधिक हो सकती है। लेकिन यदि एंटी-फंगल क्रीम का प्रयोग यदि किया जाये तो इस समस्‍या से निजात पायी जा सकती है। लेकिन इस समस्‍या से बचने के लिए आपको कमर और उसके आस-पास के हिस्‍सों को सूखा रखने की जरूरत है। इसलिए वर्कआउट के बाद कमर के पसीने के पोंछ लीजिए।


मुहांसे की समस्‍या

यह त्‍वचा की आम समस्‍या है जो किशोरों में ज्‍यादातर देखी जाती है। त्‍वचा विशेषज्ञों की मानें तो सेलीसिलिक (चिरायता) एसिड युक्‍त फेसवास का प्रयोग करके मुहांसों को होने से रोका जा सकता है। यदि आपको मुहांसे हो भी गये हैं तो इसके प्रयोग से कुछ दिनों में ठीक भी हा जायेंगे। इसके अलावा बाहर से आने के बाद अपनी मुंह को अच्‍छे से साफ कीजिए, क्‍योंकि पसीना, धूल और त्‍वचा के तैलीय होने के कारण भी मुहांसे होते हैं।

5 DIY Skin Fixes

वार्ट्स

वार्ट्स एचपीवी के कारण होने वाली त्‍वचा की समस्‍या है। लेकिन यह समस्‍या शरीर के अन्‍य हिस्‍सों की तुलना में हाथों और पैरों को ज्‍यादा प्रभावित करती है। इसके उपचार के कई तरीके हैं, जैसे - लेजर थेरेपी, इम्‍यूनोथेरेपी, सेलीसिलिक ऐसिड का प्रयोग, आदि। लेकिन इस समस्‍या की खास वजह यह भी है कि यह अपने आप भी ठीक हो जाता है।


रेजर बर्न

यह समस्‍या पुरुषों में होती है, और यह शेविंग के वक्‍त यह समस्‍या अधिक होती है। इसके कारण गालों पर और गले पर लाल चकत्‍ते हो सकते हैं। नहाने के बाद यदि शेविंग की जाये तो यह समस्‍या नहीं होती है, क्‍योंकि इस दौरान बाल मुलायम हो जाते हैं और शेविंग करने में अधिक दिक्‍कत नहीं होती है। इसके अलावा अच्‍छे किस्‍म के शेविंग किट का प्रयोग कीजिए।

यदि त्‍वचा की इन सामान्‍याओं का उपचार आपने खुद से कर लिया तो हो आपको डॉक्‍टर की क्‍लीनिक के चक्‍कर कम लगाने पढ़ेंगे। यदि आपके द्वारा किये गये जतन इनपर बेअसर हैं तो चिकित्‍सक से परामर्श लीजिए।

 

Read More Articles on Skin care in Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES131 Votes 4883 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK