Fact Check: क्या पीरियड्स में बाल नहीं धोना चाहिए? जानें क्या है दावे की सच्चाई

क्या पीरियड्स के दौरान बाल धोने से शरीर को नुकसान होता है? क्या इस बात में किसी तरह की सच्चाई है? आइए डॉक्टर से जानते हैं इसके बारे में-

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jun 30, 2022Updated at: Jun 30, 2022
Fact Check: क्या पीरियड्स में बाल नहीं धोना चाहिए? जानें क्या है दावे की सच्चाई

पीरियड्स आज के समय में भी एक ऐसा विषय है, जिसके बारे में लोग खुलकर बात करना पसंद नहीं करते हैं। इसलिए कई लोगों में पीरियड्स को लेकर आज भी कई तरह के भ्रम बने हुए हैं। आज के दौर में भी लोग पुराने समय से चली आ रही दकियानूसी मान्यताओं को  फॉलो कर रहे हैं, जिनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं  है, जैसे- पीरियड्स के दौरान अचार छूने से अचार खराब हो जाते हैं, पीरियड्स के दौरान किचन नहीं जाना चाहिए इत्यादि। ऐसी ही एक और मान्यता देश के कुछ हिस्सों में बड़ी प्रचलित है कि पीरियड्स के दौरान बाल नहीं धोना चाहिए। 

ओनलीमायहेल्थ की स्पेशल Fact Check सीरीज 'धोखा या हकीकत' में आज हम   इसी मान्यता की सच्चाई मेडिकल एक्सपर्ट से जानेंगे  कि क्या वाकई पीरियड्स के दौरान बाल नहीं होना चाहिए? क्या सच में बाल धोने से शरीर को किसी तरह का नुकसान पहुंचता है?  इस बारे में जानने के लिए ओनलीमायहेल्थ ने बात की चंडीगढ़ स्थित  क्लाउडनाइन हॉस्पिटल की गायनाकोलॉजिस्ट डॉक्टर प्रज्ञा सिंह से। आइए जानते हैं कि उन्होंने हमें क्या बताया।

पीरियड्स में बाल धोने को लेकर क्या हैं दावे?

पीरियड्स के दौरान बाल नहीं होना चाहिए- इस बारे में  कई  तरह की बातें कही जाती हैं। इनमें से एक दावा है कि, “पीरियड्स के शुरुआती दिनों में बाल नहीं धोने चाहिए क्योंकि इन दिनों में महिलाओं के शरीर का तापमान काफी ज्यादा रहता है। ऐसे में अगर महिलाएं बीच में बाल धोती हैं, जो इससे शरीर का तापमान कम हो जाता है, जिसकी वजह से ब्लीडिंग खुलकर नहीं होती है। ऐसे में महिलाओं को आंतरिक रूप से कई तरह की परेशानी बढ़ने का खतरा रहता है।” 

इसे भी पढ़ें - Fact Check: क्या खड़े होकर पानी पीने से वाकई घुटने खराब होते हैं? जानें इस दावे की सच्चाई

पीरियड्स में बाल न धोने के इस दावे की सच्चाई क्या है?

डॉ. प्रज्ञा बताती हैं, “पीरियड्स में बाल नहीं धोना चाहिए, यह पुराने समय से चली आ रही मान्यताओं में शामिल है। पुराने समय में कई तरह की असुविधाएं थी, जैसे- नहाने के लिए महिलाओं को नदी, तलाब या फिर खुले में जाना पड़ता था। ऐसे में पीरियड्स के दौरान महिलाओं को बाहर जाने के लिए मना किया जाता था, ताकि उन्हें इस दौरान शारीरिक रूप से किसी तरह की परेशानी न हो। इसलिए पीरियड्स में उन्हें बाल न धोने के लिए कहा जाता था। यह सिर्फ महिलाओं की सुविधा के लिए शुरू किया गया था। वैज्ञानिक रूप से इसका कोई आधार नहीं है। चूंकि पहले के समय में लोग नदी का पानी पीने के लिए भी इस्तेमाल करते थे, इसलिए यह भी एक कारण हो सकता है कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं के नहाने को गलत समझा जाता रहा हो। दरअसल पीरियड्स के दौरान निकलने वाले ब्लड में कई बैक्टीरिया होते हैं, जो नदी या तालाब के पानी को दूषित कर सकते हैं। 

डॉक्टर प्रज्ञा बताती हैं कि यह एक आम मिथक है। पीरियड्स के दौरान किसी भी समय  आप अपने बालों को धो  सकती हैं। इस दौरान नहाने या बाल धोने से महिलाओं को किसी तरह की परेशानी नहीं होती है,  बल्कि यह उनके स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है। इससे बैक्टीरियल समस्याएं होने का खतरा कम रहता है। पीरियड्स में महिलाओं को साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। 

पीरियड्स के दौरान बाल धोने से या फिर नहाने से होते हैं कुछ फायदे

  • पीरियड्स के दौरान शरीर को स्वस्थ रखने के लिए नहाना जरूरी होता है। इससे आपको कुछ फायदे हो सकते हैं।
  • पीरियड्स के दौरान शरीर को स्वस्थ रखने से स्किन में जलन और संक्रमण पनपने का खतरा कम रहता है। 
  • बाल धोकर नहाने से स्ट्रेस फ्री महसूस होता है। यह आपकी तनावग्रस्त मांसपेशियों को आराम दे सकता है। इसके साथ ही पीरियड्स के दौरान हो रही ऐंठन और अन्य मासिक धर्म के लक्षण जैसे- सिरदर्द और पीठ के निचले हिस्से में दर्द से राहत मिल सकता है। 

पीरियड्स के दौरान बाल नहीं धोना चाहिए, यह सिर्फ एक मिथक है। इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। आपको पीरियड्स के दौरान सामान्य दिनों से ज्यादा साफ-सफाई का ध्यान रखने की जरूरत होती है, इसलिए इस दौरान नहाना आपके लिए फायदेमंद है, न कि नुकसानदायक। हालांकि, ध्यान रखें कि इस दौरान कभी भी खुले में खासतौर पर- नदी, तलाब में नहाने से बचें। इससे आपके स्वास्थ्य के साथ-साथ पर्यावारण को स्वच्छ रखने में मदद मिल सकती है। 

 
Disclaimer