Fact Checked

Fact check: क्या एयरपोड का इस्तेमाल करने की वजह से ब्रेन ट्यूमर होता है? जानें एक्सपर्ट से

Do Airpods Cause Brain Tumour: आजकल युवाओं के बीच एयरपोड का इस्तेमाल काफी बढ़ गया है। 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasUpdated at: Dec 08, 2022 18:23 IST
Fact check: क्या एयरपोड का इस्तेमाल करने की वजह से ब्रेन ट्यूमर होता है? जानें एक्सपर्ट से

Do Airpods Cause Brain Tumour in Hindi : आजकल मेट्रो में, बस में, रास्ते में चलते हुए, ऑफिस में काम करते हुए, यहां तक की घर पर टीवी देखने के लिए भी लोग अब एयरपॉड्स का इस्तेमाल करने लगे हैं। मोबाइल, टीवी, लैपटॉप में ब्लूटूथ के जरिए आसानी से कनेक्ट होने वाले एयरपॉड्स को लेकर सोशल मीडिया साइट्स पर एक पोस्ट वायरल हो रहा है। इस पोस्ट में दावा किया गया है कि एयरपॉड्स का इस्तेमाल करने से ब्रेन ट्यूमर जैसी खतरनाक बीमारी हो सकती है। इस दावे को पुख्ता करने के लिए सोशल मीडिया पोस्ट में एक अखबार की कटिंग भी डाली गई है, जिसमें लिखा हुआ है कि 250 से ज्यादा वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि एयरपॉड्स का इस्तेमाल करने की वजह से ब्रेन ट्यूमर और कैंसर जैसी बीमारी हो सकती है। 

सेहत और खानपान से जुड़ी ऐसी बातों की सच्चाई बताने के लिए हम 'धोखा या हकीकत' नाम से एक सीरीज चला रहे हैं। इसके तहत हम आपको ऐसी ही बातों की सच्चाई डॉक्टर या एक्सपर्ट के जरिए देने की कोशिश कर रहे हैं। ओनलीमायहेल्थ की स्पेशल Fact Check सीरीज 'धोखा या हकीकत' में आइए जानते हैं, क्या एयरपॉड्स का इस्तेमाल करने की वजह से ब्रेन ट्यूमर होता है? आइए जानते हैं इसकी सच्चाई।

इसे भी पढ़ेंः क्या कोरोना वैक्सीन की वजह से लोगों को आ रहे हैं हार्ट अटैक? जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

Can Using Airpods Cause Brain Tumors?

क्या एयरपॉड्स का इस्तेमाल करने की वजह से ब्रेन ट्यूमर होता है? - Can Using Airpods Cause Brain Tumors?

इंटरनेशनल कमीशन ऑफ नॉन-आयोनाइजिंग रेडिएशन प्रोटेक्शन (आईसीएनआईआरपी) और ऑस्ट्रेलियन सेंटर फॉर इलेक्ट्रोमैग्नेटिक बायो इफेक्ट्स रिसर्च (एसीईबीआर) की डायरेक्टर प्रोफेसर रोडनी क्रॉफ्ट का कहना है, सोशल मीडिया पर एयरपॉड्स और ब्लूटूथ सिग्नल दिमाग को प्रभावित कर रहे हैं और इससे ब्रेन ट्यूमर जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है इस तरह की खबरों में बिल्कुल भी सच्चाई नहीं है। उन्होंने कहा, 'रेडियो फ्रीक्वेंसी विकिरण जो एयरपॉड्स के ब्लूटूथ से आता है (ये मोबाइल फोन, टीवी और रेडियो टावर, बेबी मॉनिटर आदि से मिलता-जुलता है) वो किसी भी तरह के ब्रेन ट्यूमर या कैंसर का कारण नहीं बन सकता है। प्रोफेसर रोडनी का कहना है कि कुछ मामलों में लगातार 5 से 6 घंटों तक एयरपॉड्स या ब्लूटूथ का इस्तेमाल करने की वजह से कानों में सूजन और दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं। क्योंकि लगातार एयरपॉड्स का इस्तेमाल करने से डिवाइस गर्म हो जाता है और कानों को नुकसान पहुंचा सकता है। 

क्या है इस दावे पर न्यूरोलॉजिस्ट की राय?

क्या एयरपॉड्स का इस्तेमाल करने की वजह से ब्रेन ट्यूमर हो सकता है इस दावे में कितनी सच्चाई है इसको जानने के लिए हमने न्यूरोलॉजिस्ट से भी बातचीत की। दिल्ली स्थित महाराजा अग्रसेन अस्पताल के वरिष्ठ सलाहकार न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. अभिषेक जुनेजा ने एक रिसर्च का हवाला देते हुए कहा कि एयरपॉड्स या किसी भी ब्लूटूथ डिवाइस का इस्तेमाल करने की वजह से ब्रेन ट्यूमर या कैंसर हो सकता है इसकी पुख्ता जानकारी नहीं है। डॉ. अभिषेक जुनेजा ने कहा कि एयरपॉड्स के इस्तेमाल से किसी भी तरह के हानिकारक विकिरण का उत्सर्जन नहीं देखा गया है, जिससे दिमाग पर किसी तरह का असर हो। इसलिए इस दावे में सच्चाई न के बराबर है। 

इसे भी पढ़ेंः अरहर की दाल का पानी है सेहत का खजाना, पीने से मिलते हैं ये 4 फायदे

एयरपॉड्स का इस्तेमाल करते वक्त ध्यान रखें ये बातें

  • दोनों एयरपॉड्स का इस्तेमाल करते समय साउंड को नॉर्मल रखें। 
  • अपने एयरपॉड्स या हेडफोन किसी के साथ शेयर करने से बचें।
  • एयरपॉड्स को बहुत ज्यादा कानों के अंदर एडजस्ट न करें। 
  • ऑनलाइन क्लासेस या सेशन्स की इंटेंसिटी थोड़ी कम रखें। ज्यादा इंटेंसिटी सुनने की क्षमता पर असर डाल सकती है।
  • ईयरफोन या एयरपॉड्स कभी भी लोकल बाजार के इस्तेमाल न करें। 

एयरपॉड्स का इस्तेमाल करने की वजह से ब्रेन ट्यूमर जैसी बीमारी हो सकती है इसके बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं है। अगर आप सेहत या खानपान से जुड़ी ऐसी किसी जानकारी पर फैक्ट चेक चाहते हैं तो हमें कमेंट बॉक्स या मेल में बताएं। हम अपने एक्सपर्ट और डॉक्टरों से आपके सवाल का जवाब जानने की कोशिश करेंगे।

(Image Courtesy: Freepik.com) 

 

 

 

 

 

 

Disclaimer