Tea For Nausea: जी मिचलाना या उल्‍टी आने पर राहत पाने के लिए असरदार हैं ये 5 चाय

यदि आपको भी जी मिचलाना या मिचली महसूस होती है, तो आप इन हर्बल टी की मदद से मिचली में राहत पा सकते हैं। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Jan 14, 2020 11:38 IST
Tea For Nausea: जी मिचलाना या उल्‍टी आने पर राहत पाने के लिए असरदार हैं ये 5 चाय

जानते हैं कि डॉक्टर आपको बीमार होने पर तरल पदार्थ पीने की सलाह क्‍यों देता है? क्या आप इसके पीछे का कारण जानते हैं? अधिकांश स्वास्थ्य समस्याओं का मुख्य कारण निर्जलीकरण यानि डिहाइड्रेशन होता है। मतली के मामले में, यह चक्कर आना, बुखार, उल्टी, आदि साथ लाता है, जो शरीर के द्रव का नुकसान करता है। इस प्रकार, जब भी आपको मिचली महसूस होती हैं, तो ऐसे में शरीर को हाइड्रेट करना आवश्यक हो जाता है।

कुछ लोगों में नियमित दूध या चाय पीने की आदत होती है , जिसके बाद अक्‍सर वे मिचली महसूस करते हैं। लेकिन हमारे पास आपके लिए कुछ बेहतर और स्वस्थ चाय के विकल्प हैं। जिसमें अदरक की चाय, पुदीने की चाय, कैमोमाइल चाय जैसे कुछ हर्बल चाय हैं, जो न केवल मतली से राहत देते हैं, बल्कि विभिन्न शारीरिक और मानसिक समस्‍याओं को भी दूर करते हैं। इनमें से ज्यादातर को घर पर आसानी से बनाया जा सकता है। आइए यहां हम आपको उन चाय के बारे में बताते हैं। 

पुदीने की चाय

Peppermint Tea

पुदीने में एंटी बैक्‍टीरियल गुण होते हैं, जो शरीर में हानिकारक बैक्‍टीरिया को मारते हैं। पुदीने की चाय मतली के साथ-साथ अन्य समस्याओं से राहत पाने में भी मददगार है। पुदीने की चाय पीने से पेट की समस्याओं को ठीक करने और डिहाइड्रेशन को दूर करने में मदद मिलती है। इस चाय के सेवन से बेचैनी को कम करने और मतली के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है।

मुलेठी की चाय 

Mulethi Tea

मुलेठी भी कई औषधीय गुणों से भरपूर होती है। मुलेठी की जड़ की चाय पीने से आपको कई अद्भुत लाभ मिलते हैं। इस चाय को बनाने में मुलेठी की जड़ का उपयोग किया जाता है। जबकि इस जड़ का उपयोग स्वाद बढ़ाने वाले तत्व के रूप में भी किया जाता है। मुलेठी की चाय आपकी मितली की समस्या का समाधान है। इस चाय के एंटी बैक्‍टीरियल गुण चक्कर आना और उल्टी सहित समस्याओं से निपटने में मदद करते हैं और पेट को डिटॉक्‍स करने में मदद करते हैं।

इसे भी पढें: सर्दियों में गर्माहद देने के साथ कई तरीके से फायदेमंद हैं रोज, मोरिंगा और हिबिस्कस टी

नींबू की चाय

Lemon Tea

नींबू की चाय स्‍वाद में हल्‍की खट्टी और स्वादिष्ट होती है। यह न केवल हैंगओवर को ठीक करने में मदद करती है, बल्कि मिचली को भी दूर करती है। क्‍योंकि इसमें साइट्रिक एसिड होता है, जो पेट की गड़बड़ी को दूर और पाचन को बढ़ावा देता है। इस चाय को पीने से बेचैनी को दूर करने के लिए मल त्याग में बढ़ावा मिलेगा। यह शरीर को विषैले तत्वों को बाहर निकालने के लिए डिटॉक्‍स करती है।  

अदरक की चाय 

अदरक की चाय एक वरदान समान है, जो कि एक नहीं, अनेकों स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को दूर करने में मददगार है। इसमें अद्भुत औषधीय गुण हैं, जिसकी वजह से यह मतली के इलाज में भी कारगर साबित होती है। गर्म अदरक की चाय पीने से पेट साफ होता है, जो अंततः बेचैनी और मतली के लक्षणों को कम करती है।

इसे भी पढें: इन 5 कारणों से आपके लिए फायदेमंद है कपूर का तेल, जानें कैसे करें इस्‍तेमाल

Chamomile Tea

कैमोमाइल टी  

कैमोमाइल टी एक हर्बल टी है, जो कई औषधीय गुण रखती है। यह ऐसी चाय है, जो पेट की मांसपेशियों को शारीरिक तनाव और मांसपेशियों के तनाव को कम करने में मदद करती है। इसके अलावा, इस ऑर्गेनिक चाय की सुगंध मन को शांत और तनाव को कम करने में मदद करती है।

Read More Article On Home Remedies In Hindi 

Disclaimer