2 ग्लास से ज्‍यादा सॉफ्ट ड्रिंक्‍स पीना है समय से पहले मौत को बुलावा : स्‍टडी

आजकल बच्‍चे हों या बड़े सभी सॉफ्ट ड्रिंक्‍स को काफी पसंद करते हैं। ऐसे में बहुत से लोग ऐसे भी है, जो हर दिन सॉफ्ट डिंक्‍स पीते हैं लेकिन हालिया अध्‍ययन ने आपकी इस आदत को समय से पहले मौत का बुलावा माना है।  

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Sep 06, 2019Updated at: Sep 06, 2019
2 ग्लास से ज्‍यादा सॉफ्ट ड्रिंक्‍स पीना है समय से पहले मौत को बुलावा : स्‍टडी

आप में से बहुत से लोग कोल्‍ड ड्रिंक या सॉफ्ट ड्रिंक को सुरक्षित समझते हैं, जिसके चलते आप न केवल खुद कोल्‍ड ड्रिंक पीते हैं, बल्कि अपने बच्‍चों को भी इसकी आदत डलवा देते हैं। जबकि क्‍या आप जानते हैं कि कोल्‍ड ड्रिंक या सॉफ्ट ड्रिंक के पीछे का सच क्‍या है? अगर नहीं, तो हाल में आए अध्‍ययन को जरूर पढ़ें...जिसके मुताबिक, कोल्‍ड ड्रिंक यहां तक कि शुगर फ्री सॉफ्ट ड्रिंक भी समय से पहले मौत का कारण बन सकती है। 

कोल्ड ड्रिंक या सॉफ्ट ड्रिंक बन सकती है मौत का कारण 

जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन में प्रकाशित एक नए शोध के अनुसार, प्रतिदिन दो या उससे अधिक गिलास कोल्‍ड ड्रिंक या सॉफ्ट ड्रिंक पीने वाले लोगों में मृत्यु दर का खतरा उन लोगों की तुलना में अधिक था, जिन्होंने हर महीने एक गिलास से कम कोल्‍ड ड्रिंक या जो सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन नहीं करते हों। 

 

अध्ययन, यूरोप में दस देशों के 451,743 पुरुषों और महिलाओं को ट्रैक करते हुए किया गया। जिसमें यह पाया गया कि एक दिन में कोल्‍ड ड्रिंक या शुगर फ्री सॉफ्ट ड्रिंक दो या उससे अधिक गिलास पीने से कई हृदय संबंधी रोग, स्ट्रोक से मृत्‍यु से जुड़ा है। जबकि वहीं शु्गरी सॉफ्ट ड्रिंक यदि दिन में एक या उससे अधिक पिया जाए, तो पाचन संबंधी रोगों और उससे होने वाली मौतों से जुड़ा है। जिसमें लिवर, अपेंडिक्स, पैंक्रियाज और आंतों के रोग शामिल थे।

अध्‍ययन के अनुसार

JAMA Internal Medicine नाम की एक पत्रिका में प्रकाशित अध्‍ययन के अनुसार,  इंपीरियल कॉलेज लंदन के जोनाथन पीयर्सन ने बताया, अध्‍ययन से पता चलता है कि शुगरी सॉफ्ट ड्रिंक या शुगर फ्री सॉफ्ट ड्रिंक्स और मौत के सामान्य कारण जैसे दिल की बीमारी और स्ट्रोक का आपस में संबंध है। हालांकि इस अध्‍ययन से सामने आये परिणामों के अनुसार, सॉफ्ट ड्रिंक से समय से पहले मौत का संबंध है। लेकिन शोधकर्ताओं का मानाना है कि इस पर अभी और अध्‍ययन की आवश्‍यकता है।

इसे भी पढें: अस्थमा (दमा) को नियंत्रित करने में मददगार है अस्‍थमा ट्यूनर मोबाइल ऐप: स्‍टडी

शोधकर्ता नील मर्फी ने बताया, अध्‍ययन में पाया गया कि सॉफ्ट ड्रिंक का कम सेवन करने वालों की तुलना में ज्यादा सेवन करने वालों की अस्‍वस्‍थ स्‍वास्‍थ्‍य, रोगों और समय से पहले मौत का खतरा ज्यादा होता है। लेकिन ऐसा नहीं है कि सिर्फ सॉफ्ट ड्रिंक ही जल्‍दी मौत का कारण हैं।

Read More Article On Health News In Hindi

Disclaimer