आंखों की देखभाल के लिए मॉइस्चराइजर से ज्यादा जरूरी है आई क्रीम, जानें इस्तेमाल करने का सही तरीका

आंखों के नीचे काले घेरे जीन, यूवी रेज, उम्र और कई अन्य कारणों से हो सकते हैं। ऐसे में सोडियम एस्कॉर्बेट और विटामिन सी जैसे तत्व काफी फायदेमंद हैं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Mar 19, 2020
आंखों की देखभाल के लिए मॉइस्चराइजर से ज्यादा जरूरी है आई क्रीम, जानें इस्तेमाल करने का सही तरीका

त्वचा की देखभाल की बात आती है, तो सभी अपने-अपने स्तर पर स्किन की देखभाल के लिए कुछ न कुछ करते ही हैं। वहीं स्किन की देखभाल की बात आते ही ज्यादातर लोग बुनियादी रूप से मुंह धोने और किसी न किसी क्रीम का ही इस्तेमाल करते हैं। वहीं जब बात आंखों की आती है, तो हम अक्सर मॉइस्चराइज के इस्तेमाल तक ही सीमित रह जाते हैं। जबकि आखों के आस-पास की त्वचा आपकी त्वचा के बाकी हिस्सों की तुलना में तेजी से खराब होती है और इसलिए जरूरी है कि आंखों के आस-पास की त्वचा का खास ख्याल रखा जाए। आंखों की देखभाल के लिए आप आई क्रीम का इस्तेमाल कर सकते हैं, जो कि विशेष रूप से आपकी आंखों के आसपास के क्षेत्र के लिए बनाया गया है। आई क्रीम आंखों के पास की त्वचा को हाइड्रेट और फिर से भरने में मदद करता है, जिससे यह नरम और कोमल रहते हैं। वहीं इसे इस्तेमाल करने के कई और फायदें भी हैं। आइए विस्तार से जानते हैं इसके बारे में। 

insideeyecream

क्या है आई क्रीम?

आइ क्रीम उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। आंखों की क्रीम के साथ नियमित मालिश करने से पफी और थकी हुई आंखों को आराम मिलता है। आंखों की क्रीम विशेष रूप से आंख के चारों ओर की नाजुक त्वचा के लिए बनाई जाती है, इसलिए वे अधिक मोटी होती हैं। उनमें एक नियमित रूप से चेहरे के लोशन की तुलना में अधिक तेल होता है और ये हमारे पास आंखों के आसपास दिखाई देने वाली समस्याओं के उद्देश्य से बहुत सारे सक्रिय तत्व के साथ पाए जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: आंखों की देखभाल के लिए क्‍या करें और क्‍या न करें, जानें ये 10 बातें

यह एक नियमित फेस मॉइस्चराइजर से कितना अलग है?

क्रीम विशिष्ट त्वचा की स्थिति को पूरा करने के लिए डिजाइन किए जाते हैं। लेकिन एक मॉइस्चराइज़र का मुख्य कार्य हाइड्रेशन को बढ़ाना और बनाए रखना होता है, यह सुनिश्चित करना कि किसी ने त्वचा का पानी बना रहे। इसका मतलब यह है कि यह शरीर पर कहीं भी इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि, जब यह क्रीम की बात आती है, तो वे विशेष रूप से आपकी आंखों के पास की त्वचा के लिए डिजाइन की जाती हैं, जो बेहद नाजुक होती है। ये आपके आंखों के आसपास के सूखापन और झुर्रियों से लड़ने के लिए बनाया जाता है। एक आंख वाली क्रीम की प्रमुख विशेषताएं ये होती हैं कि ये आंख के आस-पास के स्किन के लिए एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम करते हैं, जो सामान्य मॉइस्चराइजर नहीं करते हैं।

आई क्रीम में कौन से तत्व होते हैं?

हयालूरोनिक एसिड के साथ समृद्ध आई क्रीम सबसे अच्छी तरह से काम करती हैं। वहीं उम्र बढ़ने के साथ जहां झुर्रियों और आंखों के आसपास सूखापन आ जाता है, वहां हयालूरोनिक एसिड त्वचा को हाइड्रेट रखता है। रेटिनॉल भी इसका एक प्रमुख तत्व है, जो झुर्रियों को कम करने में मदद कर सकती है। वहीं इसमें डार्क सर्कल्स के इलाज के लिए विटामिन सी भी मिलाया जाता है। वहीं कुछ आई क्रीम में कैफीन है का भी इस्तेमाल किया जाता है, जो पफी आंखों के लिए फायदेमंद होता है।

इसे भी पढ़ें: बच्चों की नाजुक आंखों में होने वाली समस्याओं के कारणों को जानें

आई क्रीम को कैसे अप्लाई करें?

आई क्रीम को आंखों के आस-पास लगाएं। वहीं ध्यान रखें कि ये आंखों के अंदर न चला जाए। इसे सीधे अपने आंखो क पलकों के नीचे लगाएं। इसे थोड़ा सा अपने उंगली के साथ टैप करें औरऔर आंखों पर नरम दबाव के साथ लगाते जाएं। आंखों के नीचे धीरे से मालिश करें और इसे मंदिर में सुचारू करें। अधिक शीतल प्रभाव के लिए एक आई क्रीम को फ्रीजर के अंदर रखें। रात में सोने से पहले और और सुबह नहाने से पहले आप आई क्रीम लगाकर अपने आंखों की मालिश कर सकते हैं।

Read more articles on Skin-Care in Hindi

Disclaimer