नॉर्मल डिलीवरी के लिए प्रेगनेंसी में एक महिला को क्या करना चाहिए और क्या नही?

नार्मल डिलीवरी होना बहुत स्वाभाविक है जो ज्यादातर महिलाए सक्षम होती हैं। हालांकि, कुछ स्थितियां इसे कठिन बना देती हैं। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Feb 19, 2020
नॉर्मल डिलीवरी के लिए प्रेगनेंसी में एक महिला को क्या करना चाहिए और क्या नही?

मां बनने की खुशी अधिकांश महिलाओं को होती है। मगर इस खुशी का अनुभव करना इतना आसान नहीं होता है। इसके लिए एक महिला नौ माह तक भ्रुण को अपनी कोख में पालती है, इस दौरान उसे कई शारीरिक समस्‍याओं और हॉर्मोन असंतुलनों से गुजरना पड़ता है। प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को अतिरिक्‍त देखभाल की आवश्‍यकता होती है, क्‍योंकि जितनी अच्‍छी देखभाल होगी स्‍वस्‍थ्‍य स्थितियां उतनी ही नियंत्रण में रहेंगी। देखभाल का एक लाभ ये भी है कि इससे नॉर्मल डिलीवरी की संभावना बढ़ जाती है। क्‍योंकि आजकल ज्‍यादातर महिलाओं को सिजेरियन डिलीवरी से गुजरना पड़ता है, जो बहुत ही कष्‍टकारी होता है।  

इसलिए, अगर आप नॉर्मल डिलीवरी चाहती हैं तो इसके लिए उन महिलाओं को कुछ जरूरी सलाह दे रही हैं स्त्री रोग विशेषज्ञ और आईवीएफ एक्सपर्ट डॉ. रीता बक्शी। विस्‍तारे से जानने के लिए पढ़ें ये लेख।

safe-delivery

नॉर्मल डिलीवरी के लिए क्‍या करें और क्‍या नहीं?

1. आहार  

  • आहार में किसी प्रकार की नज़रअंदाजी नहीं न करें। 
  • ठीक से खाएं और सही तरीके से खाएं। 
  • पोषण न केवल आपके स्वास्थ्य के लिए बल्कि आपके बच्चे के स्वास्थ्य और विकास के लिए भी महत्वपूर्ण है। 
  • भोजन आपके मजबूत बनाने और आपके शरीर को पोषण देने के लिए आवश्यक है। एक स्वस्थ और सुपोषित मां श्रम की चुनौतियों का आसानी से और अधिक आराम से सामना करने में सक्षम है। 
  • ढेर सारा पानी पिएं और ढेर सारी हरी ताज़ी सब्जियां और फल खाएं। जहां फल और सब्जियां आपके शरीर को आवश्यक पोषक तत्वों से पोषण देंगी, वहीं पानी आपको हाइड्रेटेड रखेगा। हालांकि, आपको अपने वजन पर एक टैब रखना चाहिए, साथ ही बहुत अधिक वजन बढ़ने से आपके नार्मल डिलीवरी होने की संभावना कम हो सकती है। 
  • अपनी क्रेविंग्स का नियंत्रण रखें और स्वस्थ, पौष्टिक भोजन का विकल्प चुनें।
safe-delivery

2. व्यायाम 

  • गर्भावस्था के दौरान हल्के व्यायाम करने से आप न केवल अच्छी सहनशक्ति का निर्माण कर सकते हैं, बल्कि इस के दौरान आपको सक्रिय भी रख सकते हैं। इसलिए नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत डालें। 
  • जीवन शक्ति के साथ नियमित व्यायाम मांसपेशियों को मजबूत कर सकते हैं। पेल्विक स्ट्रेच और टिल्ट्स, डीप स्क्वैट्स, एक्वेटिक प्रेग्नेंसी के व्यायाम आपके कूल्हों को खोल सकते हैं और आपकी पेल्विक मांसपेशियों को मजबूत बना सकते हैं जिससे आपको नार्मल डिलीवरी हो सके। 
  • एक विशेषज्ञ की देखरेख में व्यायाम करने का ध्यान रखें क्योंकि गलत तरीके से किए गए व्यायाम आपको और आपके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 
  • आप प्रसव पूर्व योग भी आजमा सकते हैं, जिससे फ्लेक्सिबिलिटी बढ़ता है और आपको सांस लेने पर नियंत्रण रखने में मदद मिलेगी। योग आपको तनावमुक्त और शांत भी रखेगा।
  • सांस लेने की सही तकनीक का अभ्यास करें। प्रेगनेंसी में ब्रीथिंग एक्सरसाइजेज करनी बहुत ज़रूरी है क्योंकि नार्मल डिलीवरी के दौरान आपको समय समय पर साँस रोकना पड़ता है।
  • शिशु के विकास को बढ़ाने के लिए उचित और पर्याप्त ऑक्सीजन की आपूर्ति अनिवार्य है। तो, नियमित रूप से ध्यान और गहरी साँस लेने के व्यायाम का अभ्यास करें। इस तरह आप एक नार्मल डिलीवरी की ओर एक कदम बढ़ जाएंगे! 
safe-delivery

3. मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य

  • तनाव, स्ट्रेस और बहुत अधिक चिंतन से दूर रहें। आपके करंट फेज की आवश्यकता है कि आप शांत रहें। ऐसे समय होते हैं जब तनाव से बचना काफी मुश्किल होता है फिर भी शांत रहने की कोशिश करें। 
  • पेरेंटिंग के बारे में अच्छी किताबें पढ़ें और अच्छे मिलनसार लोगों की संगति में रहें। परिस्थितियों और लोगों से खुद को स्पष्ट करें जो आपको चिंतित करते हैं या आपको असुविधा का कारण बनाते हैं। 
  • याद रखें कि मातृ तनाव बच्चे के स्वास्थ्य और कल्याण पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। 
  • बच्चे की उचित वृद्धि और विकास को बढ़ावा देने के लिए अबाधित नींद आवश्यक है। कमरे में हल्की-फुल्की रोशनी और बिना शोर-शराबा के साथ एक अच्छी नींद लें। इससे आपका मन शांत रहेगा। 
  • सोने से दो घंटे पहले चाय या कॉफी पीने से बचें। इसके अलावा, सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त मात्रा में पानी पी रहे हैं ताकि यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन्स को रोका जा सके, जो गर्भवती महिलाओं को होता है। 
  • पानी भी डीहाइड्रैशन को रोकने में मदद करेगा, और गर्भावस्था के दौरान एडिमा के साथ मदद करेगा!

4. मसाज

आपको गर्भावस्था के सातवें महीने के बाद नियमित पेरिनियल मसाज करने की आवश्यकता होती है। यह तनाव को कम करता है, एक गर्भवती मां को कुशलता से निपटने में मदद करता है और संयुक्त दर्द और मांसपेशियों के तनाव को कम करता है।

इनपुट्स: डॉ. रीता बक्शी, स्त्री रोग विशेषज्ञ और आईवीएफ एक्सपर्ट, इंटरनैशनल फर्टिलिटी सेंटर।

Read More Articles On Women's Health In Hindi

Disclaimer