बच्चों में कैल्शियम की कमी होने पर कौन-कौन सी बीमारियों का खतरा होता है?

कैल्शियम हमारे शरीर के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है। यदि आपके बच्चे को कैल्शियम की कमी हो जाए तो उसको कई रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। 

 
Vikas Arya
Written by: Vikas AryaUpdated at: Jan 20, 2023 18:00 IST
बच्चों में कैल्शियम की कमी होने पर कौन-कौन सी बीमारियों का खतरा होता है?

विटामिन व मिनरल्स शरीर के लिए बेहद आवश्यक होते हैं। इनसे शरीर को ऊर्जा मिलती है और हम कई रोगों से दूर रहते हैं। कैल्शियम इनमें से ही एक महत्वपूर्ण मिनरल्स है, जो हड्डियों की मजबूती के लिए आवश्यक होता है। कैल्शियम शरीर में मांसपेशियों और नसों को क्रियाशील बनाए रखने का कार्य करता है। कैल्शियम की कमी होने से हड्डियों व दांतों के साथ ही कई तरह के रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। कैल्शियम की कमी को हाइपोकैल्सीमिया के नाम से जाना जाता है। बच्चों व महिलाओं के शरीर में अक्सर कैल्शियम की कमी हो जाती है। इसलिए इन्हें कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। आगे जानते हैं कैल्शियम की कमी के कारण, कमी से होने वाले रोग व कैल्शियम की कमी को दूर करने के उपाय।  

बच्चों को कैल्शियम की आवश्यक क्यों होती है? 

बचपन में बच्चों की हड्डियों का निर्माण हो रहा होता है, ऐसे में बच्चों को कैल्शियम की आवश्यकता होती है। यदि बचपन में बच्चे को कैल्शियम की कमी होने लगे तो उसे भविष्य में हड्डियों संबंधी रोग होने का खतरा बढ़ जाता है। कैल्शियम की कमी से बच्चों की हड्डियां का विकास प्रभावित होता है। 

calcium deficiency in kids

इसे भी पढ़ें : बच्चों को किन आहारों से हो सकती है एलर्जी, देते समय बरतें सावधानी 

बच्चों में कैल्शियम की कमी होने क्या रोग हो सकते हैं? Calcium deficiency in Child 

बच्चों में कैल्शियम की कमी होने पर कई तरह के रोग लक्षण के रूप में दिखाई देते हैं। आप इनके बारे में जानें -  

हड्डियों का कमजोर होना  

कैल्शियम हड्डियों की मजबूती को बनाएं रखता है। यदि इसकी बच्चों के शरीर में कमी होती है तो सबसे पहले उनकी हड्डियों के बढ़ने की क्रिया प्रभावित होती है। इसके साथ ही बच्चों को हड्डियों संबंधी रोग होने का खतरा अधिक हो जाता है।  

दांतों का कमजोर होना 

बच्चों के शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर उनको दांतों से संबंधी परेशानियां होने लगती है। इस वजह से बच्चों के दांत गिरने लगते हैं, दांतों की जड़े कमजोर होना और मसूड़ों में दर्द होने की परेशानी होने लगती है।  

नाखून का टूटना  

बच्चों में कैल्शियम की कमी का प्रभाव उनके नाखूनों पर भी पड़ता है। उनके नाखून टूटने लगते हैं। उनके नाखून पहले की अपेक्षा कमजोर हो जाते हैं और समय से पहले की टूटने लगते है। ऐसे में बच्चों को नाखूनों में दर्द भी होने लगता है।  

इसे भी पढ़ें : बच्चों में कैल्शियम की कमी को दूर करने के लिए क्या करें? जानें इसके कारण और उपाय 

बच्चों में कैल्शियम की कमी से होने वाले अन्य लक्षण व परेशानियां  

  • बच्चों की मांसपेशियों में ऐंठन रहती है।  
  • त्वचा में रूखापन होने लगता है 
  • हाथ व पैरों की अंगुलियां सुन हो जाती हैं। 

बच्चों में कैल्शियम की कमी को कैसे दूर करें 

बच्चों में कैल्शियम की कमी को खाद्य पदार्थों से ठीक किया जा सकता है। इसके लिए आप बच्चे की डाइट में अंडे, हरी सब्जियां, बादाम, ब्रोकली, बीन्स, मटर, दालें, तिल व ड्राई फ्रूट्स शामिल कर सकते हैं। इससे बच्चे में होने वाली कैल्शियम की कमी को दूर किया जा सकता है। साथ ही पौष्टिक आहार खाने से बच्चे को पर्याप्त मात्रा में विटामिन व पोषण मिलता है। जिससे उसे किसी तरह के रोग होने की संभावना कम हो जाती है।  

Disclaimer