Bacteria V/s Virus: किस इंफेक्शन में एंटीबायोटिक्स लेना है बेकार, जानें बैक्टीरियल और वायरल इंफेक्शन का अंतर

बैक्टीरिया और वायरस कई सामान्य संक्रमण पैदा कर सकते हैं। लेकिन इन दो प्रकार के संक्रामक जीवों के बीच अंतर है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Mar 17, 2020
 Bacteria V/s Virus: किस इंफेक्शन में एंटीबायोटिक्स लेना है बेकार, जानें बैक्टीरियल और वायरल इंफेक्शन का अंतर

सर्दी या फ्लू में अक्सर लोग एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) का सेवन करते हैं। वहीं एंटीबायोटिक्स, अगर निर्धारित और सही तरीके से लिया जाए, तो आमतौर पर बैक्टीरिया को मार सकते हैं लेकिन वे सर्दी और फ्लू जैसे वायरस के खिलाफ बेकार हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि बैक्टीरियल इंफेक्शन और वायरल इंफेक्शन में एक बड़ा फर्क होता है। ज्यादातर लोगों को इन दोनों के बीच के फर्क और उसके ट्रीटमेंट के बारे में पता नहीं होता। इसलिए आज हम आपको बैक्टीरिया और वायरस से फैलने वाले इंफेक्शन का बीच का फर्क बताएंगे और फिर ये समझने की कोशिश करेंगे कि एंटीबायोटिक्स कहां कारगार इलाज है और कहां नहीं। 

insideresiparatoryproblem

बैक्टीरिया (Bacteria)

बैक्टीरिया और वायरस कई सामान्य संक्रमण यानी कि इंफेक्शन पैदा कर सकते हैं। लेकिन ज्यादातर लोगों को इन दो प्रकार के संक्रामक जीवों के बीच अंतर पता नहीं होता है। बैक्टीरिया (Bacteria) छोटे सूक्ष्मजीव हैं, जो एक एकल कोशिका (single cell) से बने होते हैं। ये बहुत विविध होते हैं और इनके आकार और संरचनात्मक सुविधाओं की एक बड़ी विविधता हो सकती है। बैक्टीरिया लगभग हर कल्पनीय वातावरण में रह सकते हैं, जिसमें मानव शरीर भी शामिल है। वहीं केवल कुछ ही बैक्टीरिया मनुष्यों में संक्रमण का कारण बनते हैं। इन बैक्टीरिया को रोगजनक बैक्टीरिया (Pathogenic Bacteria) के रूप में जाना जाता है।

वायरस (Virus)

वायरस (Virus) एक अन्य प्रकार के छोटे सूक्ष्मजीव हैं, जो बैक्टीरिया से भी छोटे होते हैं। बैक्टीरिया की तरह, ये भी बहुत विविध हैं और इनके भी विभिन्न प्रकार के आकार और विशेषताएं हैं। वायरस खास बात यहूी होती है कि ये परजीवी (Parasitic) होते हैं। इसका मतलब है कि उन्हें जीवित कोशिकाओं या ऊतक की आवश्यकता होती है (require living cells or tissue  to grow),जिसमें वो खुद को विकसित करते हैं। वायरस आपके शरीर के कोशिकाओं (Cells) पर आक्रमण कर सकते हैं, आपके कोशिकाओं के घटकों को बढ़ाने और गुणा करने के लिए उपयोग कर सकते हैं। कुछ वायरस अपने जीवन चक्र के भाग के रूप में होस्ट कोशिकाओं (Host Cells) को भी मार देते हैं।

इसे भी पढ़ें : फिजिकली ऐक्टिव रहें बैक्टीरिया इंफ्केशन के रिस्क से बचें!

बैक्टीरियल इंफेक्शन और वायरल इंफेक्शन के बीच का फर्क

बैक्टीरियल इंफेक्शन

बैक्टीरिया एकल-कोशिका वाले सूक्ष्मजीव हैं, जो हर जगह पाया जाता है। ये हवा, मिट्टी, पानी, पौधों और जानवरों में पाए जाते हैं। अधिकांश बैक्टीरिया, जिनमें हमारी आंतों में रहने वाले बैक्टीरिया भी शामिल हैं, वो गुड बैक्टीरिया कहलाते हैं। वास्तव में भोजन को पचाने और रोग पैदा करने वाले रोगाणुओं को नष्ट करने में कुछ मदद करते हैं। पर सिर्फ 1 प्रतिशत से भी कम बैक्टीरिया लोगों में बीमारी पैदा करते हैं।

बैक्टीरिया के संक्रमण कैसे फैलते हैं?

कई जीवाणु संक्रमण संक्रामक होते हैं, जिसका अर्थ है कि वे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकते हैं। इसके कई तरीके हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • -संक्रमित व्यक्तियों के निकट संपर्क में आ कर।
  • -किसी संक्रमित व्यक्ति के शरीर के तरल पदार्थ के साथ संपर्क, विशेष रूप से यौन संपर्क के बाद, या जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है।
  • -गर्भावस्था या जन्म के दौरान मां से बच्चे तक संचरण
  • -दूषित सतहों के संपर्क में आना, जैसे कि दरवाजा या नल के हैंडल
  • - चेहरे, नाक या मुंह को छूना से
  • -एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने के अलावा, जीवाणु संक्रमण एक संक्रमित कीट के काटने से भी फैल सकता है। इसके अतिरिक्त, दूषित भोजन या पानी का सेवन करने से भी संक्रमण हो सकता है।

कुछ आम बैक्टीरियल इंफेक्शन, जिनके लिए एंटीबायोटिक्स काम करते हैं

  • -खराब गला
  • -टीबी
  • -सूखी खांसी
  • -मूत्र पथ के संक्रमण (UTI)
  • -बैक्टीरियल मैनिंजाइटिस (bacterial meningitis)
  • -लाइम की बीमारी (Lyme disease)
inside_bacterial

इसे भी पढ़ें : दिन का एक सेब आपकी आंत को देता है 10 करोड़ बैक्टीरिया, जानें कितने फायदेमंद और कितने नुकसानदेह हैं ये बैक्टीरिया

वायरल इंफेक्शन कैसे फैलता है?

बैक्टीरियल संक्रमणों की तरह, कई वायरल संक्रमण भी संक्रामक हैं। वे एक ही तरह से या कई तरीकों से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकते हैं। जैसे कि

  • -एक ऐसे व्यक्ति के साथ निकट संपर्क में आना, जिसे वायरल संक्रमण है
  • -एक वायरल संक्रमण वाले व्यक्ति के शरीर के तरल पदार्थ के साथ संपर्क
  • -दूषित सतहों के संपर्क में आना

आम वायरल इंफेक्शन कौन से हैं?

वायरल संक्रमण के कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:

  • -इंफ्लुएंजा (influenza)
  • -सामान्य जुखाम (Common Cough Cold)
  • वायरल आंत्रशोथ (viral gastroenteritis)
  • चेचक (chickenpox)
  • खसरा (measles)
  • वायरल मैनिंजाइटिस
  • मानव इम्यूनोडिफ़िशिएंसी वायरस (एचआईवी)
  • वायरल हेपेटाइटिस
  • जीका वायरस

क्या वायरल संक्रमण का इलाज एंटीबायोटिक्स से किया जा सकता है?

  • -एंटीवायरल ड्रग्स, जो आमतौर पर वायरस को नष्ट नहीं करते हैं, बल्कि इसके विकास होने से रोक सकते हैं। मेडिकल न्यूज टुडे के अनुसार एंटीवायरल भी कुछ बीमारियों जैसे हर्पस सिंप्लेक्स वायरस, फ्लू और दाद के इलाज के लिए उपलब्ध हैं।
  • -एंटीबायोटिक्स वायरस के खिलाफ प्रभावी नहीं हैं। इसलिए रोग नियंत्रण केंद्र और अन्य स्वास्थ्य संगठन एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग नहीं करने की सलाह देते हैं जब तक कि एक जीवाणु संक्रमण के स्पष्ट सबूत न मिल जाएं।
  • -अधिकांश वायरल संक्रमण उपचार के बिना अपने दम पर हल करते हैं, इसलिए किसी भी उपचार का उद्देश्य आमतौर पर दर्द, बुखार और खांसी जैसे लक्षणों से राहत प्रदान करना है।
insideviralinfection

डॉक्टरों द्वारा पूछे जाने वाले प्रश्न, जो वायरस और बैक्टीरिया इंफेक्शन को अलग करते हैं? 

1- क्या आपको बुखार है?

बैक्टीरियल और वायरल दोनों बीमारियों के साथ आम चीज है। लेकिन अगर फ्लू भी है, तो एंटीबायोटिक्स वायरस का जवाब नहीं होगा। आपका डॉक्टर आपके लक्षणों का इलाज करेगा।

2- क्या आप लंबे समय से बीमार हैं? 

साइनस संक्रमण जब बैक्टीरिया में शामिल होते हैं, तब डॉक्टर आपको एक एंटीबायोटिक लिख सकता है।

3- हरा या पीला बलगम एक जीवाणु संक्रमण का संकेत हो सकता है

एंटीबायोटिक बलगम के रंग को देख कर दिया जा सकता है।

4-आपका गला कैसा है?

सफेद धब्बे बैक्टीरिया का संकेत हो सकते हैं। अन्य ठंडे लक्षणों के साथ गले में खराश भी इसके लक्षण हो सकते हैं, जिसके लिए एंटीबायोटिक दवाओं की आवश्यकता होती है।

Watch Video:

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer