देश की पहली महिला कार्डियोलॉजिस्ट पद्मावती का 103 साल की उम्र में हुआ निधन, कोरोना वायरस से थीं संक्रमित

भारत की पहली महिला हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर पद्मावती का हुआ निधन, कोरोना वायरस से पीड़ित थीं डॉक्टर पद्मावती।

सम्‍पादकीय विभाग
Written by: सम्‍पादकीय विभागUpdated at: Aug 31, 2020 16:10 IST
देश की पहली महिला कार्डियोलॉजिस्ट पद्मावती का 103 साल की उम्र में हुआ निधन, कोरोना वायरस से थीं संक्रमित

भारत की पहली महिला कार्डियोलॉजिस्ट, यानी 'गॉड मदर ऑफ कार्डियोलॉजी का निधन हो गया। नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट ने जानकारी दी कि 103 साल कि हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर एस पद्मावती ( First Female Cardiologist Doctor Padmavati) का निधन कोरोना वायरस के कारण हो गया। डॉक्टरों ने बताया कि डॉक्टर एस पद्मावती का इलाज पिछले 11 दिनों से हार्ट इंस्टीट्यूट में चल रहा था जिसके बाद उनकी मौत हो गई। नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट ने बताया कि डॉक्टर एस पद्मावती, जो भारत की पहली महिला कार्डियोलॉजिस्ट हैं, बल्कि 'गॉड मदर ऑफ कार्डियोलॉजी' के रूप में जानी जाती हैं, का 29 अगस्त को निधन हो गया।

health news

पहली महिला कॉर्डियोलॉजिस्ट पद्मावती का हुआ निधान

जानकारी के मुताबिक, डॉक्टर पद्मावती (Padmavati) को कोविड-19 (Covid-19) के साथ अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उन्हें सांस लेने में काफी कठिनाई हो रही थी साथ ही उन्हें बुखार था। इसके साथ ही डॉक्टर पद्मावती के दोनों फेफड़ों में निमोनिया विकसित हुआ था। हालांकि, उसने कार्डियक अरेस्ट को बरकरार रखा और गुजर गई। निधन के बाद डॉक्टर पद्मावती का रविवार को पंजाबी बाग में कोविड-19 श्मशान गृह में अंतिम संस्कार किया गया।

इसे भी पढ़ें: मोटे लोगों के लिए ज्यादा खतरनाक हो सकता है कोरोना, चपेट में आने पर बढ़ सकती है स्वास्थ्य की जटिलताएं: स्टडी

पद्म भूषण और पद्म विभूषण से भी किया गया था सम्मानित 

वह द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 1942 में भारत आ गए थे। बयान में कहा गया कि उसने रंगून मेडिकल कॉलेज से स्नातक किया और उच्च शिक्षा के लिए विदेश चली गई। भारत लौटने पर, वह लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में शामिल हुईं। आपको बता दें कि साल 1962 में डॉक्टर पद्मावती (Padmavati) ने ऑल इंडिया हार्ट फाउंडेशन की स्थापना की और साल 1981 में नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट की स्थापना के लिए दिल्ली में तृतीयक देखभाल आधुनिक हृदय अस्पताल के रूप में स्थापित किया। भारत में कार्डियोलॉजी के विकास में उनकी उपलब्धियों और योगदान के लिए, उन्हें अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी एंड एफएएमएस, और साल 1967 में पद्म भूषण और साल 1992 में भारत सरकार की ओर से पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। 

डॉक्टर पद्मावती ने की थी पहली कोरोनरी केयर वैन की शुरुआत

साल 1967 में डॉक्टर पद्मावती (Padmavati) ने मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज के निदेशक-प्राचार्य के रूप में पदभार संभाला जहां उन्होंने एक कार्डियोलॉजी विभाग भी स्थापित किया था। इसके बाद पद्मावती ने कार्डियोलॉजी में डीएम कोर्स और पहली कोरोनरी केयर यूनिट और भारत में पहली कोरोनरी केयर वैन जैसी सुपर स्पेशियलिटीज की शुरुआत की थी जिसका काफी नाम हुआ था। 

इसे भी पढ़ें: महिलाओं की इम्यूनिटी पुरुषों से मजबूत क्यों होती है? क्या कारण है कि कोरोना से पुरुषों की मौत ज्यादा हो रही है

डॉक्टर पद्मावती (Padmavati) के पिता, वी.एस. अय्यर, एक प्रमुख बैरिस्टर और उनकी मां घर निर्माता, इसके अलावा संस्कृत और कर्नाटक संगीत में पारंगत थीं। पद्मावती के उसके 5 भाई-बहन थे। डॉक्टर पद्मावती कभी भी अपनी उपलब्धियां के बारे में चर्चा नहीं किया करती थीं। उनका मानना था कि जो डाक्टर नई रिसर्च को लेकर अपने को अपडेट नहीं रखते, वो अपने पेशे के साथ न्याय ही नही कर पाते। इसलिए डॉक्टर पद्मावती की आदत थी कि वे लगातार रिसर्च जनरल पढ़ती थीं। 

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer