खेलकूद से जुड़ी महिलाओं को रहता है इन 3 स्पोर्ट्स इंजरीज का खतरा, जानें इन्हें रोकने और सुरक्षित रहने के तरीक

खेल-कूद से जुड़ी महिलाओं में ये 3 स्‍पोर्ट्स इंजरी काफी आम है, आईए यहां इनसे बचने के तरीके जानें। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Apr 13, 2020Updated at: Apr 13, 2020
खेलकूद से जुड़ी महिलाओं को रहता है इन 3 स्पोर्ट्स इंजरीज का खतरा, जानें इन्हें रोकने और सुरक्षित रहने के तरीक

यदि आप स्‍पोर्ट्स में रूचि रखते हैं और खेल-कूद में हिस्‍सा में लेते हैं, तो स्‍पोर्ट्स इंजरी होना कोई बड़ी बात नहीं है। कई बार आपको हल्‍की-फुलकी चोट या मोच जरूर आई होगी, जिन्‍हें आप अक्‍सर नजरअंदाज कर देते हैं। जबकि किसी भी इंजरी को नजरअंदाज करना आपके लिए ज्‍यादा नुकसानदायक बन सकता है। खेल-कूद में हो या एक्‍जरसाइज करते हुए जिम, आपको चोट कभी भी लग सकती है। ऐसे में कई बार मांसपेशियों में गलत तरीके से जोर या खिंचाप आने से भी चोट या दर्द हो सकता है। जिसमें उस जगह पर दर्द, चोट वाली जगह में सूजन और नीला पड़ जाना शामिल है। आइए यहां हम आपको महिलाओं में होने वाली आम स्‍पोर्ट्स इंजरी के बारे में बता रहे हैं। 

एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट

Sports Injury

यह चोट महिलाओं की तुलना में पुरुषों में तीन गुना अधिक आम है। एक एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट (ACL) प्रमुख लिगामेंट में से एक है, जो हमारे घुटने के जोड़ को स्थिर करने में मदद करता है। यह आपकी हड्डी के रोटेशन और आगे की गति को नियंत्रित करता है। महिलाएं में इसके पीछे हिप्बोन्स और नाइकेप्स एक बड़ा कारण हो सकता है। यह घुटनों को अंदर की ओर धकेलता है, जो जोड़ों पर दबाव डालता है और जिससे चोट लगने का खतरा बढ़ जाता है। 

इसे भी पढ़ें: क्‍या मोटापा भी बड़ा सकता है कोरोनावायरस का खतरा? जानें बचाव के तरीके और सावधानियां

पेटेलोफेमोरल पेन सिंड्रोम

पटेलोफेमोरल पेन सिंड्रोम एक ऐसी स्थिति है, जिसमें घुटने के नीचे लचीली या नरम हड्डी में चोट या दबाव के कारण चोट आती है। यह अस्थिर हिपबोन और नीकेप्स के कारण भी ऐसा होता है। इसके कारण घुटनों के नीचे की हड्डी और नरम टिश्‍यु बार-बार रगड़ते हैं जिससे सूजन होती है। इसमें आपको सीढ़ियाँ चढ़ते समय या स्क्वाटिंग मूवमेंट करते समय काफी तेज दर्द महसूस होता है। 

Sports Injury in Women

रोटेटर कफ इंजरी

रोटेटर कफ इंजरी आपके कंधे में के पास की मांसपेशियों में आती है। रोटेटर कफ या कंधा कॉम्‍पलेक्‍स मसल्‍स से बना होता है, जो आसानी से दोहराए जाने वाले ओवरहेड मूवमेंट के साथ मुड़ जाता है। कंधे की अस्थिरता, ऊपरी शरीर की कम ताकत और रोटेटर कफ में कमजोर सहायक टिश्‍यु के कारण महिलाओं को इस तरह की चोट की अधिक संभावना होती है। कंधे की चोट तैराकी करने या फिर टेनिस खिलाड़ियों में आम है।

इसे भी पढ़ें: घुटने के दर्द को कम करने के लिए एक्सरसाइज करना है जरूरी, जानें एक्सरसाइज का तरीका और फायदे

How to prevent Injury

स्‍पोर्टस इंजरी से बचने के तरीके 

खूब पानी पिएं और शरीर को हाइड्रेट रखें। 

चोट लगने पर गर्म पानी के बजाय आईस थेरेपी का उपयोग करें। जिस जग‍ह पर चोट लगी हो, वहां बर्फ से सिकाई करें। 

मसल्‍स को मजबूत करने के लिए एक्‍सरसाइज और अच्‍छी डाइट लें। 

खेलकूद के दौरान सभी जरूरी सुरक्षा उपकरण का उपयोग करें। 

Read More Article On Other Diseases In Hindi 

Disclaimer