चिकन और मीट को छोड़ने के बाद लोग अक्सर करते हैं ये आम गलतियां, जानें वेजिटेरियन डाइट को कैसे बनाएं हेल्दी

अगर आप भी मीट और चिकन को छोड़कर शाकाहारी डाइट को अपनाना चाहते हैं तो जान लें किन आम गलतियों से खुद को रखना है दूर।

Vishal Singh
स्वस्थ आहारWritten by: Vishal SinghPublished at: Oct 13, 2020Updated at: Oct 13, 2020
चिकन और मीट को छोड़ने के बाद लोग अक्सर करते हैं ये आम गलतियां, जानें वेजिटेरियन डाइट को कैसे बनाएं हेल्दी

अक्सर आपने कई लोग को मीट छोड़ने की कोशिश करते देखा होगा, जिसे कुछ लोग तो आसानी से छोड़ देते हैं तो कुछ लोगों को थोड़ा समय लगता है। मीट या मांस को त्यागने के बाद लोगों के बाद सेवन के लिए वेजिटेरियन डाइट का विकल्प होता है जिसकी मदद से वो खुद को स्वस्थ रखने की कोशिश करते हैं। लेकिन क्या अचानक से मीट या मांस को छोड़ना हर किसी के लिए सही है और अगर सही है भी तो क्या वो मीट को छोड़ने के बाद भी कुछ गलतियां तो नहीं करते? लोगों के मन में इस तरह के कई सवाल घूमते रहते हैं। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि ज्यादातर शाकाहारी भोजन की मदद से आसानी से वजन कम किया जा सकता है, स्वस्थ रहा जा सकता है और कई प्रकार के रोगों को दूर रखा जा सकता है।

healthy diet 

डाइट में चीज को कम रखें

मीट का त्याग करने के बाद पनीर या चीज के साथ अपनी डाइट को तैयार करना सबसे बड़ी गलती है, जो नए शाकाहारी बनते हैं। अच्छे स्वास्थ्य या वजन घटाने के लिए मनुष्यों को भारी मात्रा में प्रोटीन की जरूरत होती है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि आप अपनी डाइट में नुकसानदायक चीजों को शामिल करें। अधिकांश चीज वाली चीजें एक प्रोसेस्ड फूड्स है जो बहुत कम स्वास्थ्य फायदे प्रदान करता है। इसके साथ ही ऐसे आहार में वसा उच्च होती है, इसलिए इन आहारों का सेवन कम किया जाना चाहिए। 

कार्ब्स 

अपनी डाइट में अलग-अलग रंगों वाले फल और सब्जियों को शामिल करें, ज्यादा रंगों की सब्जियों और फल का मतलब है कि आपको मिलने वाले फाइटोकेमिकल्स यौगिक हैं। इसके साथ ही जब आप वेज कार्ब्स का सेवन करते हैं तो पास्ता, ब्रेड और रैप्स की तरह, ज्यादा फाइबर और पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए साबुत अनाज का चयन करना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: गैस और कब्ज का कारण बन सकता है मीट-मछली और प्रोटीन युक्त खाना, आज से फॉलो करें ये प्लांट बेस्ड शाकाहारी डाइट

प्रमुख पोषक तत्वों को भूल जाना

विटामिन बी 12: ये विटामिन हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होता है जो हमे लंबे समय तक स्वस्थ रखने में मदद करता है। 

कैल्शियम: अगर आप नियमित रूप से कम वसा वाले दूध, दही, या पनीर जैसे डेयरी का सेवन नहीं कर रहे हैं, तो इसे टोफू और केल जैसे कैल्शियम युक्त आहार के विकल्पों को शामिल करने का लक्ष्य बनाएं।

ऑयरन: कई अध्ययनों से पता चलता है कि शाकाहारियों को मांस खाने वालों के जितना ही लोहा मिलता है। लेकिन क्योंकि शरीर में मांस से लोहे की तुलना में हरे खाद्य पदार्थों से लोहे को अवशोषित करने में कठिन समय होता है, इसलिए जितना संभव हो उतना ऑयरन की पूर्ति करें। 

फ्रीजर सेक्शन से दूरी बनाएं

किसी भी प्लांट बेस्ड आहार का सेवन करने के पीछे शरीर में विटामिन और पोषक तत्वों के स्तर को बढ़ाना होता है। इसलिए हमे अक्सर ताजे फल और सब्जियों का सेवन करना चाहिए, न कि बहुत दिनों तक फ्रिज में रखे रहने के बाद आप उसका सेवन करें। इससे आपको कोई खास फायदा नहीं होने वाला। 

इसे भी पढ़ें: कच्‍चा मीट बना सकता है आपको बीमार, इन 4 बीमारियों का रहता है खतरा

पर्याप्त विविधता नहीं

ज्यादातर प्लांट बेस्ड खाद्य पदार्थों में हमारे लिए सभी जरूरी अमीनो एसिड नहीं होते हैं। उस कारण से, अपने आहार में विविधता को शामिल करना महत्वपूर्ण हो जाता है। आप इन खाद्य पदार्थों के अलावा अपनी डाइट में दाल, राजमा, छोले जैसी चीजों को शामिल कर अपनी डाइट को बेहतर बना सकते हैं और इससे आपको कई लाभ मिलते हैं।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer