बचपन में परिवार के माहौल का पड़ सकता है 40-50 की उम्र में सेहत पर बुरा असर: शोध

यदि आपका बचपन बहुत गलत माहौल में बीता है, तो आपको मध्य 40-50 की उम्र के पड़ाव में हृदय स्वास्थ्य संबंधी समस्‍याओं का अधिक खतरा हो सकता है।

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: May 13, 2020
बचपन में परिवार के माहौल का पड़ सकता है 40-50 की उम्र में सेहत पर बुरा असर: शोध

बचपन मनुष्य के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्‍सा है। यह बढ़ती उम्र है, जो एक व्यक्तित्व के साथ-साथ स्वास्थ्य में बदलाव लाती है। बढ़ती हुई उम्र में बच्चों के आसपास का वातावरण सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, क्योंकि यह उनके मानसिक और मनोवैज्ञानिक विकास को प्रभावित करता है। हम, वयस्क, बच्चों के आसपास पूरी तरह से व्यवहार और माहौल को सही बनाकर रखते हैं ताकि उससे बच्‍चे प्रभावित न हों। लेकिन पारिवारिक माहौल खराब होने पर, बच्चे भी परेशान हो जाते हैं और यह अस्थायी नहीं होता है, लेकिन यह उनके स्वास्थ्य पर दीर्घकालिक यानि लंबे समय में प्रभाव डालता है।

क्‍या कहती है रिसर्च? 

Family Environment Affect Your Health After 40s

जर्नल ऑफ अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, नॉर्थवेस्टर्न मेडिसिन ने एक शोध किया, जिसमें पता चला है कि जिन वयस्कों में बचपन के पारिवारिक वातावरण की प्रतिकूलता अधिक देखी गई है, वे बाद की उम्र में दिल से जुड़ी बीमारियों से पीड़ित हैं। यदि किसी व्यक्ति को एक बच्चे के रूप में उपेक्षा, दुर्व्यवहार, ट्रॉमा या पारिवारिक लड़ाई-झगड़े आदि का सामना करना पड़ता है, तो 40 से 50 के दशक के बाद उसमें हृदय संबंधी समस्‍याओं की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। यह परिणाम रिसर्च में भाग लेने वाले 3,600 से अधिक लोगों के बचपन के इतिहास का अध्ययन करने के बाद निकाला गया था।

इसे भी पढ़ें: बचपन में स्‍वस्‍थ खानपान की आदतें कर सकती है भविष्‍य में दिल की बीमारियों के खतरे को कम

बचपन के पारिवारिक वातावरण या परिवार के माहौल का खराब होना न केवल बड़े बीमारियों का कारण बनती है, बल्कि तनाव, चिंता और डिप्रेशन को भी जन्म देती है। ऐसे में बच्चों को गतिहीन जीवन शैली की ओर झुकाव और नशे की लत जैसे धूम्रपान और शराब पीने जैसी खराब आदतों को अपनाने की भी अधिक संभावना होती है।

Childhood Family Environment and Cardiovascular Diseasess

50 की उम्र में वह डायबिटीज, बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स), अनियमित ब्‍लड प्रेशर, इंफ्लमेशन और वैस्‍कुलर डिसफंक्‍शन से पीड़ित हो सकते हैं।

नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के फीनबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन में अंतिम वर्ष के छात्र रहे जैकब पियर्स अध्ययन के पहले लेखक कहते हैं, "वयस्कों की यह आबादी जोखिम भरे व्यवहारों में भाग लेने की अधिक संभावना है- उदाहरण के लिए, एक कोपिंग मशनी के रूप में भोजन का उपयोग करना , जिससे वजन और मोटापे की समस्या हो सकती है। उनमें धूम्रपान की दर भी अधिक होती है, जिसका सीधा संबंध हृदय रोग से है। "

इसे भी पढ़ें: बूढ़े हो चुके हैं फिर भी आज से शुरू कर दें एक्सरसाइज, हॉस्पिटल में कम बिताना पड़ेगा समय: स्टडी

कांउसलिंग ऐसे बच्चों की मदद कर सकती है

परिवार के सदस्य बच्चों में अंतर्निहित समस्‍याओं की पहचान नहीं कर सकते हैं, लेकिन जैसे-जैसे उनकी उम्र बढ़ती है, समस्याएं बढ़ने लगती हैं। कई बच्चे अपनी किशोरावस्था में धूम्रपान करने लगते हैं, जिसकी देखभाल माता-पिता को करनी होती है। एक निश्चित उम्र के बाद, चीजें नियंत्रण से बाहर हो जाती हैं और इसे रोकना या कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है। कांउसलिंग या सला‍ह ऐसे में मदद कर सकता है लेकिन इसमें अधिक शोध की आवश्यकता है कि क्या यह उन हृदय संबंधी मुद्दों को रोक सकता है, जो 40 या 50 के दशक के अंत में उनमें उत्पन्न होने की संभावना होती है। 

अध्‍ययन के वरिष्ठ शोधकर्ता जोसेफ ने कहा, "प्रारंभिक बचपन के अनुभवों का वयस्क मानसिक और शारीरिक कल्याण पर एक स्थायी प्रभाव पड़ता है, और बड़ी संख्या में अमेरिकी बच्चों को दुर्व्यवहार और शिथिलता का सामना करना पड़ता है, जो उनके जीवन भर स्वास्थ्य और सामाजिक कामकाज के मुद्दों को छोड़ देंगे।" 

टीम ने मध्यम उम्र में बचपन के मनोवैज्ञानिक वातावरण और हृदय स्वास्थ्य के बीच संबंध स्थापित करने का प्रयास किया। और यह पाया गया कि बचपन का वातावरण काफी हद तक किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है।

Read More Article On Health News In Hindi

 
Disclaimer