Chapati For Weight Loss: चपाती खाकर भी कम कर सकते हैं पेट की चर्बी, पकाने से पहले इस 1 बात का रखें ध्‍यान

घर की बनी गेहूं के आटे की रोटी खा-खाकर ऊब गए हैं तो यहां हम आपको चपाती के पोषक तत्‍वों को बढ़ाने के उपाय बता रहे हैं। जिससे वजन घटाने में मदद मिलेगी।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: May 08, 2020
Chapati For Weight Loss: चपाती खाकर भी कम कर सकते हैं पेट की चर्बी, पकाने से पहले इस 1 बात का रखें ध्‍यान

Roti (Chapati) For Weight Loss: कोरोना वायरस महामारी के चलते आजकल हम सभी अपने-अपने घरों में लॉक हैं। कोरोना के खिलाफ हमारे हेल्‍थ वर्कर, पुलिस और सफाई कर्मी दिन रात लड़ रहे हैं। हालांकि, ये लड़ाई वो लोग भी लड़ रहे हैं जो अपने-अपने घरों में कैद हैं। पिछले एक महीने से भी ज्‍यादा समय से साधारण भोजन कर के दिन काट हरे हैं। आमतौर पर हम भारतीय भोजन यानी घर की बनी रोटी और चावल खाकर रहे हैं, जो वजन बढ़ा सकते हैं। क्‍योंकि इसमें कार्ब और कैलोरी की मात्रा अधिक होती है। मगर हम थोड़ा बदलाव कर अपने भोजन को और ज्‍यादा हेल्‍दी बना सकते हैं। इससे आपका वजन भी नियंत्रित रहेगा!

chapati-roti-bread

दरअसल, गेहूं की रोटी, और चावल हर खाने को नीरस बना सकता है। लेकिन लॉकडाउन के समय में आप कुछ नए प्रयोग कर अपने भोजन और ज्‍यादा हेल्‍दी और स्‍वादिष्‍ठ बना सकते हैं। यह आपको अपनी स्किल दिखाने के लिए यह समय आपके लिए काफी अनुकूल है। थोड़े से बदलाव करके आप अपनी गेहूं की रोटी को एक उच्च फाइबर से युक्‍त और स्वास्थ्यवर्धक भोजन में बदल सकते हैं जो वजन कम करने में आपकी मदद करेगा। आइए यहां हम आपको विस्‍तार से बता रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: सिर्फ शरीर का वजन बढ़ना नहीं है 'मोटापा', क्विज खेलकर जानिए मोटापे के बारे में सब कुछ

चपातियों (रोटी) को स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक कैसे बनाएं? 

फाइबर वजन घटाने में मदद करता है क्योंकि यह पाचन की प्रक्रिया को प्रभावित करता है, और आपको अच्छी तरह से भरा रखता है, जिससे आपकी भूख नियंत्रित रहती है। बार-बार कुछ भी खाने का मन नहीं करता है। चपातियों में फाइबर की मात्रा बढ़ाने के लिए, आप अपने गेहूं के आटे में साबुत अनाज को भी शामिल कर सकते हैं। इसका मतलब यह है कि आप अपने आटे में कुछ अनाज जैसे चने, बाजरा, रागी आदि के आटे भी शामिल कर सकते हैं। मगर ये ध्‍यान रहे कि इन अनाजों को ज्‍यादा बारीक न पीसें, वरना आपको पूरा लाभ नहीं मिलेगा। ये मल्‍टीग्रेन फाइबर सामग्री से युक्‍त होते हैं जो आंतों की अच्‍छी तरह से सफाई करते हैं।

इसे भी पढ़ें: सुबह उठने के बाद पीएं जीरा, सौंफ और धनिया से बना ये काढ़ा और कम करें शरीर पर चढ़ी चर्बी, जानें बनाने का तरीका

chapati-roti-bread

फाइबर सामग्री की बढ़ाने के लिए आप रोटियों में कुछ विशेष प्रकार की सब्जियों को भी जोड़ सकते हैं। इसके लिए आप गाजर, मूली, ब्रोकोली, फूलगोभी, आदि को कद्दूकस कर सकते हैं, और इसे चपातियों में भरकर सेक सकते हैं, इससे आपकी रोटियां और ज्‍यादा स्‍वास्‍थ्‍यप्रद हो सकती हैं। 

चपातियों की कैलोरी को कैसे कम करें?

चपातियों की कैलोरी (Calories in Chapati) और वसा सामग्री को कम करने के लिए, सुनिश्चित करें कि आप उन्हें सादा खाएं। यानी बिना मक्खन या घी के। अगर आप अधिक मात्रा में कैलोरी ले रहे हैं तो प्‍लेन रोटी खाएं और पराठे खाने से बचें, क्‍यों कि इनमें भी अधिक मात्रा तेल या वनस्‍पति घी लगा होता है। मल्टीग्रेन आटे का उपयोग करके आप अपनी गेहूं की रोटी की कैलोरी को कम कर सकते हैं। और एक बात हमेशा याद रखें कि वजन नियंत्रण करने के लिए अपने खानपान पर विशेष ध्‍यान दें।

Read More Articles On Weight Management In Hindi

Disclaimer