रक्त वाहिकाओं में खून का थक्का जमने (ब्लड क्लॉटिंग) के खतरे क्या हैं और इसे कैसे रोकें?

नसों में अगर खून का थक्का जम जाए तो आपको एक झटके में हार्ट अटैक, स्ट्रोक या पल्मोनरी एम्बोलिज्म जैसी बीमारियां हो सकती हैं, जो जानलेवा हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jan 12, 2020
रक्त वाहिकाओं में खून का थक्का जमने (ब्लड क्लॉटिंग) के खतरे क्या हैं और इसे कैसे रोकें?

खून का थक्का जमना शरीर की एक ऐसी प्रक्रिया है, जो कहीं पर तो आपके जीवन की रक्षा के लिए जरूरी है, और कहीं आपके जीवन को भी खत्म करने की क्षमता रखती है। चोट लगने, कट जाने या छिल जाने पर बहते हुए खून को रोकने के लिए शरीर अपने आप खून को जमाने (ब्लड क्लॉटिंग) की प्रक्रिया शुरू कर देता है। यहां पर अगर शरीर ब्लड क्लॉटिंग न करे, तो आपका खून बहता रहेगा और आप मर जाएंगे। मगर कई बार कुछ कारणों से शरीर की रक्त वाहिकाओं (ब्लड वेसल्स) में बहते हुए ही खून जम जाता है, जिसके कारण रक्त प्रवाह (ब्लड सर्कुलेशन) प्रभावित होता है। ये स्थिति आपके लिए जानलेवा साबित हो सकती है क्योंकि इसके कारण आपको अनायास ही हार्ट अटैक, स्ट्रोक या पल्मोनरी एम्बोलिज्म जैसी मेडिकल इमरजेंसी वाली समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

किन्हें होता है ब्लड क्लॉटिंग का खतरा?

blood clots

ऐसे लोग जो बहुत अधिक सिगरेट पीते हैं, मोटापे का शिकार हैं या जिनका काम एक ही पोजीशन में देर तक बैठने-लेटने का है, उन्हें ब्लड क्लॉटिंग का खतरा होता है। इसका खतरा सबसे ज्यादा उन लोगों को होता है, जिनका कोलेस्ट्रॉल बढ़ा हुआ होता है, हाई ब्लड प्रेशर का शिकार होते हैं या जिनकी धमनियां सिकुड़ रही होती हैं। इसलिए ऐसे सभी लोगों को सावधान रहना चाहिए।

ब्लड क्लॉटिंग (खून को जमने) को रोकने के लिए आप क्या करें?

एक्सपर्ट्स बताते हैं कि डेली लाइफ से जुड़ी ऐसी कई आदतें हैं, जिन्हें अपनाने से आप ब्लड क्लॉटिंग के खतरे से बच सकते हैं। आइए आपको बताते हैं क्या हैं ये-

धूम्रपान से दूर रहें

smoking

अगर आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ दें। अगर नहीं करते हैं, तो इससे दूर रहें। इसके साथ ही सेकंड हैंड स्मोकिंग से भी खुद को बचाएं। सेकंड हैंड स्मोकिंग उसे कहते हैं, जब आपके आसपास कोई धूम्रपान कर रहा है, और आप उसका धुंआ अपनी सांस के जरिए अपने फेफड़ों में खींच रहे हैं।

रोजाना 1-2 कली कच्चा लहसुन खाएं

लहसुन को प्राकृतिक रूप से खून को पतला करने वाला यानी ब्लड थिनर माना जाता है। इसलिए लहसुन के सेवन से आपको ब्लड क्लॉटिंग की समस्या से प्राकृतिक रूप से छुटाकारा मिल सकता है। रोजाना 1-2 कच्चा लहसुन जरूर खाएं। इसके अलावा अपने खानपान में भी लहसुन को जरूर शामिल करें।

इसे भी पढ़ें: उम्र बढ़नें के साथ क्‍यों होता है बार-बार यूटीआई इंफेक्‍शन? जानें वजह और बचाव के तरीके

अदरक की चाय पिएं

अदरक में जिंजेरॉल नाम का एक खास एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो खून का थक्क जमने से रोकता है। अगर आपको किसी तरह की हार्ट या कार्डियोवस्कुलर संबंधी बीमारी है, तो रोजाना 2 कप अदरक वाली चाय पिएं। ये आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगी।

नमक-चीनी कम करें

salt

शरीर के लिए न चीनी अच्छी मानी जाती है और न नमक। इसलिए इन दोनों का ही सेवन बिल्कुल कम कर दें। चीनी ब्लड शुगर बढ़ाती है और नमक सोडियम, जो कि हाई ब्लड प्रेशर का कारण बनता है। बाजार में मिलने वाले प्रॉसेस्ड फूड्स और पैकेटबंद आहारों में नमक और चीनी की मात्रा बहुत ज्यादा होती है, इसलिए इनके बजाय घर में बनाया हुआ खाना ही खाएं। मीठे में आप फल खा सकते हैं, जिसमें प्राकृतिक शुगर होती है।

इसे भी पढ़ें: थायराइड होने पर न करें इन खाद्य पदार्थों का सेवन, आपके लिए हानिकारक हैं ये

अपने आपको एक्टिव रखें

मोटापा और गतिहीन जीवन भी ब्लड क्लॉटिंग का कारण बनते हैं। इसलिए अपने आप को दिनभर एक्टिव रखें और कुछ न कुछ मेहनत का काम करते रहें। रोजाना कम से कम 30 मिनट एक्सरसाइज जरूर करें। इसके अलावा खाना खाने के बाद 15 मिनट वॉक करें। शाम या सुबह साइकिल चलाएं, कोई गेम खेलें या योगासन करें। इससे आपका ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा और क्लॉटिंग नहीं होगी।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer