डायबिटीज में घातक हो सकती है स्मोकिंग की लत, बढ़ जाता है इन 5 समस्याओं का जोखिम

Effects of smoking on diabetes: डायबिटीज के दौरान स्मोकिंग करना आपकी सेहत के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है।

Priya Mishra
Written by: Priya MishraUpdated at: Jan 07, 2023 15:00 IST
डायबिटीज में घातक हो सकती है स्मोकिंग की लत, बढ़ जाता है इन 5 समस्याओं का जोखिम

आज के समय में डायबिटीज एक गंभीर और आम समस्या बन चुकी है। आजकल सिर्फ बड़ी उम्र के लोग ही नहीं, बल्कि युवा और बच्चे भी डायबिटीज की चपेट में आ रहे हैं। डायबिटीज को आम भाषा में शुगर की बीमारी कहा जाता है। इसमें व्यक्ति का ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में नहीं रहता है। डायबिटीज को एक जीवनशैली रोग माना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि आमतौर पर हमारी जीवनशैली की कुछ खराब आदतें इसके लिए जिम्मेदार होती हैं। अगर डायबिटीज का समय रहते उपचार न किया जाए, तो इससे कई अन्य गंभीर रोगों का जोखिम बढ़ जाता है। डायबिटीज की समस्या को पूरी तरह से तो ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव करके इसे कंट्रोल किया जा सकता है। ऐसे में अगर आपको धूम्रपान करने की आदत है, तो आप उसे तुरंत छोड़ दें। स्मोकिंग वैसे तो सभी के लिए नुकसनदायक होती है, लेकिन डायबिटीज में स्मोकिंग (Diabetes And Smoking) करने से आपकी स्थिति और ज्यादा खराब हो सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि निकोटिन आपके शरीर को इंसुलिन के प्रति और अधिक प्रतिरोधी (Insulin Resistance) बना देता है ब्लड शुगर के स्तर को काफी अधिक बढ़ा देता है। इसकी वजह से ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करना काफी मुश्किल हो जाता है। इतना ही नहीं, डायबिटीज में स्मोकिंग करने से कई गंभीर समस्याओं का जोखिम भी बढ़ जाता है। तो चलिए जानते हैं डायबिटीज में धूम्रपान आपके ब्लड शुगर को कैसे प्रभावित कर सकता है? (How does smoking affect diabetes) या डायबिटीज में स्मोकिंग करने से आपको क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं -

डायबिटीज पर धूम्रपान का प्रभाव - Effects of smoking on diabetes

1. ग्लूकोज का लेवल बिगड़ सकता है 

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं और धूम्रपान करते हैं, तो इससे आपकी स्थिति और खराब हो सकती है। धूम्रपान करने से ब्लड शुगर लेवल बिगड़ सकता है। डायबिटीज में स्मोकिंग करने की वजह से ग्लूकोज का लेवल कम या ज्यादा हो सकता है, जिससे आपकी सेहत को नुकसान हो सकता है। 

2. ऐल्ब्युमिनमेह

डायबिटीज में स्मोकिंग करने से ऐल्ब्युमिनमेह की समस्या भी हो सकती है। इस समस्या में यूरिन में असामान्य मात्रा में ऐलब्युमिन नामक प्रोटीन पाया जाता है। यूरिन में इस प्रोटीन की बहुत ज्यादा मात्रा होने पर नर्व्स डैमेज होने का खतरा काफी ज्यादा बढ़ जाता है। इसके साथ ही, घावों को ठीक होने में भी काफी ज्यादा समय लगता है। 

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज में हार्ट के रोगों से बचने के लिए ऐसे करें एक्सरसाइज, बता रहे हैं एक्‍सपर्ट

3. दिल से जुड़ी समस्याएं

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो धूम्रपान से दूरी बनाकर रखें। धूम्रपान और तम्बाकू के सेवन से दिल से जुड़ी समस्याओं का खतरा काफी बढ़ जाता है। दरअसल, सिगरेट में मौजूद केमिकल्स और टार से एथेरोस्क्लेरोसिस का जोखिम बढ़ सकता है, जिससे ब्लड वेसल्स में प्लाक जमना शुरू हो जाता है। इतना ही नहीं, इससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक का जोखिम भी काफी बढ़ जाता है।

Smoking-In-Diabetes

4. किडनी से जुड़ी बीमारियां 

डायबिटीज के दौरान स्मोकिंग करने से किडनी संबंधी बीमारियों का जोखिम भी काफी ज्यादा बढ़ जाता है। इसके अलावा, इससे आंखों में इंफेक्शन का खतरा भी काफी बढ़ सकता है।

5. कठोर हो सकती हैं धमनियां

रिसर्च में पाया गया है कि धूम्रपान करने से धमनियां (आर्ट्रिज) काफी सख्त हो जाती हैं। इसकी वजह से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन धीमा हो जाता है, जिससे डायबिटीज के मरीजों की समस्या और भी ज्यादा बढ़ सकती है। 

इसे भी पढ़ें: प्री-डायबिटीज से बचाव के लिए आजमाएं ये 5 आसान उपाय

6. फेफड़ों पर पड़ता है बुरा प्रभाव

स्मोकिंग का बुरा प्रभाव हमारे फेफड़ों पर भी पड़ता है। डायबिटीज में स्मोकिंग करने से क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी डिसऑर्डर होने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

तो इस लेख के माध्यम से पता चलता है कि डायबिटीज पर धूम्रपान का क्या प्रभाव होता है। अगर आप डायबिटीज से पीड़ित होने के बाद भी लगातार स्मोकिंग कर रहे हैं, तो इससे कई समस्याओं का जोखिम बढ़ सकता है। 

Disclaimer