Fat Freezing: क्‍या सच में मोटापा कम कर सकता है फैट फ्रीजिंग? जानें कितनी सुरक्षित और फायदेमंद है ये थेरपी

Fat Freezing: फैट फ्रीजिंग पेट, जांघ या हिप की एक्‍सट्रा चर्बी को कम करने और उन्‍हें ट्रिम करने में मदद करता है।  

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jan 07, 2020
Fat Freezing: क्‍या सच में मोटापा कम कर सकता है फैट फ्रीजिंग? जानें कितनी सुरक्षित और फायदेमंद है ये थेरपी

भूल जाओ कि आप मोटे हो या आप मोटापा कम नहीं कर सकते। क्‍योंकि फैट फ्रीजिंग या क्रायोथेरेपी आपके मोटापे को कम करने वाली एक चिकित्‍सा पद्धति है। आज बहुत से लोग अपने मोटापे के कारण परेशान हैं और यही वजह है कि लोग वजन को कंट्रोल में रखने के लिए हमेशा प्रयासरस रहते हैं। बैली फैट हो या जांघ और हिप्‍स का मोटाप, इन सब अनचाहें मोटापे को कम या ट्रिम करने में, यह थेरेपी मददगार है। 

यह ऐसी तकनीक है, जिसमें कि ठंडे तापमान का उपयोग आपकी फैट कोशिकाओं को जमने और नष्ट करने के लिए किया जाता है। जिसके परिणामस्वरूप आपके मोटापे में कमी आती है। हालांकि, फैट फ्रीजिंग उन लोगों के लिए नहीं है, जो वजन घटाने की तलाश में हैं, लेकिन यह आपके शरीर को अच्‍छे शेप और टोनिंग के लिए किया जाता है। आइए यहां हम आपको फैट फ्रीजिंग की इस प्रक्रिया के बारे में और अधिक बताते हें। 

Fat Freezing

फैट फ्रीजिंग क्या है?

फैट फ्रीजिंग ऐसी तकनीक है, जिसे कि क्रायोलिपोलिसिस के रूप में जाना जाता है। यह एक एफडीए (Food and Drug Administration) द्वारा मंजूरी दी गई, एक डबल चिन और शरीर के अन्‍य अनचाहे उभार या मोटापे से छुटकारा पाने के लिए फैट सेल्‍स को फ्रीज करने की नॉन-इनवेसिव विधि है। 

इस तकनीक के माध्‍यम से शरीर के भाग में 25 प्रतिशत फैट को कम करने का वादा किया जाता है। लेकिन सिर्फ एक ही ट्रीटमेंट में नहीं, फैट फ्रीजिंग में पैडल का उपयोग करके स्किन को एक कप सक्‍शन में रखकर फैट सेल्‍स क्रिस्टल लाइट किया जाता है। जिससे कि फैट सेल्‍स का बढ़ना रूक जाता है और प्रत्येक प्रक्रिया शरीर के भाग के आधार पर 35 मिनट से 1 घंटे तक की जा सकती है। इसमें आपको कम से कम परेशानी होती है, क्‍योंकि इस ट्रीटमेंट में शरीर के उस हिस्‍से में पहले बहुत ठंडा और फिर सुन्न महसूस होगा। 

फैट फ्रीजिंग की प्रक्रिया कैसे होती है?

फैट फ्रीजिंग की प्रक्रिया में स्किन को वैक्यूम में खींचा जाता है और एक तापमान में फ्रीज किया जाता है, जहां स्किन सेल्‍स को नुकसान पहुंचाए बिना फैट सेल्‍स को नष्‍ट करने के लिए छोड़ दिया जाता है। फैट फ्रीजिंग या क्रायोलिपोलिसिस मशीन के साथ वैक्यूम कप ऐप्लिकेटर के साथ वांछित क्षेत्र से फैट खींचा या दबाव दिया जाता है।

इसे भी पढें: स्‍मार्टफोन की लत बढ़ा सकती है आपका वजन, जानें वेट लॉस जर्नी में कैसे हानिकारक हो सकता है स्‍मार्टफोन

What is Fat Freezing

इस ट्रीटमेंट में आप एक खींचने के दबाव का अनुभव करेंगे और पांच से 10 मिनट के लिए बहुत ही ठंडा महसूस करेंगे। हर सेशन में शरीर के भाग के आधार पर लगभग एक से तीन घंटे लगते हैं। इस तरह शरीर प्राकृतिक मूत्र प्रक्रिया के माध्यम से फैट को समाप्त करता है। शरीर से फैट को बाहर निकालने में कम से कम तीन से आठ हफ्ते लगते हैं। आप शरीर के जिस हिस्‍से में फैट फ्रीजिंग करवा रहे हैं, उसके आधार पर आपको एक से तीन सेशन की आवश्यकता हो सकती है और फैट कम करने का ट्रीटमेंट किया जाता है। 

फैट फ्रीजिंग के फायदे और नुकसान 

यह लिपोसक्शन के बजाय फैट को कम करने का एक दर्द रहित विकल्प है और प्राकृतिक, सुरक्षित और आरामदायक है। जबकि इसके परिणाम दिखाने के लिए लगभग छह से आठ सप्ताह लगते हैं और यह एक महंगी प्रक्रिया है। इसके अलावा, यह बड़े भागों में फैट के लिए उपयुक्त नहीं है।

इसे भी पढें: झूलते और गोल-मटोल गालों से हैं परेशान? तो अपनाएं फेशियल फैट को कम करने की 5 ईजी ट्रिक्‍स

फैट को कम करने के लिए फैट सेल्‍स के असमान हटाने से हफ्तों या महीनों तक नसों की सुन्नता, सूजन और फैट के वापस आने की संभावना भी हो सकती है। यदि आप फैट फ्रीजिंग के साथ आगे बढ़ने का निर्णय लेते हैं, तो अपने डॉक्टर से इसके बारे में विशिष्ट जोखिमों के बारे में पूछना सुनिश्चित करें।

Read More Article On Weight Management In Hindi

Disclaimer