Expert

क्या डायबिटीज के मरीज रामफल खा सकते हैं? जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

रामफल एक बेहतरीन फल है, लेकिन क्या डायबिटीज के मरीज इसका सेवन कर सकते हैं। इस बारे में एक्सपर्ट से जानें उनकी राय।

Meera Tagore
Written by: Meera TagoreUpdated at: Mar 30, 2023 12:15 IST
क्या डायबिटीज के मरीज रामफल खा सकते हैं? जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

मलेरिया और डेंगू दिवस 2023: बुखार के कारण, लक्षण और रोकथाम गाइड - Onlymyhealth

Can Diabetic Patients Eat Ramphal Fruit In Hindi: रामफल को कस्टर्ड एप्पल या शुगर एप्पल के नाम से भी जाना जाता है। यह फल खाने में जितना स्वादिष्ट होता है, इसके अंदर उतने ही लाभकारी तत्व भी पाए जाते हैं। यह आहार फाइबर, विटामिन और मिनरल्स का अच्छा स्रोत है। आमतौर पर कोई भी इस फल का स्वाद चख सकता है। लेकिन डायबिटीज के मरीजों के लिए इस फल का सेवन करना कितना सही रहेगा, यह चिंता का विषय है। असल में, रामफल काफी मीठा और मलाईदार होता है। ऐसे में अगर डायबिटीज के मरीज रामफल खाए, तो इससे ब्लड शुगर का स्तर बढ़ सकता है। हालांकि, डायबिटिक लोग रामफल खा सकते हैं या नहीं, इसका जवाब आसान नहीं है, क्योंकि यह कुछ खास बातों पर निर्भर करता है। इस विषय पर हमने डाइट एन क्योर क्लीनिक की डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिस्ट दिव्या गांधी से विस्तार से जानकारी ली। पेश है, कुछ जरूरी अंश।

Can Diabetic Patients Eat Ramphal Fruit In Hindi

ग्लाइसेमिक इंडेक्स (Glycemic Index)

ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) एक प्रकार का स्केल होता है, जिसकी मदद से मापा जाता है कि भोजन ब्लड शुगर का स्तर कितनी तेजी से बढ़ रहा है। जिन खाद्य पदार्थों में हाई जीआई होता है, वे जल्दी डाइजेस्ट हो जाते हैं और तेजी से घुल जाते हैं। इस वजह से बॉडी में ब्लड शुगर का स्तर तेजी से बढ़ जाता है। जबकि, ठीक इसके विपरीत, जिन खाने वाली चीजों का जीआई कम होता है, वे धीरे-धीरे पचते और एब्जॉर्ब होते हैं। नतीजतन ब्लड शुगर के लेवल में धीरे-धीरे वृद्धि होती है। रामफल का जीआई कम है। इससे हम यह अंदाजा लगा सकते हैं कि इस फल को खाने से ब्लड शुगर के स्तर में तेजी से वृद्धि होने की संभावना कम है। आपको बताते चलें कि अच्छे स्वास्थ्य के  लिए गाइसेमिक इंडेक्स डाइट बहुत जरूरी होता है। यह डायबिटीज के मरीजों के लिए खासकर फायदेमंद है।

इसे भी पढ़ें: ब्‍लड शुगर लेवल बढ़ने का कारण हो सकती हैं लाइफस्‍टाइल से जुड़ी ये 5 गलत‍ियां

कार्बोहाइड्रेट से भरपूर (Carbohydrate Content)

रामफल में कार्बोहाइड्रेट काफी ज्यादा मात्रा में पाया जाता है, जो ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ा सकता है। हालांकि, यह फाइबर का भी अच्छा स्रोत है, जो कार्बोहाइड्रेट को शरीर में तेजी से घुलने नहीं देता, जिससे ब्लड शुगर का स्तर बैलेंस रहने में मदद मिलती है।

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज रोगियों के लिए ब्लड शुगर कंट्रोल करने के 3 आसान टिप्स- एक्सरसाइज, हेल्दी डाइट और एक मुट्ठी बादाम

फल की मात्रा (Portion Size)

जिस तरह आप क्या चीज कितनी मात्रा में खा रहे हैं, यह बात मायने रखती है। इसी तरह आपके स्वास्थ्य के लिए भी रामफल की मात्रा भी महत्वपूर्ण है। साथ ही गौर करने की बात यह भी है कि आप रामफल के कौन-से भाग का सेवन कर रहे हैं। अगर आप रामफल के उस हिस्से का सेवन कर रहे हैं, जो ब्लड शुगर के लेवल का प्रभावित कर सकता है। ऐसे में इसका सेवन किया जाना उचित नहीं होगा। इसके अलावा, अगर आप बहुत ज्यादा मात्रा में रामफल खाते हैं, तो यह ब्लड शुगर के स्तर के बढ़ने की वजह बन सकता है। रामफल को कम मात्रा में खाना और कम कार्बोहाइड्रेट वाले अन्य खाद्य पदार्थों के साथ खाया जा सकता है। इससे ब्लड शुगर बैलेंस हो सकता है।

स्वास्थ्य पर नजर (Overall Diet)

रामफल खाने से पहले आपको यह देखना होगा कि आपका ओवर ऑल हेल्थ कैसा है? अगर आप उन लोगों में से हैं, जो बैलेंस्ड डाइट लेना पसंद करते हैं, जिसमें कार्बोहाइड्रेट कम और फाइबर ज्यादा होता है, तो आप अपने ब्लड शुगर के लेवर पर कोई नकारात्मक प्रभाव डाले बिना रामफल को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

कुल मिलाकर कहने की बात यह है कि डायबिटिक लोग रामफल को कम मात्रा में खा सकते हैं, क्योंकि इसमें कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है, फाइबर से भरपूर होता है, और यह संतुलित आहार का हिस्सा हो सकता है। हालांकि, आप इस फल को कितना खा रहे हैं, इस बात पर गौर करना जरूरी है। इसे साथ ही, इस फल को कम कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थों के साथ बैलेंस करना जरूरी है। यदि आप अपने आहार में रामफल को शामिल करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको यही सलाह दी जाती है कि एक बार विशेषज्ञ से राय जरूर ले लें।

image credit: freepik

Disclaimer