बॉडी के लिए बेस्ट माने जाते हैं ये 5 स्लीपिंग पोजीशन, अच्छी नींद और अच्छी सेहत के लिए जरूर अपनाएं

Best Sleeping Position: आप जिस पोजीशन में सोते हैं वह भी आपके स्वास्थ्य में अहम भूमिका निभाती है। जानें 5 बेस्ट स्लीपिंग पोजीशन।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Apr 06, 2022Updated at: Apr 06, 2022
बॉडी के लिए बेस्ट माने जाते हैं ये 5 स्लीपिंग पोजीशन, अच्छी नींद और अच्छी सेहत के लिए जरूर अपनाएं

हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छी और पर्याप्त नींद लेना बेहद आवश्यक है। एक अच्छी नींद लेना हमारे शरीर को कई तरह से लाभ पहुंचाता है, बल्कि यह हमारे इम्यून सिस्टम के लिए भी फायदेमंद है। लेकिन क्या आप जानते हैं, आपके सोने का तरीका भी आपकी अच्छी नींद और सेहत निर्धारित करने में अहम भूमिका निभाता है? जी हां, आपने बिल्कुल सही पढ़ा है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मानें तो आप जिस पोजीशन में सोते हैं यह आपके स्वास्थ्य को कई तरह से प्रभावित करता है। सही पोजीशन में सोना आपको कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकता है, जबकि गलत पोजीशन में सोना आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। लेकिन अक्सर लोग इस बात को लेकर असमंजस में रहते हैं कि सेहत के लिहाज किस पोजीशन में सोना ज्यादा बेहतर है (Best Sleeping Direction In Hindi)। अगर आप भी इसका जवाब तलाश रहे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह पर हैं। इस लेख में हम आपको सोने के लिए 5 बेस्ट स्लीपिंग पोजीशन (Best Sleeping Positions In Hindi) के बारे में बता रहे हैं।

सोने के लिए 5 बेस्ट स्लीपिंग पोजीशन (Best Sleeping Positions And Their Benefits In Hindi)

1. फीटल पोजीशन या भ्रूण की मुद्रा में सोना

भ्रूण मुद्रा में सोना सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। यह न केवल आरामदायक है बल्कि पीठ के निचले हिस्से के दर्द से राहत पाने में भी मदद करता है, यदि आप गर्भवती हैं तो यह आपके लिए बहुत अच्छा है, साथ ही यह नींद के दौरान खर्राटों को कम करने में भी मददगार है। लेकिन ध्यान रहे इस पोजीशन में सोते समय आपका शरीर आरामदायक स्थिति में हो, नहीं तो इससे सुबह आपको शरीर में दर्द का अनुभव हो सकता है।

2. पेट के बल सोना

अपने पेट के बल सोना आपके खर्राटों को कम करने  में मदद कर सकता है और स्लीप एपनिया वाले लोगों के लिए बेहद मददगार साबित हो सकता है। लेकिन इस पोजीशन में सोने के चलते आपको पीठ और गर्दन में दर्द की समस्या हो सकती है। साथ ही यह आपके जोड़ों पर भी दबाव डाल सकता है, जिससे आपको दर्द और थकान होने लगती है। अगर आप कमर दर्द से राहत पाना चाहते हैं तो अपने पेट के नीचे तकिया रखकर सोने से आपको लाभ मिल सकता है

इसे भी पढें: माइंडफुलनेस मेडिटेशन है डिप्रेशन दूर करने में फायदेमंद, जानें इसे करने का तरीका और सावधानियां

3. पीठ के बल सोना

अपनी पीठ के बल सोना सेहत के लिहाज से अधिक फायदेमंद होता है। क्योंकि यह आपकी रीढ़ की हड्डी के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है, और कूल्हे और घुटने के दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। यह आपके शरीर के पोस्चर को बनाए रखने में मदद करता है, जिससे आपकी पीठ और जोड़ों पर अनावश्यक दबाव कम होता है। इस पोजीशन में सोते समय  आप अपने घुटनों के पीछे एक तकिया लगाकर सोना भी आपको कई लाभ पहुंचाता है। बेशक, इस पोजीशन में सोने के कुछ संभावित नुकसान भी हो सकते हैं। जैसे खर्राटे लेने वाले या स्लीप एपनिया वाले लोगों के लिए अपनी पीठ के बल सोना मुश्किल हो सकता है। पीठ दर्द वाले लोगों के लिए भी यह इस पोजीशन में सोना असहज हो सकता है।

5. अपनी तरफ करवट लेकर सोना

करवट लेकर सोना फीटल पोजीशन की तरह ही आपके शरीर के लिए फायदेमंद है। लेकिन इस पोजीशन में सोते समय अपने पैरों को छाती की ओर नहीं खींचा जाता है। अपनी तरफ करवट लेकर सोना आपके खर्राटों को कम कर सकता है, साथ ही हार्टबर्न से राहत पाने में मदद कर सकता है। यह आपके पाचन के लिए भी बहुत अच्छा हो सकता है। हालांकि, इस स्थिति में कुछ कमियां हैं जिनसे आपको अवगत होना चाहिए। जैसे यह कंधों में कुछ अकड़न और जिस तरफ आप सोते हैं उस तरफ जबड़े में जकड़न पैदा कर सकता है। अगर आप करवट लेकर सोते हैं तो आपको बाईं ओर करवट लेकर सोना चाहिए, क्योंकि दाहिनी ओर सोने से सीने में जलन और एसिड रिफ्लक्स की समस्या बढ़ सकती है। अगर आप पीठ के निचले हिस्से में दर्द से जूझ रहे हैं, तो तकिये  लेकर सोना सबसे अच्छा है। अपने पैरों के बीच एक तकिया रखने से आपके कूल्हों को बेहतर ढंग संरेखित करने में मदद करता है, जिससे पीठ के निचले हिस्से का दर्द कम होता है।

इसे भी पढें: क्या आप भी तो तनाव, चिंता और डिप्रेशन को एक ही समझते हैं? चलिए डॉक्टर से जानते हैं इन तीनों में अंतर

सही और अच्छी नींद लेना शरीर के समग्र कल्याण के लिए आवश्यक है। तो ऐसे में एक बेहतर और अच्छी नींद लेने के लिए इन स्लीपिंग पोजीशन को आजमाएं और अपने सेहत को बढ़ावा दें।

Disclaimer