नाभ‍ि में इंफेक्शन के लक्षण नजर आने पर अपनाएं ये 5 उपाय

Belly Button Infection: मानसून के दौरान नाभ‍ि में इंफेक्‍शन की समस्‍या होने पर आप कुछ आसान उपाय अपना सकते हैं। जानने के ल‍िए पढ़ें पूरा लेख।  

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 20, 2022Updated at: Jul 20, 2022
नाभ‍ि में इंफेक्शन के लक्षण नजर आने पर अपनाएं ये 5 उपाय

नाभ‍ि में कई बार बैक्‍टीर‍ियल या यीस्‍ट संक्रमण हो जाता है। नाभ‍ि में इंफेक्‍शन होने पर मवाद न‍िकल सकता है। नाभ‍ि में संक्रमण के कारण खुजली, सूजन या दर्द महसूस हो सकता है। नाभ‍ि में पसीना, प‍ियर्स‍िंग के कारण संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। नाभ‍ि में संक्रमण दूर करने के ल‍िए आप कुछ आसान उपायों को अपना सकते हैं। इस लेख में हम ऐसे 5 उपाय जानेंगे। 

musturd oil benefits     

1. सरसों का तेल 

सरसों के तेल (musturd oil) की मदद से भी नाभ‍ि के इंफेक्‍शन से छुटकारा म‍िल सकता है। सरसों के तेल में एंटीऑक्‍सीडेंट्स मौजूद होते हैं। सरसों के तेल के इस्‍तेमाल से नाभ‍ि के इंफेक्‍शन, बालों में इंफेक्‍शन की समस्‍या दूर होती है। सरसों के तेल को नाभ‍ि पर रातभर लगा रहने दें। सुबह साफ पानी से नाभ‍ि साफ करके क्रीम लगा लें।

इसे भी पढ़ें- नाभि में लगाएं कैस्टर ऑयल (अरंडी का तेल), सेहत को मिलेंगे ये 5 फायदे

2. नमक का इस्‍तेमाल 

नाभ‍ि में इंफेक्‍शन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप नमक (salt) का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। नमक का इस्‍तेमाल करने के ल‍िए गरम पानी में नमक म‍िला लें। फ‍िर उसे कॉटन की मदद से नाभ‍ि पर लगा लें। आधे घंटे बाद साफ पानी से नाभ‍ि को साफ करें। फ‍िर नाभ‍ि सूखने के बाद बाहरी ह‍िस्‍से में एंटी-बैक्‍टीर‍ियल क्रीम लगा लें। नमक को आप द‍िन में 1 से 2 बार लगा सकते हैं।    

3. एलोवेरा का इस्‍तेमाल 

एलोवेरा (aloevera) में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इंफेक्‍शन दूर करने के ल‍िए एलोवेरा के ताजे जेल को न‍िकालकर उसे नाभ‍ि पर लगा लें। आप द‍िन में 2 से 3 बार एलोवेरा को नाभ‍ि पर लगा सकते हैं। फ्रेश एलोवेरा की जगह आप बाजार में म‍िलने वाले एलोवेरा जेल का भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं।     

4. नीम का पेस्‍ट लगाएं 

नाभ‍ि में इंफेक्‍शन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप नीम के पेस्‍ट (neem paste) का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। नीम के पेस्‍ट में एंटी-फंगल और एंटी-बैक्‍टीर‍ियल गुण होते हैं। नाभ‍ि में खुजली की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए भी नीम का पेस्‍ट फायदेमंद माना जाता है। नीम की पत्तियों का पेस्‍ट बना लें। फ‍िर उसे नाभ‍ि पर लगाकर छोड़ दें। 20 से 30 म‍िनट बाद नाभ‍ि को साफ पानी से धो लें। इस उपाय को आप हफ्ते में 2 से 3 बार इस्‍तेमाल कर सकते हैं।  

5. देसी घी का इस्‍तेमाल 

देसी घी (desi ghee) को नाभ‍ि पर लगाने से संक्रमण दूर होता है। देसी घी को नाभ‍ि पर लगाकर छोड़ दें। नाभ‍ि में खुजली, रेडनेस या इंफेक्‍शन दूर करने का ये एक आसान उपाय है। नाभ‍ि में संक्रमण होने पर आप शहद का भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। शहद की मदद से आप बैक्‍टीर‍ियल इंफेक्‍शन की समस्‍या दूर होती हे। नाभ‍ि पर शहद लगाकर छोड़ दें। 15 म‍िनट बाद त्‍वचा को साफ पानी से धो लें।   

नाभ‍ि के इंफेक्‍शन से कैसे बचें?- Belly Button Infection Prevention Tips 

  • नहाने के बाद, नाभ‍ि को अच्‍छी तरह से पोछ लें। गीली नाभ‍ि में इंफेक्‍शन की आशंका बढ़ जाती है।
  • रोजाना माइल्‍ड साबुन से नाभ‍ि की गंदगी साफ करें। साफ नाभ‍ि में संक्रमण का खतरा कम होता है। 
  • नाभ‍ि के बाहरी ह‍िस्‍से में ही क्रीम लगाएं। नाभ‍ि के अंदर क्रीम या लोशन लगाने से बचें। 
  • नाभ‍ि में इंफेक्‍शन की समस्‍या से बचने के ल‍िए आपको प‍ियर्स‍िंग करवाने से बचना चाह‍िए।
  • प‍ियर्स‍िंग के कारण इंफेक्‍शन होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा ज्‍यादा टाइट कपड़े पहनने से भी बचें।  

इन आसान ट‍िप्‍स को फॉलो करके आप नाभ‍ि के संक्रमण से बच सकते हैं। ऊपर बताए उपायों को नाभ‍ि में इंफेक्‍शन होने पर इस्‍तेमाल कर सकते हैं। क‍िसी सामग्री से एलर्जी हो, तो डॉक्‍टर की सलाह पर ही ऊपर बताए उपायों को अपनाएं। 

Disclaimer