मानसून के दौरान श‍िशु की साफ-सफाई का ख्‍याल कैसे रखें?

Baby Hygiene Tips: मानसून के दौरान श‍िशु की साफ-सफाई का ख्‍याल रखकर आप उसे बीमार‍ियों से बचा सकते हैं। आगे पढ़ें आसान ट‍िप्‍स।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 15, 2022Updated at: Jul 15, 2022
मानसून के दौरान श‍िशु की साफ-सफाई का ख्‍याल कैसे रखें?

नवजात श‍िशु की रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बड़ों के मुकाबले कमजोर होती है इसल‍िए वे जल्‍दी बीमार पड़ते हैं। मानसून के दौरान आपको श‍िशु को बीमारी और इन्‍फेक्‍शन से बचाने के ल‍िए उनकी साफ-सफाई पर गौर करना चाह‍िए। बार‍िश के मौसम में त्‍वचा रोग, पेट के रोग, सर्दी-खांसी, बुखार आद‍ि होने की आशंका बढ़ जाती है। इस दौरान श‍िशु की साफ-सफाई का ख्‍याल रखने के ल‍िए आप नीचे बताए जरूरी टि‍प्‍स जरूर अपनाएं।

monsoon hygiene tips  

1. श‍िशु के शरीर को साफ रखें 

मानसून के दौरान श‍िशु के शरीर में संक्रमण और बीमार‍ियां होने की आशंका बढ़ जाती है। मानसून के दौरान उमस के कारण श‍िशु को ज्‍यादा पसीना आएगा ज‍िसके कारण त्‍वचा में खुजली, रैशेज या बेबी एक्‍ने की समस्‍या हो सकती है। आप श‍िशु के शरीर को मानसून के दौरान रोजाना साफ करें। मौसम में बदलाव के कारण श‍िशु को ठंडे पानी से नहलाने के बजाय गुनगुने पानी से नहलाएं। श‍िशु को रोजाना नहलाने के बजाय स्‍पंज भी कर सकते हैं।   

इसे भी पढ़ें- Baby Care: आयुर्वेद के अनुसार मानसून में कैसे रखें अपने बच्चों का ख्याल, जानिए हमारी आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट से 

2. श‍िशु के कपड़ों पर गौर करें 

आपको इस बात का खास ख्‍याल रखना है क‍ि बच्‍चे के कपड़े मानसून के मौसम में साफ हों। मानसूस में उमस बढ़ जाने के कारण कीटाणु बढ़ जाते हैं। कीटाणु, बच्‍चों के कपड़े के जर‍िए उनके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं। आप मानसून के दौरान श‍िशु के कपड़े द‍िन में कम से कम 2 बार बदलें। इसके अलावा शि‍शु को आरामदायक कॉटन के कपड़े पहनाएं। बच्‍चों के कपड़े धुले और सूखे होने चाह‍िए।     

3. श‍िशु के नाखून साफ करें

श‍िशु अपनी उंगल‍ियों को मुंह में डाल लेते हैं। मानसून के दौरान, गंदे नाखून से श‍िशु के पेट में संक्रमण हो सकता है। पेट में संक्रमण के कारण श‍िशु को पेट में दर्द, उल्‍टी, डायर‍िया की समस्‍या हो सकती है। इन समस्‍याओं से बचने के ल‍िए आप श‍िशु के नाखून को साफ रखें। उनमें जमी गंदगी को साफ कर दें और नाखून ज्‍यादा बढ़ने पर उन्‍हें काट दें।  

4. श‍िशु का डायपर बदलते रहें

बार‍िश के द‍िनों में नमी या गीलेपन के कारण त्‍वचा में इन्‍फेक्‍शन (skin infection) जल्‍दी हो जाता है। इन्‍फेक्‍शन के कारण शि‍शु को रैशेज की समस्‍या (rashes in hindi) हो सकती है। आप समय-समय पर श‍िशु का डायपर चेक करते रहें। डायपर गीला होने पर उसे तुरंत बदल दें। गीले डायपर से श‍िशु को ठंड भी लग सकती है इसल‍िए मानसून के दौरान खास ख्‍याल रखें। 

इन ट‍िप्‍स को अपनाएं 

  • श‍िशु के कमरे को साफ रखें।
  • कमरे की ख‍िड़की पर जाली लगाएं ताक‍ि मच्‍छर अंदर न आएं।
  • श‍िशु को स्‍तनपान कराने के बाद मुंह को साफ कपड़े से पोछ दें। 
  • श‍िशु को ढीले कपड़े पहनाएं।
  • श‍िशु के ल‍िए कॉटन फैब्र‍िक ही चुनें।   

नवजात श‍िशु की साफ-सफाई का ख्‍याल रखकर आप उसे मानसून में बीमार‍ियों से बचा सकते हैं। इन ट‍िप्‍स को अपनाएं और बीमारी के लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्‍टर से सलाह लें। 

Disclaimer