Doctor Verified

बॉडी बनाने का आयुर्वेदिक उपाय है अश्वगंधा, जानें इस्‍तेमाल के 4 तरीके

बॉडी बनाने के ल‍िए आयुर्वेद‍िक तरीका अपनाना चाहते हैं, तो अश्वगंधा का इस्‍तेमाल करें। जानें सेवन का तरीका।  

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Oct 21, 2022 12:00 IST
बॉडी बनाने का आयुर्वेदिक उपाय है अश्वगंधा, जानें इस्‍तेमाल के 4 तरीके

बॉडी ब‍िल्‍ड‍िंग के ल‍िए कसरत और डाइट का सहारा ल‍िया जाता है। क्‍या आपको पता है क‍ि आयुर्वेद‍िक तरीके से बॉडी कैसे बनाई  जाती है? आयुर्वेद में ऐसी कई जड़ी-बूट‍ियों हैं ज‍िनसे मसल्‍स बनाई जा सकती है। ऐसी एक जड़ी-बूटी है अश्वगंधा। अश्वगंधा में एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीबैक्‍टीर‍ियल गुण होते हैं। अश्वगंधा का सेवन पुरुष और मह‍िला दोनों कर सकते हैं। इस लेख में हम जानेंगे अश्वगंधा को बॉडी ब‍िल्‍ड‍िंग के ल‍िए सेवन करने का सही तरीका। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

ashwagandha benefits

अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा की मदद से ताकत बढ़ाने में मदद म‍िलती है। इसके साथ ही शरीर की रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बढ़ाने के ल‍िए अश्वगंधा का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। तनाव, अन‍िद्रा, आलस्‍य और थकान आद‍ि को दूर करने के ल‍िए अश्वगंधा एक फायदेमंद जड़ी-बूटी मानी जाती है। अश्वगंधा का इस्‍तेमाल, नपुंसकता दूर करने, कामुकता बढ़ाने के ल‍िए क‍िया जाता है। पाचन तंत्र को बेहतर बनाने के ल‍िए भी अश्वगंधा को फायदेमंद माना जाता है। 

इसे भी पढ़ें- फ्रोजन शोल्डर के कारण कंधे में अकड़न और दर्द? ये आयुर्वेदिक उपाय दिलाएंगे राहत   

बॉडी बनाने के ल‍िए अश्वगंधा के फायदे

  • अश्वगंधा की मदद से टेस्‍टोस्‍टेरॉन हार्मोन बढ़ाने में मदद म‍िलती है। टेस्‍टोस्‍टेरॉन का स्‍तर बढ़ने से बॉडी मसल्‍स अच्‍छे से र‍िपेयर हो पाती हैं और मसल्‍स बनने लगती हैं।
  • अश्वगंधा की मदद से स्‍ट्रेंथ और मसल्‍स की ग्रोथ में मदद म‍िलती है। अश्वगंधा की मदद से बॉडी फैट को कम करने में भी मदद म‍िलती है।
  • अश्वगंधा की मदद से बॉडी में हीमोग्‍लोब‍िन का स्‍तर बढ़ाने में भी मदद म‍िलती है। इससे बॉडी में ऑक्‍सीजन की मात्रा ज्‍यादा रहती है और मसल्‍स बनाने में मदद म‍िलती है।

अश्वगंधा को इस्‍तेमाल करने का तरीका

अश्वगंधा का सेवन कई तरीकों से क‍िया जा सकता है। अश्वगंधा का चूर्ण, काढ़ा बनाकर खा सकते हैं। अन्‍य तरीकों के बारे में आगे जानेंगे-

1. अश्वगंधा चूर्ण

2 ग्राम अश्वगंधा का चूर्ण बनाकर उसका सेवन कर सकते हैं। 1 चम्‍मच सुबह और शाम गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं। अश्वगंधा की कैप्‍सूल भी बाजार में म‍िलती है लेक‍िन उसका सेवन डॉक्‍टर की सलाह के बगैर न करें।

2. अश्वगंधा काढ़ा

अश्वगंधा काढ़े का सेवन करना भी फायदेमंद माना जाता है। 2 ग्राम अश्वगंधा के पाउडर में थोड़ा सा घी बनाएं और गुड़ के साथ उसका सेवन करें। 2 चम्‍मच अश्वगंधा पाउडर को 3 से 4 चम्‍मच घी में भुने। फ‍िर इसमें 1 चम्‍मच खजूर म‍िलाएं। इस म‍िश्रण को आप दूध के साथ या दूध म‍िलाकर खा सकते हैं।

3. अश्वगंधा और दूध

अश्वगंधा को दूध के साथ ले सकते हैं। रोजाना द‍िन में 2 बार अश्वगंधा को दूध के साथ म‍िलाकर सेवन करें। दूध के साथ करीब 5 ग्राम अश्वगंधा का इस्‍तेमाल करें। अश्वगंधा का सेवन करने के साथ कसरत करना भी जरूरी होता है। 

4. अश्वगंधा और अलसी के बीज

अश्वगंधा का सेवन अलसी के बीज और दही के साथ कर सकते हैं। अलसी के बीज में ओमेगा 3 पाया जाता है। अश्वगंधा और अलसी के बीज दोनों की बॉडी बनाने के ल‍िए जरूरी फूड्स माने जाते हैं। इनका सेवन करने से शरीर में एनर्जी बढ़ती है। 1 चम्‍मच दही में 1 चम्‍मच अश्वगंधा और अलसी के बीज का पाउडर म‍िलाएं। इस म‍िश्रण का सेवन सुबह करना ज्‍यादा फायदेमंद होगा।      

अश्वगंधा लेने में बरतें सावधानी

अश्वगंधा का सेवन सीम‍ित मात्रा में ही क‍िया जा सकता है। द‍िनभर में 1 से 2 चम्‍मच यानी 4 से 5 ग्राम से ज्‍यादा मात्रा का सेवन करने से बचना चाह‍िए। अश्वगंधा का ज्‍यादा सेवन करने से पेट खराब होना, डायर‍िया, अल्‍सर, एस‍िड‍िटी, स्‍क‍िन रैशेज और उल्‍टी आना आद‍ि लक्षण नजर आते हैं। गर्भवती मह‍िलाओं को अश्वगंधा का सेवन करने से बचना चाह‍िए। अश्वगंधा का सेवन करने से पहले डॉक्‍टर से सलाह जरूर लें।  

बॉडी ब‍िल्‍ड‍िंग के सेफ तरीके के ल‍िए डॉक्‍टर से जानकारी लें। लेख पसंद आया हो, तो शेयर करना न भूलें।

Disclaimer