अमड़ा के इस्तेमाल से सेहत को हो सकते हैं ये 10 फायदे, इन आयुर्वेदिक तरीकों से करें इस्तेमाल

आयुर्वेद में अमड़ा का इस्तेमाल कई समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। चलिए जानते हैं इसके फायदे, प्रयोग करने का तरीका और नुकसान

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Aug 18, 2021Updated at: Aug 18, 2021
अमड़ा के इस्तेमाल से सेहत को हो सकते हैं ये 10 फायदे, इन आयुर्वेदिक तरीकों से करें इस्तेमाल

अमड़ा स्वाद में खट्टा और सेहत के गुणों से भरपूर होता है। इसे कई नामों से जाना जाता है, जैसे- आमड़ा, अमड़ा, आम्रातक,  अमरा, आम्बा इत्यादि। इसका आकार जामुन की तरह, लेकिन रंग हरा होता है। इसका इस्तेमाल कई तरह की चीजों जैसे- अचार, चटनी, सब्जी इत्यादि को बनाने के लिए किया जाता है। अमड़ा (Spondias Mangifera) से तैयार यह सभी चीजें काफी ज्यादा स्वादिष्ट होती हैं। यह न केवल खाने में इस्तेमाल होता है, बल्कि कई आयुर्वेदिक औषधी में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी का कहना है कि अमड़ा या आम्रातक एक ऐसा फल है, जो कई औषधीय गुणों से भरा होता है। इसके इस्तेमाल से आप कई बीमारियों को दूर कर सकते हैं। अमड़ा कच्चा हो या फिर पका दोनों ही अवस्था में स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। इसके इस्तेमाल से गठिया, गले में दर्द, स्किन से जुड़ी परेशानियों को दूर किया जा सकता है। चलिए विस्तार से जानते हैं अमड़ा के (Benefits of Spondias Mangifera) फायदों के बारे में-

अमड़ा के फायदे (Health benefits of Amda)

1. नाक की समस्या

आयुर्वेदाचार्य के मुताबिक, अमड़ा का इस्तेमाल नाक से जुड़ी किसी भी परेशानी को दूर करने के लिए किया जा सकता है। नाक से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए अमड़ा के तनों की छाल लें। अब इस छाल को अच्छे से पीस लें। इसके बाद इसको बकरी के 1 गिलास दूध में मिलाकर पिएं। कुछ दिनों तक इस दूध को पीने से नाक से जुड़ी समस्या जैसे- साइनस, बंद नाक, श्वसन में परेशानी दूर हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - पेट और लिवर के कई रोगों में फायदेमंद है विजयसार, जानें इसके 8 फायदे और कुछ नुकसान

2. गले में दर्द को करे दूर

अगर संक्रमण या बैक्टीरिया की वजह से आपको गले में बार-बार दर्द महसूस हो रहा है, तो आप आयुर्वेदाचार्य के बताए अनुसार आम्रातक का इस्तेमाल कर सकते हैं। अमड़ा के कच्चे फलों के सेवन से गले में होने वाली कई परेशानियों को दूर किया जा सकता है। 

3. पेट की समस्या से राहत

पेट से जुड़ी परेशानी होने पर अमड़ा का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए अमड़ा के छिलकों को घीसकर रस निकाल लें। करीब 2 से 3 चम्मच रस पीने से अतिसार की समस्या दूर हो सकती है। इसके अलावा आप अमड़ा की पत्तियों का चूर्ण बनाकर भी सेवन कर सकते हैं। इससे पेट से जुड़ी परेशानी दूर हो सकती है।

4. अर्थराइटिस की समस्याओं से राहत

आधुनिक समय में कई लोगों को अर्थराइटिस की समस्या हो रही है। बड़े-बुजुर्गों से लेकर कम उम्र के लोग भी अर्थराइटिस के शिकार हो रहे हैं। अगर आपको भी अर्थराइटिस की परेशानी है, तो आप अमड़ा का इस्तेमाल कर सकते हैं। जी हां, आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि गठिया के लक्षण दिखने पर इसके छिलकों का पेस्ट तैयार कर लीजिए। अब इस पेस्ट को प्रभावित स्थान पर लगाएं। इससे गठिया में होने वाले दर्द और सूजन से राहत मिल सकता है। 

5. स्किन की परेशानियां होंगी दूर

अगर आपकी स्किन पर किसी तरह का घाव, खुजली या फिर अन्य समस्या है, तो अमड़ा का इस्तेमाल कर सकते हैं। शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करने के लिए अमड़ा के कच्चे फलों का सेवन करें। इससे चेहरे पर चमक आएगी। इसके अलावा अगर आपके स्किन पर कील मुंहासे हैं, तो इसके पत्तों और छाल का पेस्ट तैयार करे स्किन पर लगा सकते हैं। इससे पिंपल्स और स्किन की कई परेशानियां दूर हो सकती हैं। 

6. एसिडिटी की परेशानी से दिलाए राहत

अगर आपको बार-बार एसिडिटी की परेशानी हो रही है, तो आम्रातक आपकी इस परेशानी को दूर करने में लाभकारी हो सकता है। इसके लिए अमड़ा के कुछ कोमल फलों को लें। अब इन फलों को पीसकर रस तैयार कर लें। इस रस में थोड़ी सी चीनी मिक्स करके सुबह-शाम इसका सेवन करें। इससे एसिडिटी की परेशानी दूर हो सकती है।   

7. मासिक धर्म को करे नियमित

अमड़ा का सेवन करने से महिलाओं की भी समस्या दूर हो सकती है। आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि अगर आपको पीरियड्स नियमित रूप से नहीं हो रहे हैं, तो अमड़ा की जड़ों का इस्तेमाल करें। इससे पीरियड्स नियमित हो सकते हैं। पीरियड्स की अनियमितता को दूर करने के लिए अमड़ा की जड़ों का पेस्ट तैयार कर लें। इसके बाद 1 गिलास पानी में 1 चम्मच यह पेस्ट मिक्स करें। नियमित रूप से इसका सेवन करने से पीरियड्स की परेशानी दूर हो सकीत है। 

इसे भी पढ़ें - घमरा का पौधा है बेहतरीन आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी, डायबिटीज की समस्या, इम्यूनिटी बढ़ाने जैसे इन 8 फायदों के लिए करे

8. कान में दर्द को करे दूर

कान में दर्द होने पर आप अमड़ा का इस्तेमाल कर सकते हैं। आयुर्वेदिक रूप से यह कान में किसी भी वजह से होने वाले दर्द को दूर कर सकता है। आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि अगर आपको कान में दर्द है, तो आम्रातक के पत्तियों से रस निकाल लें। अब इस रस की दो से तीन बूंदे, अपने कानों में डालें। इससे आपको कान के दर्द से काफी जल्द राहत मिल सकता है। 

9. डायरिया से राहत

डायरिया से राहत पाने के लिए भी आप अमड़ा का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए इसके तने की छाल लें। अब इस छाल को 2 कप पानी में डालकर अच्छी तरह उबालें। जब पानी आधा रह जाए, तो इसका सेवन करें। इससे डायरिया की परेशानी दूर हो सकती है। 

10. घाव को करे ठीक

अगर आपको किसी तरह का घाव है, तो उस घाव को भरने में भी अमड़ा आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए अमड़ा के फलों का पेस्ट तैयार कर लें। अब इस पेस्ट को घाव के बाहर की ओर लगाएं। इससे आपको घाव में होने वाले दर्द से छुटकारा मिल सकता है। साथ ही आपका घाव जल्दी भर जाएगा।

अमड़ा के नुकसान (Side Effects of Amda)

वैसे तो अमड़ा स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद है, लेकिन अगर आप इसका सेवन जरूरत से ज्यादा करते हैं तो इससे सेहत को कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। 

अमड़ा में विटामिन सी की मौजूदगी होती है। अगर आप जरूरत से ज्यादा अमड़ा का सेवन करते हैं, तो इससे आपको डायरिया, पेट खराब, दस्त, उल्टी की शिकायत हो सकती है। इसके अलावा शरीर में विटामिन सी की अधिकता के कारण डिहाइड्रेशन की भी परेशानी हो सकती है। इसलिए जरूरत से ज्यादा इसका सेवन न करें। वहीं, अगर आप इसका इस्तेमाल आयुर्वेदिक रूप से कर रहे हैं, तो एक बार किसी विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

ध्यान रखें कि अमड़ा स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद है। लेकिन इसका सेवन या फिर किसी अन्य तरीकों से इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर या फिर आयुर्वेदाचार्य से संपर्क जरूर करें। 

Image Credit - Pixabay

Read more Articles on Ayurveda in Hindi 

Disclaimer