तनाव से निपटने के लिए शराब या कॉफी नहीं, बल्कि स्‍वस्‍थ आदतें अपनाएं: रिसर्च

अल्कोहल या चीनी का सेवन किए बिना और स्वस्थ आदतों को अपनाने से मस्तिष्क के तनाव से निपटने के लिए जा सकता है।  

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Dec 09, 2019Updated at: Dec 09, 2019
तनाव से निपटने के लिए शराब या कॉफी नहीं, बल्कि स्‍वस्‍थ आदतें अपनाएं: रिसर्च

न्यूरोसाइंटिस्ट डॉ. सेलेना बार्टलेट, जो एक शोधकर्ता के रूप में पिछले 25 वर्षों से तनाव पर प्रतिक्रिया करने के लिए जिस तरह से हमारे दिमाग की प्रतिक्रिया का मानचित्रण कर रहे हैं, उनके अनुसार हमारा दिमाग अक्सर चीनी और शराब की खपत जैसे नशे की लत व्यवहार के माध्यम से तनाव और आघात से निपटता है। 

क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं ने यह भी कहा है कि शांतिपूर्ण दिमाग प्राप्त करने की दिशा में पहला कदम यह समझना है कि आप तनाव को कुशलता से संभालने के लिए अपने मस्तिष्क को प्रशिक्षित कर सकते हैं। बार्टलेट का कहना है, मेरी प्रयोगशाला न्यूरोप्लास्टी का उपयोग करने की क्षमता को देखती है, जो मस्तिष्क को स्वयं बदलने की क्षमता है, जिससे मस्तिष्क पर उस तनाव और ट्रामा के प्रभाव को कम करने और मस्तिष्क की शक्ति का उपयोग करने में मदद मिलती है। "बार्टलेटने कहा, मजबूत जीवन उद्देश्य वाले लोग, अपने लिए आसानी से स्वस्थ विकल्प बनाते हैं।

Tackle Stress

इसे भी पढें: डायबिटीज कंट्रोल करने में इंसुलिन इंजेक्शन से ज्यादा बेहतर हो सकता है खानपान की आदतों में बदलाव: रिसर्च

बार्टलेट का कहना है, सबसे बुनियादी स्वस्थ बदलाव में भी समय लगता है। आप वास्तव में हर दिन छोटी चीजें करके मस्तिष्क को प्रशिक्षित कर सकते हैं, जैसे कि आप सुबह कैसे उठते हैं, आप क्या खाते हैं, व्यायाम जो आप करते हैं, सोते हैं और पानी पीते हैं,"। बार्टलेट ने आगे कहा कि लंबे समय तक चीनी का अधिक सेवन मस्तिष्क के भावनात्मक भाग अमिग्डाला पर काम करता है, जो एक तरह से मस्तिष्क को तनाव के प्रति अधिक प्रतिक्रियाशील बनाता है।

उन्‍होंने इस बात पर जोर देते हुए कहा है कि किसी को यह समझना चाहिए कि हमारा दिमाग सकारात्मक जानकारी पर नकारात्मक प्रक्रिया करता है।  जब आप सुबह उठते हैं, तो अपने मस्तिष्क को एक सकारात्मक दिशा में स्थापित करें। इसलिए यह नकारात्मकता की तुलना में अधिक सकारात्मक जानकारी लेने लगेगा।

Healthy Habit For Reduce Stress

इसे भी पढें: घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं में ज्यादा होती हैं खतरनाक बीमारियां, शोध में हुआ खुलासा

बार्टलेट ने कहा, "हम अपने दिमाग को न्यूरोप्लास्टी के सिद्धांतों का उपयोग करके अधिक लचीला बनने के लिए प्रशिक्षित कर सकते हैं। हम खुद को किसी चीज पर भरोसा करने के बजाय तनाव को नियंत्रित करने के लिए एक स्वस्थ रास्‍ता चुन सकते हैं"। इस सरल परिवर्तन ने तनाव से निपटने की क्षमता को बदल दिया है। 

बार्टलेट ने कहा, "मैं सबसे खुश हूं, मैं अभी भी चीजों से ट्रिगर हो सकता हूं। हालांकि, अब मुझे पता है कि तनाव को कैसे संभालना है।”

Read More Article On Healthy News In Hindi

Disclaimer