International Women's Day: महिलाएं खुद को कैसे रखें फिट और एक्टिव? जानें स्‍वस्‍थ रहने के 9 आसान उपाय

जब तक आपकी हेल्‍थ ठीक नहीं होगी तब तक आप सशक्‍त नहीं बन सकती हैं। आज अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस के मौके पर हम स्‍वस्‍थ्‍य रहने के 9 टिप्‍स बता रहे हैं

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Mar 08, 2019Updated at: Mar 07, 2020
International Women's Day: महिलाएं खुद को कैसे रखें फिट और एक्टिव? जानें स्‍वस्‍थ रहने के 9 आसान उपाय

वह दिन अब नहीं रहे जब महिलाओं को सिर्फ घर के कामों तक ही सीमित रखा जाता था। अब वह हर क्षेत्र में खुद को साबित कर रहीं हैं। वे घर के कामकाज के साथ बच्‍चों की भी बखूबी देखभाल कर रही हैं। ऑफिस में अपने सहकर्मियों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं। लेकिन सबसे बड़ा सवाल उनकी स्‍वास्‍थ्‍य का है, क्‍या इतनी मेहनत के बाद महिलाएं अपनी सेहत का ठीक तरह से ध्‍यान रख पाती हैं, शायद नहीं। जब तक आपकी हेल्‍थ ठीक नहीं होगी तब तक आप सशक्‍त नहीं बन सकती हैं। आज अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस के मौके पर हम आपको स्‍वस्‍थ्‍य रहने के 9 ऐसे टिप्‍स बता रहे हैं, जो आपके लिए बहुत जरूरी है। इस टिप्‍स को हर महिला को फॉलो करना चाहिए।

1. अपना भी रखें ख्‍याल

यदि आप सबकी देखभाल करती हैं, तो यह अनिवार्य है कि आप अपना ख्याल सबसे पहले रखें । समुचित आराम और नींद स्वस्थ शरीर और मन के लिए अनिवार्य हैं। अपनी आवश्यकताओं के बारे में जागरूक रहें।

2. तनाव और अवसाद से रहें दूर

महिलाओं के ऊपर काम का इतना तनाव होता है की इन लक्षणों को आसानी से नजरअंदाज कर दिया जाता है। प्रेरक बातें सुनें, सामाजिक समारोहों में भाग लें, दोस्तों का एक स्वस्थ चक्र बना कर रखें। अगर आपको लगता है कि आप तनाव से जूझ रही हैं तो पेशेवर मदद लेने के लिए संकोच न करें।

3. स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण नियमित हो

कैंसर तेजी से महिलाओं के बीच मौत का एक बड़ा कारण बनता जा रहा है। लेकिन शुक्र है कि आप के स्वास्थ्य की निगरानी में मदद करने के लिए कई टेस्ट उपलब्ध है। हर औरत को नियमित रूप से एक मैमोग्राफी और एक पैप स्मीयर, स्तन या गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के किसी भी लक्षण का पता लगाने के लिए ज़रूर करवाना चाहिए।

4. पी‍रियड्स

पीरियड्स यानी माहवारी से संबंधित स्वास्थ्य की परेशानियां ज्‍यादा हैं। किशोरावस्‍था से ही असामान्य बाल विकास, पीएमएस, अत्यधिक प्रवाह, देरी या जल्दी अवधि के रूप में मुद्दों का सामना महिलाओं को करना पड़ता है। यकीन कीजिये, इन समसयाओं से कई महिलाओं को गुज़ारना पड़ता है। एक बार अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह ज़रूर लें और डॉक्टर की मदद से आप इन मुद्दों के साथ निपटें।

5. आहार और पोषण

आप क्या खा रहे हैं, ये प्रश्न आपके स्वास्थ्य का सबसे महत्वपूर्ण घटक है। कामकाजी महिलाओं अक्सर खाने को नजरअंदाज करती हैं। आपको एक उचित संतुलित आहार की आवश्यकता है। सुनिश्चित करें कि आपके आहार में कैलोरी और पोषक तत्वों की पर्याप्त मात्रा है। आपके आहार में कार्बोहाइड्रेट, वसा, प्रोटीन, विटामिन और खनिज की पर्याप्त मात्रा जरुरी है। विटामिन बी 6, बी 12, डी 3, फोलेट, आयरन और कैल्शियम महिलाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्वों में से कुछ हैं। कभी सुबह का नाश्ता करना ना भूलें। यह दिन का सबसे महत्वपूर्ण भोजन है।

6. एक्‍सरसाइज़ है जरूरी

दुनिया की भाग-दौड़ से शिदत करने के साथ साथ, अपने शरीर को फिट रखना भी बहोत जरूरी है। दैनिक रूप से कम से कम आधा घंटा कसरत करना महिलाओं के लिए अनिवार्य है। इसे और अधिक दिलचस्प बनाने के लिए, आप चीज़ों का मिश्रण भी कर सकते हैं। जुम्बा और एरोबिक्स जैसे ऐसे कई कार्यक्रम हैं, जिनसे कसरत करने के साथ साथ मस्ती भी होती है। आप भी कोई खेल या नृत्य जैसे किसी शोंक को विकसित कर सकते हैं जिससे मस्ती के साथ साथ आपकी सेहत भी बुलंद रहे।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं को जरूर करा लेना चाहिए ये 5 मेडिकल टेस्‍ट

7. यौन स्वास्थ्य

इस समाज में प्रचलित मध्ययुगीन मानसिकता के कारण यौन स्वास्थ्य को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है जबकि ये स्वास्थ्य के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक है। महिलाओं को खुद मूत्र मार्ग में संक्रमण, गर्भनिरोध, यौन संचारित रोगों और अन्य बीमारियों के बारे में जागरूक रहना चाहिए क्योंकि महिलाओं के लिए यह विषय अतिसंवेदनशील हो सकते हैं।

8. अपनी सुंदरता का भी रखें ध्‍यान

खूबसूरत दिखने का मतलब सिर्फ यह नहीं है कि आप किसी को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए ये सब करती हैं। इससे आपका आत्‍मविश्‍वास भी बढ़ता है। हेल्‍दी स्किन और बाल आपकी खूबसूरती में चार चांद लगाते ही हैं साथ ही आपका मनोबल भी बढ़ता है।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं के लिए जरूरी हैं ये 7 विटामिन्स और मिनरल्स, जानें स्रोत

9. शराब और धूम्रपान को कहें न

शराब और धूम्रपान जीवन शैली की बीमारियों के कारणों की संख्या में केवल सबसे आगे ही नहीं आते बल्कि कई जानलेवा बिमारियों, जैसे कैंसर और ह्रदय रोग, का कारण भी बन जाते हैं।

Read More Articles On Women's Health In Hindi

Disclaimer