महिलाओं के लिए योग: स्‍वस्‍थ और रोगमुक्‍त रहने के लिए रोजाना करें ये 6 योगासन

शारीरिक और मानसिक रोगों से मुक्‍त रहने और बचाव के लिए योग सबसे आसान और किफायती तरकीब है। महिला हो या पुरुष, योग हम सभी के लिए फायदेमंद होता है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Mar 07, 2019Updated at: Mar 07, 2020
महिलाओं के लिए योग: स्‍वस्‍थ और रोगमुक्‍त रहने के लिए रोजाना करें ये 6 योगासन

शारीरिक और मानसिक रोगों से मुक्‍त रहने और बचाव के लिए योग सबसे आसान और किफायती तरकीब है। महिला हो या पुरुष, योग हम सभी के लिए फायदेमंद होता है। रोजाना योग करना एक अच्‍छी आदत है। यहां हम 6 ऐसे योगासन के बारे में बता रहे हैं जो महिलाओं को जरूर करना चाहिए। इससे न सिर्फ वो शारीरिक रूप से स्‍वस्‍थ रहेंगी साथ ही मानसिक रूप से भी फायदा मिलेगा।

बालासन 

बालासन को करने के लिए सबसे पहले घुटने के बल जमीन पर बैठ जाएं और शरीर का सारा भार एड़ियों पर डाल दें। अब गहरी सांस भरते हुए आगे की ओर झुकें। ध्यान रहे कि आपका सीना जांघों से छूना चाहिए। फिर अपने माथे से फर्श को छूने की कोशिश करें। कुछ सेकंड तक इस स्थिति में रहने के बाद वापस सामान्‍य अवस्‍था में आ जाएं। बालासन के नियमित सही तरह से अभ्यास करने से शरीर की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं, बाजुओं व शरीर से अतिरिक्त चर्बी दूर होती है और होती है और शरीर स्वस्थ बनता है। बालासन के अभ्यास से कब्ज में भी राहत मिलती है और पीठ के दर्द में आराम मिलता है।

  

अधोमुख स्‍वान आसन

इस योगासन को करना बहुत आसान है। अगर आप योगक्रिया करते हैं तो आप इसे भी शामिल कर सकते हैं। इसका अभ्‍यास कई तरह से आपको लाभ पहुंचाता है। रोजाना सुबह नित्‍यक्रिया के बाद आप इस योग को कर सकते हैं। इस आसन को करने के लिए सबसे पहले आप अपने पैरों के समानान्‍तर हाथों के बल आगे की ओर स्‍थापित करें। शरीर को एक मेज़ की स्थिति में ले आयें। आपकी पीठ मेज़ की ऊपरी हिस्से की तरह हो और दोनों हाथ और पैर मेज़ के पैर की तरह।

सांस छोड़ते हुए कमर को ऊपर उठाएं। अपने घुटने और कोहनी को मजबूती देते हुए सीधे करते हुए अपने शरीर से उल्टा v आकार बनाएं। यह आसन रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है। छाती की मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है और फेफड़े की क्षमता को बढ़ाता है।

उत्कटासन 

उत्कटासन कोर की मांसपेशियों (जांघों और नितंबों) को मजबूत बनाने और टोन में मदद करता है। सीधे हाथ जोड़कर (नमस्ते में मुद्रा) खड़े हो जाओ। पैरों के पंजे भूमि पर टिके हुए हों तथा एड़ियों के ऊपर नितम्ब टिकाकर बैठ जाइए। दोनों हाथ घुटनों के ऊपर तथा घुटनों को फैलाकर एड़ियों के समानान्तर स्थिर करें। अपने सिर को हल्का आगे मोड़ें। इस मुद्रा में तब तक रहें जब तक आप सहज हो। आसन से बाहर आने के लिए आराम से सीधा खड़ा हो जाएं। 

धनुरासन 

एक अन्‍य योग वसा को जलाने के लिए बहुत ही प्रभावी होता है। इसे करने के लिए फर्श पर उल्टा लेट जाओ। फिर अपने दोनों पैरों को मोड़कर हाथ से पकड़ें और उन्‍हें नितम्‍बों तक लाने की कोशिश करें। नीचे व ऊपर से खुद को स्ट्रेच करें। अपने कूल्हों को ऊपर उठाकर 5 सेकंड के लिए इस मुद्रा में रुकें।  

इसे भी पढ़ें: भूख कम लगती है या हड्डियां कमजोर हैं तो रोज करें त्रिभुज आसन, मिलेंगे कई फायदे

वृक्षासन

वृक्षासन आपके पेट से वसा को दूर करने के लिए सबसे आसान और आदर्श आसनों में से एक है। साथ ही इस आसन से टांगों की वसा कम होती हैं और शरीर का संतुलन बेहतर है। इसे करने के लिए योग मैट पर सीधे खड़े हो जाएं और अपने पैर जोड़ लें। अब अपना दायां पैर, अपनी बाईं जांघ पर रखें। आपके दाएं पैर का अंगूठा नीचे जमीन की तरफ हो और बाएं पैर की उंगलियां सामने की तरफ। ध्‍यान रखें कि आपकी पीछे से गर्दन, रीढ़ की हड्डी की रेखा में सीधी होनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: लिवर को रखना है दुरुस्त और लंबी उम्र तक सेहतमंद, तो रोज करें ये 4 योगासन

भुजंगासन

भुजंगासन पेट की आसपास की वसा को जलाने के साथ-साथ पेट को मजबूत बनाने वाली मुद्रा है। इसे अंग्रेजी में कोबरा पोज कहते हैं। यह दिखने में फन फैलाए एक सांप की तरह होता है, इसलिए इसे भुजंगासन कहते है। इसे करने के लिए पेट के बल जमीन पर लेट जाएं। अब दोनों हाथ के सहारे शरीर के कमर से ऊपरी हिस्से को ऊपर की तरफ उठाएं, लेकिन कोहनी आपकी मुड़ी होनी चाहिए। अब शरीर के बाकी हिस्सों को बिना हिलाए-डुलाए चेहरे को बिल्कुल ऊपर की ओर करें। कुछ देर के लिए इस मुद्रा में ही रहें।

Read More Articles On Yoga In Hindi

Disclaimer