अगर आपके पैरों में सूजन रहती है तो इन 5 बीमारियों में से हो सकती है कोई एक वजह, तुरंत कराएं जांच

पैरों में सूजन का इलाज कराने से पहले पैरों में सूजन के आने कारणों को समझना होगा। यहां हम आपको पैरों में सूजन होने के कुछ कारणों के बारे में बता रहे है

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jul 01, 2020
अगर आपके पैरों में सूजन रहती है तो इन 5 बीमारियों में से हो सकती है कोई एक वजह, तुरंत कराएं जांच

कई बार पैरों में चोट के कारण या प्रेगनेंसी के दौरान पैरों में सूजन की समस्‍या (Swelling Leg Disease) देखने को मिलती है। पैरों में सूजन चलने में समस्‍या पैदा कर देते हैं। गंभीर स्थितियों में कई बार ये सूजन बिस्‍तर से उठना मुश्किल कर देते हैं। पैरों में सूजन होने के कारणों की बात करें तो इसके कुछ सामान्‍य तो वहीं कई कारण ऐसे होते हैं काफी गंभीर होते हैं। इसलिए, यदि आपके पैरों में सूजन रहता है तो आपको तुरंत डॉक्‍टर से मिलकर इसकी जांच कराने की आवश्‍यकता है। क्‍योंकि समय रहते किसी बीमारी का उपचार न होने से वह जानलेवा भी हो सकती है। यहां हम आपको पैरों में सूजन के प्रमुख कारणों (Swelling Legs Causes) के बारे में विस्‍तार से जानकारी दे रहे हैं। आइए जानते हैं। 

पैरों में सूजन आने का कारण - Causes Of Swelling in Legs

Leg

1. एडिमा - Edema

एडिमा रोग क्‍या है, शायद ये आपको पता नहीं होगा! तो चलिए हम बताते हैं। दरअसल, एडिमा की समस्‍या तब होती है जब आपके शरीर में पानी की मात्रा बढ़ जाती है। यह आपके पैरों के साथ-साथ आपके हाथों और चेहरे को भी खुश्क बना सकता है। लंबी यात्रा के बाद या लंबे समय तक खड़े रहने और कई बार महिलाओं में माहवारी के दौरान इस प्रकार की समस्‍या देख सकते हैं। यह आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाता है, लेकिन कभी-कभी यह किसी स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है जैसे कम प्रोटीन का स्तर (Low Protein Lavel), हृदय की विफलता, या गुर्दे की बीमारी। (एडिमा के घरेलू उपचार

2. हार्ट फेल्‍योर - Heart Failure

हार्ट फेल्‍योर की समस्‍या तब होती है जब आपका हृदय रक्त को पंप नहीं करता है जैसे उसे करना चाहिए। ऐसी स्थिति रक्‍त सही दिशा में नहीं बह रहा होता है, और रक्‍त पैरों में वापस आ सकता है। ऐसे में पैरों में सूजन की समस्‍या हो सकती है। दिल की विफलता (Heart Failure) के साथ, सीधा और सपाट लेटने में असहज महसूस हो सकती है, आपका हृदय तेज गति से या उसकी लय असामान्‍य हो सकती है। ऐसी स्थिति में आपको सांस लेना मुश्किल हो सकता है। अगर आपको इस प्रकार के संकेत दिखें तो तुरंत चिकित्‍सक की सलाह लें। 

3. गुर्दे की बीमारी - Kidney Disease 

हमारी किडनियां (गुर्दे) रक्‍त में जमा गंदगी को फिल्‍टर करने का काम करती हैं। यदि गुर्दे सही तरीके से काम नहीं कर रहे होते हैं तो डायबिटीज और हाइपरटेंशन जैसी स्थिति में आपके रक्‍त में अधिक सोडियम (नमक) उत्‍सर्जित होने लग सकता है। इससे आपके शरीर में पानी की मात्रा अधिक हो जाती है। गुरुत्वाकर्षण पानी को नीचे खींचता है, इसलिए आपके पैर और टखनों में सूजन आ जाती है।

4. लिवर की बीमारी - Liver Disease

यदि आप हेपेटाइटिस (लिवर में सूजन) से जूझ रहे हैं और अधिक मात्रा में अल्‍कोहल का सेवन करते हैं तो आपको अपने लिवर की देखभाल करने की आवश्‍यकता है। क्‍योंकि ऐसी स्थिति में आपका लिवर फेल हो सकता है। यानी इसकी कार्य प्रणाली रूक सकती है। यदि ऐसा होता है, तो बहुत अधिक तरल पदार्थ पेट और पैरों में जमा कर सकते हैं। इससे सूजन हो सकती है। यह एक गंभीर समस्‍या हो सकती है। ऐसे में शुरुआती लक्षणों को समझकर उपचार कराना समझदारी का काम हो सकता है। 

5. प्री-एक्लेमप्सिया - Preeclampsia

गर्भावस्‍था के दौरान महिलाओं के शरीर में सूजन आम है। अगर सूजन सिरदर्द, मतली, सांस लेने में परेशानी या पेट दर्द के साथ आती है, तो यह प्री-एक्लेमप्सिया का संकेत हो सकता है। प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था में कम से कम 20 सप्ताह तक शुरू नहीं होता है और यह उच्च रक्तचाप से जुड़ा होता है। यह आपके लीवर या किडनी को नुकसान पहुंचा सकता है और इसका इलाज न किया जाए तो यह गंभीर हो सकता है। यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण है, तो आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

Read More Articles On Other Disease In Hindi

Disclaimer