Covid-19 : प्रेग्नेंसी में है कोरोना का अधिक खतरा, इन 4 योगासन से 9 महीने तक बच्चे और खुद को रखें सुरक्षित

कोरोनाकाल में गर्भवती महिलाओं को संक्रमित होने का खतरा ज्यादा रहता है। ऐसे में योग के जरिए आप कोरोना के खतरे को कम कर सकते हैं।

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: May 10, 2021Updated at: May 10, 2021
Covid-19 : प्रेग्नेंसी में है कोरोना का अधिक खतरा, इन 4 योगासन से 9 महीने तक बच्चे और खुद को रखें सुरक्षित

कोरोनाकाल का समय प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए काफी खतरनाक हो सकता है। क्योंकि इस दौरान महिलाओं को न सिर्फ खुद का ख्याल रखना पड़ता है। बल्कि उनके गर्भ में पल रहे बच्चे का भी खास ध्यान रखना होता है। वहीं, कई एक्सपर्ट का कहना है कि गर्भवती महिलाओं को कोरोना का खतरा ज्यादा रहता है। साथ ही इस समय रेग्युलर चेकअप (Regular Checkup) भी कराना काफी मुश्किल हो (Covid-19) चुका है। हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि कोरोना गर्भवती महिलाओं के यूट्रस के फ्यूट को कम करता है। ऐसे में पेट में पल रहे बच्चे भी संक्रमित हो सकते हैं।  प्रेग्नेंसी में इम्यूनिटी (Immunity Booster Yoga) कमजोर होती है। इसलिए इस समय कोरोना होने का खतरा (Yoga for Corona) ज्यादा रहता है। साथ ही कोरोना काल में गर्भवती महिलाओं को एंजाइटी (Corona Prevention Tips) हो रही है। जिसकी वजह से उनके सेहत पर बुरा असर पड़ रहा है। ऐसे में योग का सहारा लेना आपके लिए बेहतर हो सकता है। बाबा रामदेव (Baba Ramdev) द्वारा कुछ ऐसे योग बताए गए हैं, जिससे आप कोरोनाकाल में मां और बच्चे दोनों (Yoga for Pregnancy During Corona) को स्वस्थ रख सकते हैं। आइए जानते हैं इन आसनों के बारे में-

तिर्यक ताड़ासन (Oblique tadasan)

नियमित रूप से तिर्यक ताड़ासन करने से शरीर काफी लचीला होता है। इसके नियमित अभ्यास से कमर की चर्बी कम (Yoga for Weight Loss) हो जाती है। साथ ही वजन भी कम होता है। तिर्यक ताड़ासन करने से मन को शांति मिलती है। ऐसे में गर्भवास्था के दौरान इस योग को करने से आपको कई फायदे हो सकते हैं। कोरोना काल में लंग्स को मजबूत (Yoga for Lungs) करने में भी यह आसन फायदेमंद हो सकता है।

इसे भी पढ़ें - अबॉर्शन या मिसकैरिज के कितनों दिन बाद करें दोबारा प्रेगनेंसी की तैयारी? जानें ऐसे 8 सवालों के जवाब

तितली आसन (Butterfly Pose)

महिलाओं के लिए तिलती आसन काफी फायदेमंद है। यह प्रेग्नेंसी में होने वाली गैस की समस्या से छुटकारा दिलाने में फायदेमंद होता है। साथ ही कब्ज की परेशानी को भी दूर कर सकता है। गर्भावस्था में मोटापा बढने की समस्या कई लोगों को होती है। ऐसे में यह योगासन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। तितली आसन करने से छोटी और बड़ी आंते संक्रिय होती हैं। कोरोनाकाल में प्रेग्नेंट महिलाओं (Yoga for Pregnancy) को यह आसन जरूर करना चाहिए। इससे उनको कई लाभ हो सकते हैं।

मकरासन (Makarasan)

प्रेग्नेंट महिलाओं को मकरासन अपने नियमित अभ्यास में शामिल करना चाहिए। खासतौर पर कोरोनाकाल में यह बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है। इससे जोड़ों में दर्द और कमर दर्द से (Yoga for Joint Pain) राहत पा सकते हैं। अगर आप नियमित रूप से इस आसन को करते हैं, तो इससे वजन भी घट (Yoga for Weight Loss) सकता है। एसिडिटी से ग्रसित महिलाओं के लिए भी मकरासन फायदेमंद हो सकता है। कोरोनाकाल में आप इसे अपने नियमित अभ्यास (Covid-19) में जरूर शामिल करें।

इसे भी पढ़ें - महिलाएं पेट के निचले हिस्से में दर्द को न करें नजरअंदाज, कहीं आप तो नहीं इस गंभीर बीमारी के शिकार

भुजंगासन (Bhujangasana)

गर्भवती महिलाओं को कोरोनाकाल में नियमित रूप से भुजंगासन करना चाहिए। यह आसन किडनी को स्वस्थ रखने में मददगार साबित हो सकता है। साथ ही इससे लिवर से जुड़ी समस्याएं दूर हो सकती हैं। कोरोनाकाल में बढ़ रहा तनाव, चिंता, डिप्रेशन को दूर करने में भुजंगासन काफी मददगार हो सकता है। साथ ही यह गर्भावस्था में कमर के दर्द को दूर करता है। इतना ही नहीं यह कमर के निचले हिस्से को मजबूत कर (Yoga for Pelvic) सकता है। इस आसन से कमर का निचला हिस्सा मजबूत होता है। भुजंगासन करने से फेफड़ों, सीने और कंधों में स्ट्रेचिंग होती है, जिससे आपके लंग्स मजबूत (Covid-19 and Lungs) होती है। यह आसन रीढ़ की हड्डी मजबूत (Yoga for Bone) होती है। साथ ही ब्रेस्ट का शेप भी सही होता है। 

ध्यान रखें कि स्वस्थ शरीर के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज बहुत ही जरूरी है। खासतौर पर प्रेग्नेंसी के दौरान योग काफी फायदेमंद होता है। इसलिए आप नियमित रूप से इन योग का अभ्यास करें। साथ ही कोरोनाकाल में किसी तरह की परेशानी होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

Read more on Articles Women Health in Hindi

Disclaimer