सर्दियों में क्‍यों बार-बार जाना पड़ता है वॉशरूम

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 25, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सर्दियों में बार-बार वॉशरूम जाने की समस्‍या।
  • शरीर का अपने भीतर भाग को गर्म रखने की कोशिश करना। 
  • संकीर्ण रक्‍त वाहिकाओं के कारण रक्‍तचाप में वृद्धि।
  • यूरीन आपके शरीर के अंदर की गर्मी को बनाये रखता है।

क्‍या कभी आपने इस बात को नोटिस किया है कि ठंडे कमरे में रहने पर सर्दियों में आपको बार-बार वॉशरूम जाने की जरूरत क्‍यों होती है? हालांकि
यह पूरी तरह से सामान्‍य घटना हैं और इसे कोल्‍ड डाययूरेसिस (सर्दी के कारण बार-बार यूरीन आने की समस्‍या) के रूप में जाना जाता है।

 

toilet in hindi

कोल्‍ड डाययूरेसिस

ठंड के मौसम में, शरीर अपने भीतर भाग को गर्म रखने के लिए रक्‍त वाहिकाओं में बाधा और त्‍वचा के लिए रक्‍त प्रवाह को कम करके की कोशिश करता है। इस प्रक्रिया को वाहिका संकीर्णन कहा जाता है। ऐसा करना इसलिए आवश्‍यक होता है क्‍योंकि इस मौसम में त्‍वचा की गर्मी कम होने के कारण आपका शरीर आगे के भाग विशेष रूप से पैर और हाथों की उंगालियों से रक्‍त के प्रवाह को कम करने लगता है।

संकीर्ण रक्‍त वाहिकाओं के कारण रक्‍तचाप में वृद्धि होने लगती है, क्‍योंकि रक्‍त की सामान राशि को प्रवाह के लिए कम जगह मिलती है। इसलिए अपने रक्‍तचाप को निय‍ंत्रित करने के लिए, किडनी रक्त से अधिक तरल पदार्थ में से कुछ को फिल्‍टर कर देती है। ब्लैडर में अतिरिक्‍त तरल पदार्थ के भरने पर आपको यूरीन महसूस होने लगता है। एक भरा हुआ ब्‍लैडर आपके शरीर की गर्मी को कम करने का एक और तरीका है, इसलिए तुरंत यूरीन आपके शरीर के अंदर की गर्मी को बनाये रखने में मदद करता है।

गर्मियों में इसका उल्‍टा होता है

यह पूरी प्रक्रिया गर्मियों में उलट हो जाती है, और इसे वाहिका प्रसरण के रूप में जाना जाता है। आपका शरीर त्‍वचा के माध्यम से खुद को गर्मी में ठंडा रखने के, पसीने जैसी परिचित प्रक्रिया का सहारा लेता है। जैसे-जैसे बाहरी तापमान बढ़ता है, आपकी रक्‍त वाहिकाएं चौड़ी होने लगती है जिसके कारण रक्‍त का प्रवाह बढ़ जाता है। और रक्‍त त्‍वचा की सतह के साथ संपर्क में आने पर खून में मौजूद  अतिरिक्‍त पानी वाष्‍प बनाकर उड़ जाता है और आपकी त्‍वचा ठंडा महसूस करने लगती है।

 

washroom rush in hindi

प्रक्रिया को प्रभावित करने वाले कारक

शरीर को स्‍वयं को ठंडा या गर्म कराने वाला कोई निश्चित तापमान नहीं होता है। समय के हर बिंदु पर, मानव शरीर समस्थिति को बनाये रखने की कोशिश करता है। इस अवस्‍था में शरीर का तापमान, पीएच और पोषण जैसे कारक स्थिर रहते हैं। इसलिए गर्म महसूस होने पर आपका शरीर खुद ही ठंडा होने की कोशिश करता है और ठंडा महसूस होने पर शरीर गर्मी को बनाये रखने की कोशिश करता है। हालांकि इस प्रक्रिया को प्रभावित करने वाले कारकों में आयु, लिंग, शरीर रचना, आहार और एक्‍सरसाइज शामिल है। और यह कारक व्‍यक्ति से दूसरे व्‍यक्ति में भिन्‍न-भिन्‍न भी होते हैं। एक अध्‍ययन के अनुसार सर्दी में अधिक यूरीन आने की समस्‍या से बचने के लिए आप एक्‍सरसाइज की मदद ले सकते हैं।

Image Courtesy : Getty Images

Read More Articles on Kidney Failure in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES47 Votes 10182 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर