सुकून भरी नींद के लिए कितना सही है मेलाटोनिन दवा का सेवन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 16, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • अनियमित जीवनशैली के कारण लोगों में अनिद्रा की समस्या बढ़ रही है।
  • मेलाटोनिन हार्मोन दिमाग से स्वत: स्रावित होता है और चैन की नींद देता है।
  • अगर इस हार्मोन का स्राव भरपूर न हो तो नींद न आने की समस्या होती है।
  • लेकिन मेलाटोनिन सप्लीमेंट से एक अच्छी और सुकून की नींद पा सकते हैं।

सुबह की शानदार शुरूआत तभी हो सकती है जब रात को चैनभरी नींद आये। लेकिन शायद रमेश को इस तरह का सुख मुकम्मल नहीं था, क्योंकि उसकी सुबह आलस और थकान के साथ होती थी। तनाव और काम के बोझ के कारण वह रात में ठीक से सो नहीं पाता था।

 

रमेश को अनिद्रा की समस्या हो गई थी, लेकिन यह समस्या आजकल के युवाओं में अधिक देखी जा रही है। रमेश सुकून भरी नींद के लिए मेलाटोनिन सप्लींमेंट लेना शुरू कर दिया। एक अच्छी नींद के लिए मेलाटोनिन का सेवन किस हद तक ठीक है। इसकी चर्चा इस लेख में करते हैं।

 

क्या है मेलाटोनिन

मेलाटोनिन एक ऐसा हार्मोन है जो सामान्य तौर पर रात के वक्त नियमित नींद के लिए शरीर में स्वतः स्रावित होता है। यह दिमाग की पिनियल ग्रंथि से स्रावित होता है। लेकिन जब हमारी दिनचर्या अनियमित होती है और दिमाग पर तनाव और अवसाद अधिक प्रभावी हो जाता है तब इस हार्मोन का स्राव कम हो जाता है। परिणामस्वरूप नींद हमसे दूर जाने लगती है। ऐसे में मेलाटोनिन के स्तर को बढ़ाने के लिए बाजार में मेलाटोनिन सप्लीमेंट मिलते हैं। इनके सेवन से नींद से जुड़ी अनियमितता को दूर किया जा सकता है।

 

Melatonin To Get Better Sleep in Hindi

 

 

क्या ये दवा सुरक्षित है

सुकून भरी नींद अगर आपको नैचुरली नहीं मिल रही है और इसके लिए आप मेलोटॉनिन का सेवन कर रहे हैं तो इसके कुछ साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं। अमेरिका के फूड और ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा किये गये शोध की मानें तो इसके अधिक सेवन से एलर्जी की समस्या हो सकती है।

 

शोध के अनुसार

स्पेन में मेलाटोनिन के प्रभाव को लेकर शोध किया गया। इस शोध का परिणाम संतोषजनक नहीं था। दरअसल मेलाटोनिन दिमाग से जुड़ा हार्मोन है, ऐसे में इसकी कमी या अधिकता के कारण तनाव, थकान, प्रतिरोधक क्षमता में कमी, आदि की समस्या होने लगती है।  अमेरिका के फूड और ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा किये गये शोध की मानें तो अगर कोई इंसान इस सप्लीमेंट का अधिक प्रयोग करता है तो इसके कारण उनींदापन, सिर दर्द, या याद्दाश्त कमजोर होने जैसी समस्या हो सकती है। इसलिए चिकित्सक के निर्देश में इसकी सही मात्रा का सेवन करना ही ठीक है।

 

कुल मिलाकर इस सप्लींमेंट का सेवन उचित है या अनुचित, इसपर अभी तक कोई भी रिसर्च निश्चित परिणाम नहीं दे पाया है। इसलिए अगर आपको अच्छी नींद नहीं आ रही है तो अपनी दिनचर्या को बदलें। समय का पालन करें और कुछ दिनों तक तकनीक से दूर रहें। नियमित व्यायाम करें और स्वस्थ खानपान अपनायें।



Image Source - Getty

Read More Articles On Healthy Living in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES2 Votes 3398 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर