वातावरण से भी प्रभावित होते हैं डायबिटीज रोगी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 18, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • डायबिटीज रोगियों पर वातावरण का भी प्रभाव पड़ता है।
  • धूम्रपान से डायबिटीज मरीज हृदय बीमारी का शिकार बनता है।
  • प्रदूषण से डायबिटीज मरीज को सांस संबंधी बीमारियां हो सकती है।
  • डायबिटीज रोगी को स्‍वस्‍थ रहने के लिए तनाव से दूर रहना चाहिए।

यह तो आप जानते ही हैं कि डायबिटीज कई प्रकार की है। टाइप 1 डायबिटीज, टाइप 2 डायबिटीज, जेस्टेशनल डायबिटीज। डायबिटीज का डायबिटीक रोगियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जिससे उनमें गंभीर बीमारियां होने की आशंका दुगुनी हो जाती है। इतना ही नहीं डायबिटीज का मरीज बहुत कमजोर हो जाता है और डायबिटीज का कोई पुख्ता इलाज भी संभव नहीं हैं। टाइप 1 डायबिटीज युवा और व्यस्कों में अधिक होती है और टाइप 1 डायबिटीज के मरीजों को इंसुलिन पर निर्भर रहना पड़ता है।

diabetes in hindi

बहरहाल, क्या आप जानते हैं कि वातावरण भी डायबिटीज रोगियों को प्रभावित करता है। डायबिटीज रोगियों पर वातावरण का भी प्रभाव पड़ता है। आइए जानें डायबिटीज रोगियों को वातावरण कैसे प्रभावित करता है। वातावरण कई तरह का हो सकता है। चाहे घर का माहौल हो, कार्यालय का माहौल हो। आसपास के लोगों का माहौल हो या फिर किस जगह पर कैसे आप जाते हैं इन सबका डायबिटिक के स्‍वास्‍थ्‍य पर बहुत असर पड़ता है।

 

धूम्रपान और नशीले पदार्थ

मान लीजिए कोई डायबिटिक मरीज ऐसे लोगों के साथ रहता है जो धूम्रपान बहुत करते हैं, इतना ही नहीं एल्‍‍कोहल और नशीले पदार्थों का सेवन भी करते हैं तो निश्चित रूप से डायबिटीज के रोगी पर इसका नकारात्म‍क असर पड़ेगा क्योंकि डायबिटीज मरीज ना सिर्फ इन चीजों का आदी हो सकता है बल्कि धूम्रपान का धुआं भी डायबिटीज मरीज को हृदय जैसी गंभीर बीमारियों का शिकार बना सकता है। अगर ये कहें कि डायबिटीज मरीज पर धूम्रपान का असर बुरा पड़ता है तो यह कहना गलत ना होगा।

smoking in hindi


जगह का असर

यदि डायबिटीज मरीज किसी कारखाने में काम करता है या फिर ऐसी जगह काम करता है जहां केमिकल इत्यादि का काम होता है या फिर जहां बहुत अधिक गंदगी है तो इसका असर डायबिटीज मरीज को और अधिक बीमार बना सकता है और डायबिटीज रोगी को कई और बीमारियां या संक्रमण होने की आशंका बढ़ जाती है।

प्रदूषण करता है प्रभावित

प्रदूषण का डायबिटीज मरीज के स्‍वास्‍थ्‍य पर बहुत असर पड़ता है। अगर डायबिटीक रोगी प्रदूषण वाले स्थान पर रहता है तो डायबिटीज मरीज को सांस संबंधी बीमारियां होने की आंशका रहती है। इतना ही नहीं प्रदूषण के कारण डायबिटीज से होने वाली समस्याएं बढ़ जाती हैं है। यह बात शोधों में भी साबित हो चुकी है। इसके अलावा कुछ और चीजें जिससे डायबिटीक मरीज को समस्याएं हो सकती हैं-

pollution in hindi

 

आहार

डायबिटीज मरीज को तले-भुने खाद्य पदार्थों को नजरअंदाज करना चाहिए। इतना ही नहीं शुगर रहित चीजों का सेवन करना चाहिए और अपने खानपान में लो कैलोरी और लो फैट को ही प्राथमिकता देनी चाहिए। डायबिटीज के मरीज ऐसा आहार ना लें जिससे उनका शुगर लेवल बढ़ने की आशंका हो।

 

तनाव

तनाव भरा मा‍हौल डायबिटीज रोगी को और अधिक बीमार कर सकता है। ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि डायबिटीज मरीज तनाव से दूर रहें और ऐसे माहौल से दूर रहे जहां हर समय तनाव हो।

stress in hindi

शारीरिक सक्रियता की कमी

डायबिटीज मरीजों के लिए जरूरी है कि वह अधिक से अधिक सक्रिय रहें। शारीरिक निष्क्रियता डायबिटीज मरीजों में मोटापा बढ़ा सकता है जिससे उनको कई और गंभीर बीमारियां होने की आशंका बढ़ सकती है।

अब तो आप जान ही गए होंगे कि डायबिटीज मरीजों के लिए अच्छा वातावरण होना बहुत जरूरी है। तभी वे ना सिर्फ डायबिटीज कंट्रोल कर पाएंगे बल्कि सेहतमंद भी रह पाएंगे।

 

Image Source : Getty Images

Read More Articles On Diabetes In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES20 Votes 13305 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर