कुछ इस प्रकार करें सर्दियों में पैरों की देखभाल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 12, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • धूल-मिठ्ठी और कठोर साबुन भी हैं पैर फटने के कारण।
  • ऐडियों में दरार उपचारित न होने पर हो जाती हैं कष्टप्रद।
  • सोने से पहले अपने पैरों को गरम पानी से अवश्य साफ करें।
  • पैरों की मृत कोशिकाओं को भी करें सक्रब की मदद से बाहर।

सर्दियां आते ही त्वचा संबंधी परेशानियां जैसे रूखापन, त्वचा का फटना और त्वचा की रौनक चली जाना कई ऐसी समस्याओं से दो-चार होना पड़ता है। खासतौर पर सर्दियों में पैरों को कई प्रकार की समस्याओं से गुजरना पड़ता है। ऐसे में पैरों की विशेष देखभाल की जरूरत होती है। इसलिए हम आपको बता रहे हैं सर्दियों में पैरों की देखभाल के कुछ टिप्‍स।

Foot Care Tips for wintersसर्दियां आते ही आप चेहरे की त्वचा को नम रखने और फटने से बचाने के उपाय शुरू कर देते हैं, लेकिन इस सब के बीच कहीं न कहीं हम पैरों की देखभाल को अनदेखा कर देते हैं। सर्दियों में अक्सर पैरों और हथेलियों में ड्राइनेस की समस्‍या हो जाती है। ऐसा पैरों में पसीना पैदा करने वाली ग्रंथि न होने के कारण होता है। साथ ही धूल-मिट्टी और कठोर साबुन के प्रयोग से हाथ और पैरों की त्‍वचा पर बुरा असर पड़ता है।

 

कई बार पैरों की ठीक प्रकार से देखभाल न करने पर वे बुरी तरह से फट जाते हैं, एडियों में दरार आ जाती है तो बेहद दर्दभरा होता है। पैरों की त्वचा बेजान हो जाने पर ये न सिर्फ दिखने में भद्दे लगते हैं बल्‍कि इनका उपचार नहीं होने पर इनमें दर्द भरी दरार बन सकती हैं, जिनमें जीवाणु आसानी से पनप सकते हैं। यदि समय रहते आप पैरों की त्‍वचा पर ध्‍यान देंगे तो इस तरह की समस्याओं से बचा जा सकता है। निम्न लिखित टिप्स अपना कर आप सर्दियों में भी अपने पैरों को खूबसूरत और स्वस्थ रख सकती हैं।

 

सर्दियों में पैरों की देखभाल के उपाय

  • यदि आपकी एडियां फट रही हैं तो रात को सोने से पहले पैरों को गरम पानी में कुछ देर के लिये डुबो कर रखें। ताकि आपके पैर मुलायम बने रहें।
  • पैरों पर जमी धूल-मिट्टी व गंदगी को साफ करने के लिए एक टब में हल्का गरम पानी लेकर उसमें 3 चम्मच नमक व सुहागा डाल लें। अब इस पानी में पैरों को डुबोकर 10 मिनट बैठ जाएं। ऐसा कर आप देखेंगे कि कुछ देर बाद आपके पैरों की थकान दूर होने के साथ आपके पैरों में जमी धूल-मिट्टी भी पानी में ऊपर आ जाएगी।
  • जितना हो सके अपने पैरों को नम रखें। कोई अच्छा मॉइश्चराइजर लगाने के बाद सूती मोजे पहनें। अच्छे परिणाम पाने के लिए आप लोशन के बजाय प्राकृतिक तेल भी इस्तमाल कर सकते हैं।
  • हमेशा आरामदायक जूते ही पहनें जिससे आपके पैरों को काफी जगह मिल सके। एडियां फटी होने पर या पैरों में खुश्की होने पर सख्त जूतों से दर्द बढ़ सकता है।
  • पैरों को साफ करने के लिए कोई अच्छा जीवाणुरोधी प्रयोग करें और इससे अपने पैरों की सूखी त्वचा को भी उपचारित करें। ऐसा करने से आपके पैर में हुई दरारों के जीवाणु नष्‍ट हो जाते हैं और उनमें संक्रमण होने की संभावना भी बहुत कम हो जाती है। 
  • पैरों की मृत कोशिकाओं को निकालने के लिए प्युमैस स्टोन का प्रयोग करें, जो सख्त त्वचा को निकाल सके।
  • पैरों को त्वचा संबंधी समस्याओं से दूर रखने व नरम रखने के लिए इन्हें नीबू से घिसें। ऐसा हफ्ते में कम से कम एक दिन करें। साथ ही इसके बाद आप अपने पैरों को एक कप इप्सम नमक मिले गर्म पानी के टब में भी डुबो सकती हैं।
  • पैरों को हर रोज रात को इस प्रकार साफ कर सुखायें और सुखाने के बाद अपने पैरों पर लोशन लगाएं और उससे इन्हें पूरी तरह से नम कर लें।
  • सूखी त्वचा को कैंची से काटने को कोशिश न करें क्योंकि इससे आप अपनी काफी त्वचा निकाल सकते हैं, जो कि काफी दर्दभरी होगी और इससे आपके पैरों में संक्रमण होने की भी आशंका होती है।
  • पैरों पर प्राकृतिक तेल का प्रयोग करें और त्‍वचा पर प्राकृतिक तेल डाल कर हल्‍के हाथों से रगडे़। इससे कठोर त्‍वचा पर नमी आ जाती है और वे चमकदार व सुंदर भी हो जाते हैं।
  • प्रतिदिन कम से कम 8 से 10 ग्लास पानी पिये। साथ ही कैफीन और शराब के सेवन से भी बचें। इनके सेवन से शरीर में जल की मात्रा कम हो जाती है।
  • एक चम्‍मच तेल में दो चम्‍मच चीनी मिला कर हाथों और पैरों पर रगड़े, ऐसा करने से पैर नरम हो जाते हैं। इसके लिए सूरजमुखी का तेल भी बहुत लाभकारी होता है।
  • सबसे ज्‍यादा जरूरी है कि आप पैरों को धूल और मिट्टी से बचाएं। अपने पैरों को धूल मिट्टी से बचाने के लिए मोजे पहनें और रात को पैरों पर तेल लगाएं और फिर मोजे पहन कर ही सोएं। इससे पैर नरम रहेंगे और साफ भी रहेंगे।

 

कई बार यह संभव नहीं हो पाता कि आप अपनी सूखी त्वचा का घरेलू उपचार कर पाएं। ध्यान रहे कि सूखी त्वचा किसी अन्य बीमारी का भी संकेत हो सकती है, इसलिए यह बहुत जरूरी है कि डॉक्टर की सलाह ली जाए।

 

 

Read More Articles on Feet Care in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES17 Votes 4425 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर