दुनिया की 'सबसे सेहतमंद' हुंजा प्रजाति की फिटनेस का राज, जानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 29, 2016
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • दुनिया की सबसे सेहतमंद जनजाति पाकिस्तान की हुंजा प्रजाति है।
  • औसत उम्र 110 से 120 साल, कुछ लोग 150 साल तक जीते हैं।
  • ये लोग वही खाना पसंद करते हैं जो खुद उगाते हैं।

जापान ऐसा देश है जहां उम्रदराज लोगों की संख्‍या युवाओं की तुलना में दोगुनी से भी ज्यादा है। इसलिए लोगों को ये गलतफहमी है कि वहां के लोग ज्यादा उम्रदराज और फिट होते हैं। जबकि सच्चाई यह है कि दुनियाभर में पाई जाने वाली हजारों जनजातियों में एक जनजाति हुंजा की है जिनकी औसत आयु 110 से 120 साल है। और इनकी खासियत ये है कि ये लोग बूढ़े बिलकुल नहीं दिखते और‍ बीमारियां इनको छूती भी नहीं। ऐसा क्‍या है हुंजा जनजाति में जो उनको इतना फिट और सेहतमंद रखता है, इसकी पड़ताल इस लेख में करते हैं।

कहां पायी जाती है हुंजा जनजाति

हुंजा जनजाति पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में गिलगित-बाल्टिस्तान के पहाड़ों में स्थित हुंजा घाटी में पाई जाती है। हुंजा भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा के पास पड़ता है। इस जगह को युवाओं का नखलिस्तान भी कहा जाता है। हुंजा गांव के लोगों की औसत आयु 110-120 साल है।

क्या है इनकी सेहत का राज

आजकल के इस दौर में अगर कोई जीवन के 70 साल पूरे कर ले तो उसे बहुत ही भाग्यशाली माना जाता है। लेकिन अगर 70 साल का होने के बाद कोई 20 साल का दिखे तो, इसे कमाल ही माना जायेगा। जबकि हुंजा जनजाति ऐसी है जिसमें जब इंसान की उम्र 70 की होती है तब भी वह 20 का दिखता है। यहां के महिलाओं की खास बात यह है कि वे 65 साल तक बूढ़ी नहीं होती हैं और उम्र के इस पड़ाव पर आसानी से बच्चे भी पैदा करती हैं।

क्या है इनका खानपान

लंबी उम्र और सेहतमंद रहने का राज खानपान में ही निहित है। कराकोरम हुंजा जनजाति के लोग अधिक मात्रा में खुबानी खाते हैं और इतने खूबसूरत दिखते हैं कि ऐसा लगता हैं जैसे ये लोग इस दुनिया के है ही नहीं। इन लोगों की खास बात यह है कि ये लोग वही खाना खाते हैं जो ये उगाते हैं। खूबानी, मेवे, सब्जियां और अनाज में जौ, बाजरा और कूटू ही इन लोगों का मुख्य आहार है। इनमें फाइबर और प्रोटीन के साथ शरीर के लिए जरूरी सभी मिनरल्स होते हैं। ये लोग अखरोट का इस्तेमाल करते हैं। धूप में सुखाए गए अखरोट में बी-17 कंपाउंड पाया जाता है, जो शरीर के अंदर मौजूद एंटी-कैंसर एजेंट को खत्म करता है।

क्या है लाइफस्टाइल

दुनिया की चकाचौंध ने लोगों की लाइफस्टाइल ऐसी कर दी है शरीर बीमारियों का ढांचा बनता जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ हुंजा जनजाति की लाइफस्टाइल ऐसी है उनकी औसत आयु 110 से 120 साल है। दरअसल यहां के लोग शून्य के नीचे के तापमान में बर्फ के ठंडे पानी में नहाते हैं। कम खाना और ज्यादा टहलना इनकी जीवन शैली है। दुनिया भर के डॉक्टरों ने भी ये माना है कि इनकी जीवनशैली ही इनकी लंबी आयु का राज है। ये लोग सुबह जल्दी उठते हैं और बहुत पैदल चलते हैं। इसके अलावा यहां के कुछ लोग 120 साल तक भी जीते हैं।

नहीं होती कोई बीमारी

दिमागी तौर पर हुंजा प्रजाति के लोग बहुत ही ज्यादा मजबूत होते हैं और इनको कभी भी कैंसर या दूसरी बीमारी नहीं होती है। जहां एक तरफ इनकी औरतें 70 या 80 साल की उम्र में भी जवान और खूबसूरत नजर आती हैं, वहीं इस प्रजाति के पुरुष 90 साल तक की उम्र में पिता बन जाते हैं। हुंजा प्रजाति के लोग मांस का सेवन ना के बराबर करते हैं। किसी विशेष उत्सव पर ही मांस का सेवन किया जाता है और यह लोग मांस के बहुत छोटे-छोटे टुकड़े करके खाते हैं। इनके बारे में कहा जाता है कि ये महान सिकंदर की सेना के वंशज हैं।

 

Image source: Shughal&Fateh channel

Read More Articles on Sports&Fitness

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1467 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर