बच्‍चों में आहार सम्‍बन्‍धी परेशानियां

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 08, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बच्चों अक्सर स्वस्थ चीजों को खाने से मना कर देते हैं।
  • बच्चों को स्वस्थ आहार देने के लिए उसे थोड़ा चटपटा बनाएं। 
  • स्कूल जाने वाले बच्चे लंच बॉक्स को हाथ भी नहीं लगाते हैं।
  • ज्यादातर बच्चे स्वस्थ खाने को अक्सर ना कर देते हैं।

जो बच्चे बचपन में स्वस्थ खाने की आदते सीख लेते हैं वो किशोर अवस्था में भी उन्हें जारी रख पाते हैं। स्वस्थ खान-पान की आदतों की मदद से बच्चों को किशोर अवस्था में कुछ लाईलाज बीमारियों से बचाया जा सकता है जैसे कि दिल की बिमारियां, कैंसर, मधुमेह, और ऑस्टियोपोरोसिस और कुछ आम बिमारियां जैसे बचपन में दंत क्षय रोग, अधिक वजन और मोटापा आदि का खतरा भी कम करती हैं।

diet problem in kidsपांच से बारह साल के बच्चे पहले ही खाने को लेकर पसंद और नापंसद रखते हैं। लेकिन उनकी खाने की इच्छा परिवार दोस्तो और मीडिया(विशेषकर टीवी) के द्वारा प्रभावित हो सकती हैं। स्कूल उम्र के बच्चे अपने से छोटे भाई और बहनों की बजाय खाने में नई प्रयोग करने के लिए खुले होते हैं।

एक बच्चे की खाने की आदतें माता पिता के लिए चिंता का एक विषय  हो सकती हैं। लेकिन यह याद रखे कि यह बच्चे में विकास का एक सामान्य चरण है। बच्चों में खाने की समस्या का सही निदान मुश्किल हो सकता है। बच्चों में खाने एक समस्या की रूप में केवल पिछले 20 सालों में ही पहचाना गया है।

बच्चों में होने वाली खाने की आम समस्याएं -

  • खानों के लिए इन्कार करना
  • एक सीमा में खाना
  • चुन कर खाना या खाने को लेकर सनकी होना
  • फूड फोबिया
  • भावानात्मक रूप से खाने के लिए मना करना।
  • नाश्ता ना करना
  • बहुत ज्यादा खाना
  •  बहुत कम खाना

 

सलेक्टिव या खाने को लेकर सनकी होना

यह समस्या बच्चों में आम तौर पर पाई गई है। कुछ बच्चे सीमित खाना ही खाते है बाकि को रिजेक्ट कर देते हैं। ऐसा व्यवहार आपका बच्चा तभी कर सकता है जब उसे आपके द्वारा ज्यादा खाने को लेकर सलाह दी गई हो या फिर आपका बच्चा एक जैसा खाना खाकर रोजना ठक गया हो। खाना खाने का कांटा बच्चों को उनका टेस्ट और खाने की स्वतंत्रता देती है। यह माता पिता के लिए कष्टदायक हो सकता है लेकिन फूड जग बहुत की कम चिंता का विषय है।

 

सीमित भोजन खाना

कई बच्चे जितना उनको भोजन खाना चाहिए, उससे कम खा सकते हैं।  ये बच्चे शायद खानों की सामान्य रेंज खाते हैं जो कि उन्हें उपभोग करनी चाहिए। लेकिन जितनी उनको आवश्यकता है उससे कम मात्रा में उपभोग करते हैं। इसी के कारण वो कमजोर होते हैं और अपनी उम्र कम करते हैं लेकिन स्वस्थ और सक्रिय हैं। इन बच्चों को शायद कम खाने की आदत रही हो और हो सकता है कि उनके परिवार की कम खाने की इतिहास हो सकती है ।

 

फूड फोबिया

कुछ बच्चे खाने और पीने को लेकर बहुत ही प्रतिबंधीत हो सकते हैं। यह माता पिता के लिए मुख्य चिंता का विषय हो सकता है। वे अक्सर कुछ खानों से बचते हैं क्योंकि वे बिमार होने और नए खाने और गेगिंग, चोकिंग से डरते हैं। खाने और पीने से मना करने पर खाने के समय युद्धक्षेत्र में बदल सकता है। हालांकि फूड फोबिया वाले बच्चे स्वस्थ होते है और ग्रोथ और विकास सही ढंग से करते है जो वो खाते है या पीते हैं उसी से ज्यादा कैलोरी और पोषक मिलते हैं।

खाने के लिए मना करना

जो बच्चे प्री- स्कूल उम्र के होते हैं उनमें खाने से मना करना एक आम शिकायत होती है। हालांकि यह कुछ थोड़े बड़े बच्चों में भी पाया जा सकता है। वे बिना कोई शिकायत और समस्या के जो उन्हें पसंद होता है वह खाना खा लेते हैं और कुछ खानों के लिए मना कर सकते हैं और कुछ वातावरण में खाना नहीं खा सकते जैसे किन्ही विशेष लोगों, स्कूल या फिर घर पर। वे आमतौर पर स्वस्थ होते है और उनकी ग्रोथ और विकास सामान्य होता है। आमतौर पर खाना से इंकार करना चिंता का विषय नहीं है।

 

उम्र के हिसाब से खाने की अनुचित संरचना

कुछ बच्चे ठोस पदार्थ खाने से मना कर सकते हैं। वे खाने को थूक सकते है या उन्हें उबाक आ सकती है या पूरी तरीके से ठोस खाना खाने से मना कर सकते हैं। वे आमतौर पर स्वस्थ, सामान्य लंबाई, सामान्य वजन, ग्रोथ और विकास कर रहे होते हैं। यह समस्या बहुत ही कम चिंता का विषय है लेकिन ये किसी विशेष स्थान जैसे स्कूल में नहीं खा सकते।

 

हद से ज्यादा खाना

हद से ज्यादा खाना खाने वाली आदत अधितकर इंडिया में माता पिता द्वारा डाली जाती है। इंडिया में कुछ लोगों को गलतफहमी है कि मोटा बच्चा स्वस्थ बच्चा होता है। इस प्रोबल्म से बचना चाहिए क्योकिं यह बचपन में मोटापे का कारण बन सकती है जो कि कई शारिरिक और मानसिक समस्या का कारण बन जाती हैं। दूसरी ओर यह नोटिस किया गया है कि जो बच्चे बचपन में मोटे होते है वो बड़े होकर भी मोटे बनते हैं।

 

 

Read More Articles On Parenting In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES8 Votes 13418 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • SHIPRA25 Aug 2011

    i like onlymyhealth session very much its very useful in our daily life. i want more information about my small 8th month child health .what type of food we have to give our small child. lease send me as oon as possible. thanks shipra

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर