कैसा हो टाइप-2 डायबिटीज के मरीज का आहार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 15, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

डायबिटीज यानी मधुमेह वह रोग है जिसमें ब्लड ग्लूकोज (ब्लड-शुगर) का लेवल सामान्य से ज्यादा हो जाता है! डायबिटीज के रोगियों के लिए सबसे बड़ी चिंता भोजन को लेकर होती है। ये मरीज भोजन को ऊर्जा में बदलने में परेशानी होती है। सामान्यतः भोजन के बाद शरीर भोजन को ग्लूकोज में बदलता है जिससे रक्त कोशिकाओं से पूरे शरीर में जाता है।

डायबिटीज की जांच करता मरीजकोशिकाएं इंसुलिन का उपयोग करती है। इंसुलिन एक प्रकार का हार्मोन है जो पेंक्रियाज में बनता है, यही ब्लड ग्लूकोज को ऊर्जा में परिवर्तित करता है। मधुमेह रोगियों की मांसपेशियों की कोशिकाएं, लिवर और वसा इंसुलिन का ठीक तरह से उपयोग नहीं कर पाते हैं। जिसके कारण शरीर में ग्‍लूकोज की मात्रा बढ़ती है।

टाइप – 2 डायबिटीज को वयस्‍क या प्रौढ़ डायबिटीज भी कहते हैं। यह डायबिटीज का सामान्य प्रकार है। टाइप – 2 डायबिटीज किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। यह बच्‍चों को भी हो सकता है। यदि खान-पान में नियमितता बरती जाये तो इसके प्रकोप को कम किया जा सकता है।

 

[इसे भी पढ़ें : डायबिटिक्‍स के लिए डाइट चार्ट]

 

टाइप2 मधुमेह के मरीज का आहार

खाने का खास ख्‍याल रखें
मधुमेह के मरीजों को नियमित अंतराल पर कुछ न कुछ खाते रहना चाहिए। थोड़ी-थोड़ी देर पर खाना नहीं लेते रहने से हाइपोग्लाइसेमिया होने की आशंका काफी बढ़ जाती है जिसमें शुगर 70 से भी कम हो जाती है। खाना लगभग हर ढ़ाई घंटे बाद लेते रहें। दिन भर में तीन बार खाने के बजाय थोड़ा-थोड़ा छह-सात बार खाएं।

 

दालचीनी-
रिसर्च बताती है कि दालचीनी मधुमेह रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है। इससे शरीर की सूजन कम होती है और इंसुलिन लेवल नियंत्रित रहता है। इसको आप खाने, चाय या फिर गरम पानी में एक चुटकी दालचीनी पाउडर मिक्‍स कर पिएं।

 

ग्रीन टी और कॉफी
डायबिटिक्‍स को रोजाना बिना चीनी की ग्रीन टी पीना चाहिए, एंटी ऑक्‍सीडेंट होता है जो शरीर में फ्रीरैडिकल्‍स से लड़ता है और ब्‍लड शुगर के स्‍तर को मेंटेन करता है। डच विशेषज्ञों के एक शोध के अनुसार काफी टाइप2 मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद है, इससे ब्‍लड शुगर सामान्‍य रहता है।

 

फाइबर युक्‍त आहार
खून से शुगर को सोखने में फाइबर का महत्‍वपूर्ण योगदान होता है। इसलिये आपको खाने में गेहूं, ब्राउन राइस या सफेद ब्रेड आदि शामिल करना चाहिए, इससे शरीर में ब्‍लड शुगर का लेवल नियंत्रित रहेगा।

 

[इसे भी पढ़ें : डायबिटीज के रोगी लायें जीवनशैली में सुधार]


ताजे फल और सब्‍जियां
टाइप 2 मधुमेह के मरीजों को ताजे फल और हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए। फलों में प्राकृतिक चीनी का मिश्रण होता है और यह शरीर को हर तरह का पोषण देते हैं। ताजे फलों में विटामिन ए और सी होता है जो कि खून और हड्डियों के लिए फायदेमंद है। फल और सब्जियों में जिंक, पोटैशियम, आयरन का भी अच्‍छा मेल पाया जाता है। पालक, खोभी, करेला, अरबी, लौकी आदि टाइप2 मधुमेह में स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक होती हैं।

 

उच्‍च प्रोटीन डाइट
टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों को प्रोटीनयुक्‍त भोजन का सेवन अधिक करना चाहिये। प्रोटीन से शरीर में ताकत बनी रहती है।

 

कम नमक ज्‍यादा सेहत
नमक की सही मात्रा आपके डायबिटीज को कंट्रोल करने मे मदद करेगा। ज्‍यादा नमक लेने से शरीर में हार्मोनल समस्‍या हो सकती है। जिससे टाइप2 डायबिटीज बढ़ सकता है।

 

टाइप2 डायबिटीज के मरीजों को नियमित रूप से व्‍यायाम करना चाहिए, फास्‍ट फूड और जंक फूड बिलकुल नही खाना चाहिए, चीनी और मिठाई से परहेज करना चाहिए। इसके आलावा यदि आपका शुगर नियंत्रित नही हो रहा है तो चिकित्‍सक से संपर्क कीजिए।

 

 

Read More Articles on Diabetes in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES8 Votes 3215 Views 0 Comment