मन के साथ तन को भी स्‍वास्‍थ्‍य रखता है संगीत

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 20, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • संगीत हमारा मूड बदलकर स्ट्रेस लेवल को कम करता है।
  • संगीत का असर हमारे शरीर और मन दोनों पर ही होता है।
  • आज अस्पतालों में भी म्युज़िक को बढ़ावा दिया जा रहा है।
  • संगीत से मरीज को स्वस्थ होने में भी कम समय लगता है।

 

संगीत हमारी आत्मा को एक अनोखा सुकून देता है और संगीत सुनने से तनाव भी कम होता है। हर व्यक्ति के लिए अलग अलग तरीके का संगीत सुकून देने वाला हो सकता है। जिस तरह का संगीत हमें सुनना पसन्द होता है वो हमारा मनोरंजन करता है, लेकिन उस प्रकार का संगीत जिसे हम नहीं पसन्द करते हैं, उसको सुनने से तनाव बढ़ भी सकता है।

sangeet therapy in hindi

संगीत हमारा मूड बदलकर हमारे स्ट्रैस लेवल को बहुत ही कम समय में बदल देता है। मान लें कि आपका आपरेशन हो रहा है और आप भारतीय रागा सुन रहे हैं और इतने में एक सर्जन मुस्कराते हुए सर्जरी के लिए आता है। शायद आपका तनाव बहुत हद तक कम हो सकेगा।


संगीत थेरेपी का प्रयोग-

  • जब हम संगीत सुनते हैं तो हमारी नर्वस् रिलैक्सिंग मोड में चली जाती हैं और हम हर रोज़ के तनाव से कहीं दूर चले जाते हैं।
  • सालों हुए शोधों से पता चला है कि संगीत का असर हमारे शरीर और मन दोनों पर ही होता है।
  • बहुत सी दिल से जुड़ी बीमारियों का सिर्फ एक ही कारण है तनाव। तनाव के कारण ही आजकल के युवकों को बहुत ही कम उम्र में कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं।
  • आज हमारी जीवनशैली बहुत से तनाव और परेशानियों से घिरी हुई है। हर किसी के पास बहुत से काम हैं और इस भागदौड़ में तनाव के बारे में सोचने का भी किसी के पास समय नहीं।
  • ऐसा पाया गया है कि संगीत से स्ट्रेस मांसपेशियों को आराम मिलता है, किसी भी प्रकार की सूजन कम होती है, ऐथलेटिक पर्फारमेंस अच्छी होती है और हृदय से जुड़े रोगों से भी राहत मिलती है।
  • विदेशों में संगीत से थेरेपी बहुत ही आम है जैसे आपरेशन थियेटर में सर्जरी के दौरान संगीत।
  • आज अस्पतालों में म्युज़िक को बढ़ावा दिया जा रहा है।
  • कुछ डाक्टरों का ऐसा मानना है कि उन्हें आपरेशन करते समय अराम मिलता है लेकिन रिसचर्स का मानना है कि इससे मरीज़ को भी लाभ मिलता है।
  • ब्लड प्रेशर जो कि सर्जिकल प्रोसिज़र से बढ़ जाता है उसे संगीत सुन कर कम किया जा सकता है और मरीज को स्वस्थ होने में भी कम समय लगता है।
  • वो मरीज जो फास्ट म्युज़िक सुन रहे थे, उनमें सर्कुलेशन का रेट बढ़ गया और उनकी तुलना में वो मरीज़ जो स्लो म्युज़िक सुन रहे थे उनमें हृदय गति कम हुई। भारतीय रागा से हृदय गति में सबसे ज़्यादा सुधार आता है। जैसे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए खाने की ज़रूरत होती है वैसे ही हमारी आत्मा को स्वस्थ रहने के लिए संगीत की ज़रूरत होती है।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty

Read More Article on Alternative-Therapy in hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES8 Votes 14972 Views 4 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • mitali21 Feb 2013

    thanx to give us gud information...

  • madhumita21 Feb 2013

    music is like medician for me...

  • Sanat kashyap01 Oct 2012

    Onlymy Health .com is best web site ........... Thank's

  • ajay27 Jun 2011

    dear jaya ji, plz clear the raag and its listening period, it is very revolutionary write.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर