मानसून में बच्‍चों का रखें खास ख्‍याल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 21, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Baby care in monsoon in hindi

बरसात के मौसम और बचपन की यारी तो बहुत खूब होती है। तेज गर्मी के महीनों के बाद मौसम में आया बदलाव राहत की बौछारें लेकर आता है। हवा के तेज झोंकों के साथ बारिश होना.. ऐसे में भला किसका दिल नहीं चाहेगा इस मौसम का आनंद उठाने का। और बच्‍चे उनकी तो बात ही कुछ और है। उनके लिए तो बारिश कुछ ज्यादा ही खास होती है। वे खेल-खेल में ही बार-बार अपने कपड़े गीला करते हैं। लेकिन एक ओर जहां यह बरसात ठंडक और मस्‍ती लेकर आती है, वहीं साथ ही यह अपने साथ लाती है ढ़ेरों बीमारियां।  ऐसे में पैरेट्स जरा सी सावधानी बरतें तो बच्चे भी खुलकर इस मौसम का मजा उठा सकते हैं।
 
बरसात में बच्‍चों में होने वाली आम बीमारियां-
 
बच्चों का इम्युन सिस्टम बड़ों से कमजोर होता है, ऐसे में उनमें इन्फेक्शन का खतरा ज्यादा रहता है। बरसात में डायरिया, दस्त, जॉन्‍डिस (पीलिया), वायरल फीवर, टायफाइड, सर्दी-खांसी आम बीमारियां हैं। इनमें जॉन्डीस और टायफायड से बच्चे विशेष रूप से प्रभावित होते हैं। इसलिए बरसात के मौसम में कुछ बातों का ख्याल रखें।
 
 
बच्चों का रखें खास ख्याल-
 
·         बच्‍चों को बारिश में ज्यादा न भीगने दें।

·         बच्‍चों को ज्‍यादा देर भीगे हुए कपड़ों में न रहने दें।

·         अगर बच्‍चे बरसात में भीग भी जाते हैं तो उनका सिर और बदन अच्‍छे से पोंछकर रखें।
 
·         बाजार में बिकने वाली खुली चीजों को बच्‍चों को बिल्‍कुल ना खाने दें। इसके अलावा कच्चा और ठंडा खाना भी ना खिलाएं।
 
·         बच्‍चों को पानी उबालकर या फिल्‍टर करके ही दें। स्कूल जाने वाले बच्चों को इस मौसम में घर से पानी की बोतल देकर ही भेजे।
 

·         बच्‍चों के हाथों एवं नाखूनों की सफाई पर विशेष ध्यान दें।
 

·         बच्चों में हर बार खाना खाने से पहले और खाना खाने के बाद साबुन से हाथ धोने की आदत डालें।
 

·         मच्छरदानी का प्रयोग जरूर करें।
 

·         जॉन्डीस से बचाने के लिए छोटे बच्चों को टीका लगवाना ना भूले।
 

·         तीन-तीन साल के अंतराल पर बच्चों को टायफाइड का टीका लगवाएं।

 

इस मौसम में सूती कपड़े बच्‍चों के लिए ज्‍यादा अच्‍छे रहेंगे।

·         छोटे बच्चों की स्किन बहुत सेंसेटिव होती है, लिहाजा उन्हें नहलाने के बाद कोई भी लोशन बिना चिकित्‍सीय सलाह के न लगाएं। इससे रैशेज हो सकते हैं।
 

·         इस मौसम में मच्छरों की भरमार होती है, इसलिए बच्चों को फुल पैंट या पूरी बाजू के कपड़े पहनाएं।
 
 
 
बच्‍चों की इम्युनिटी को बढ़ाएं-
 

खानपान का खास ख्याल रखकर बच्चों में इम्युनिटी को बढ़ाया भी जा सकता है। इसके लिए बच्‍चों को हाई प्रोटीन डाइट देनी चाहिए।          
 
·         बच्‍चों को दाल व अन्‍य हल्‍का भोजन खिलाएं। यदि आप चाहें तो अंडों को नाश्‍ते में शामिल करना एक अच्‍छा विकल्‍प होगा।
 

·         बच्‍चों को सीजनल फ्रूट जैसे मौसमी और संतरे जरूर दें। इनमें विटामिन सी होता है जो  इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करता है।
 

·         इसके अलावा लूज मोशन हो जाएं तो डीहाइड्रेशन न होने दें। ओआरएस का घोल दें, इसके अलावा दाल या चावल का पानी पिलाएं।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES2 Votes 12527 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर