रोटी-सब्जी और दाल क्यों नहीं हैं रात के लिए सही खाना? जानें डायटीशियन की राय और डिनर के हेल्दी विकल्प

रात के खाने में अक्सर लोग रोटी-सब्जी या दाल-रोटी खाते हैं। मगर Nutri Advice Health Center की डायटीशियन निधि साहनी बताती हैं कि रात के खाने में आपको रोटी-सब्जी नहीं खाना चाहिए। जानें रात में क्या खाना होता है सेहतमंद और कैसे रखें अपने परिवार को स्व

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Oct 16, 2019Updated at: Oct 16, 2019
रोटी-सब्जी और दाल क्यों नहीं हैं रात के लिए सही खाना? जानें डायटीशियन की राय और डिनर के हेल्दी विकल्प

क्या आप भी रात के खाने में ज्यादातर रोटी-सब्जी ही खाते हैं? उत्तर भारत के ज्यादातर घरों में रात के खाने में रोटी-सब्जी ही खाया जाता है। वैसे तो सब्जियां सेहत के लिए अच्छी होती हैं और रोटी भी फाइबर से भरपूर होती हैं। मगर हेल्थ-एक्सपर्ट्स मानते हैं कि डिनर यानी रात के खाने में रोटी-सब्जी खाना आपके और आपके परिवार की सेहत के लिए अच्छा नहीं है, खासकर गेंहूं की रोटियां। इससे न सिर्फ आपका मोटापा बढ़ता है, बल्कि अपच, कब्ज और डायबिटीज का खतरा भी बढ़ जाता है। सवाल ये उठता है कि डिनर में रोटी-सब्जी क्यों नहीं खाना चाहिए और कौन सा खाना है रात के लिए बेस्ट? इसका जवाब दे रही हैं न्यूट्री एडवाइस हेल्थ सेंटर की डायटीशियन निधि साहनी।

क्यों रोटी-सब्जी नहीं है हेल्दी?

डायटीशियन निधि साहनी बताती हैं, "हम लोग ज्यादातर रात के खाने में रोटी-सब्जी या दाल-रोटी खाते हैं। इनमें कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा ज्यादा होती है, इसलिए इन्हें पचाना मुश्किल होता है।" ज्यादातर लोग रात के खाने के बाद थोड़ा-बहुत काम करते हैं और फिर सोने चले जाते हैं। ऐसे में हाई कार्ब्स वाले आहारों को पचने का समय नहीं मिलता है, जिससे ये अनपचे ही रह जाते हैं। लंबे समय तक ऐसे आहार अनपचा खाना आपको कई बीमारियों का शिकार बनाता है, जिसमें मोटापा और डायबिटीज सबसे गंभीर बीमारियां हैं।

इसे भी पढ़ें:- क्यों खाएं सिर्फ ताजा खाना? बासी खाना खाने से हो सकती हैं ये 5 समस्याएं

कैसा होना चाहिए रात का खाना?

चूंकि रात के समय सोने के बाद हमारे शरीर का मेटाबॉलिज्म दिन की अपेक्षा धीमा हो जाता है, जिसके कारण पाचनतंत्र उतनी अच्छी तरह काम नहीं कर पाता है, जितनी अच्छी तरह वो सुबह करता है। ऐसे में एक्सपर्ट निधि साहनी बताती हैं कि आपके रात का खाना हल्का और सुपाच्य होना चाहिए, जिसे पेट आसानी से पचा सके। इसके लिए आप कॉम्प्लेक्स कार्ब्स वाले आहार खाएं। कॉम्प्लेक्स कार्ब्स ऐसे आहार हैं, जो बहुत धीरे-धीरे पचते हैं। इसलिए शरीर को इन्हें पचाने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती है। स्लो मेटाबॉलिज्म के दौरान भी आपका पेट इन कॉम्प्लेक्स कार्ब्स को धीरे-धीरे पचाता रहता है और शरीर को भोजन में मौजूद सभी पोषक तत्व भी मिल जाते हैं।

रात के समय क्या खाएं खाने में?

रात का खाना हल्का होना चाहिए इसलिए शाकाहारी लोग रात में उबली हुई सब्जियां, ग्रिल्ड सब्जियां, सूप, सलाद आदि खा सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको ज्यादा भूख लगती है, तो आप थोड़े से मोटे अनाज जैसे- दलिया, ओट्स आदि खा सकते हैं। अगर आप नॉनवेजिटेरियन हैं, तो आप रात के खाने में ग्रिल्ड चिकन या मछली खा सकते हैं। आमतौर पर लोगों को लगता है कि चिकन हैवी फूड है। मगर प्रोटीन से भरपूर चिकन को अगर ग्रिल करके बनाएं, तो इसमें कैलोरीज की मात्रा ज्यादा नहीं होती है। रात के समय आप आराम से ग्रिल्ड चिकन या ग्रिल्ड फिश खा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- फ्रिज में रात के बचे आटे की रोटी हो सकती है खतरनाक, ये हैं खतरे

रात के खाने में इन बातों का भी रखें ध्यान

  • रात का खाना हमेशा सोने से 2-3 घंटे पहले खा लें।
  • किसी भी स्थिति में रात के 9 तक खाना जरूर खा लें।
  • खाने के बाद 5 मिनट आराम करें और फिर कम से कम 15-20 मिनट पैदल जरूर टहलें।
  • खाने के दौरान या खाने के 1 घंटे बाद तक पानी न पिएं। अगर खाना तीखा है, तो आप 1-2 घूंट पानी पी सकते हैं।
  • खाने के कम से कम 2-3 घंटे बाद तक आपको नहाना नहीं चाहिए।

Read more articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer