स्वास्थ्य स्थितियों के अनुसार कई तरह की होती हैं कफ वाली खांसी, जानें खांसी के प्रकार और इनके अनेक कारण

खांसना आपके शरीर की जलन से छुटकारा पाने का तरीका है। जब कोई चीज आपके गले को परेशान करती है, तो आपका तंत्रिका तंत्र, मस्तिष्क को अलर्ट भेजता है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Mar 23, 2020
स्वास्थ्य स्थितियों के अनुसार कई तरह की होती हैं कफ वाली खांसी, जानें खांसी के प्रकार और इनके अनेक कारण

खांसी होना काफी आम है, पर इसका ज्यादा होना किसी गंभीर बीमारी का लक्षण भी माना जाता है। आमतौर पर ये एक संक्रमण एलर्जी या धूम्रपान के कारण हो सकता है। पर खांसी के कई प्रकार होते, जो अलग-अलग स्वास्थ्य स्थितियों के कारण होती है। वहीं यह समझना भी जरूरी है कि आपके पास किस तरह की खांसी है यानी कि इसका प्रकार क्या है। वहीं खांसी के प्रकार की जांच करके ही इसके सही उपचार की भी तलाश की जा सकती है। तो आइए जानते हैं सबसे पहले ये कि आखिरकर हमें खांसी क्यों आती है और इसके प्रकार क्या हैं? साथ ही लोगों को कब डॉक्टर के पास जाने की जरूरत होती है। 

insidetypesofcough

हमें खांसी क्यों होती है?

खांसी शरीर का एक प्रतिवर्त यानी कि एक तरह का रिएक्शन है, जो विदेशी कणों, रोगाणुओं, चिड़चिड़ाहट आदि के श्वास मार्ग को साफ करने में मदद करता है। वहीं संक्षेप में कहें, तो ये गले और वायुमार्ग को साफ रखने में मदद करता है। लेकिन बार-बार खांसी आना यह संकेत दे सकता है कि आपको कोई बीमारी है।वहीं खांसी के उत्पाद के रूप में थूक और कफ का उत्पादन, गीली खांसी भी कहा जाता है। वहीं कुछ खांसी, जिसमें कफ न हो उसे सूखी खांसी कहते हैं। इसके अलावा, इसे इसकी गंभीरता के अनुसार विभाजित किया गया है। उदाहरण के लिए, तीव्र खांसी  (acute cough) की अचानक शुरुआत होती है और तीन सप्ताह से कम समय तक रहती है। वहीं पुरानी खांसी आठ सप्ताह से अधिक समय तक रहती है। तीन से आठ सप्ताह के बीच रहने वाली खांसी को उप-तीव्र खांसी (sub-acute cough) कहा जाता है।

गीली खांसी

एक गीली खांसी, जिसे एक प्रोडक्टिव खांसी भी कहा जाता है, ये वो खांसी होती है, जो आम तौर पर बलगम के साथ आती है। गीली खांसी आमतौर पर सर्दी या फ्लू के कारण होती है। वे धीरे-धीरे या जल्दी से आ सकते हैं और अन्य लक्षणों के साथ हो सकते हैं, जैसे:

  • -बहती नाक
  • -नाक ड्रिप
  • -थकान
insidecoughing

सूखी खांसी

सूखी खांसी एक ऐसी खांसी है, जिसमें बलगम नहीं निकलता है। ऐसा महसूस हो सकता है कि आपके गले के पिछले हिस्से में गुदगुदी हो रही है, जिससे आपको खांसी आने लगती है। सूखी खांसी अक्सर नियंत्रित करना मुश्किल होता है और ये लंबे समय तक चल सकती है। सूखी खांसी तब होती है जब आपके श्वसन पथ में सूजन या जलन होती है, लेकिन खांसी के लिए कोई अतिरिक्त बलगम नहीं होता है।सूखी खांसी अक्सर ऊपरी श्वसन संक्रमण के कारण होती है, जैसे सर्दी या फ्लू। बच्चों और वयस्कों दोनों में, सर्दी या फ्लू होने के बाद कई हफ्तों तक सूखी खांसी का होना। वायु प्रदूषण, धूल, या धुएं जैसे परेशानियों के संपर्क में आने से सूखी खांसी होती है। वहीं इनके अन्य संभावित कारणों में शामिल हैं:

  • -लैरींगाइटिस
  • -गले में खराश
  • -साइनसाइटिस

घुटन वाली खांसी

एक व्यक्ति को खांसी हो सकती है तब भी होती है, जब उसका गला खराब हो जाता है। शरीर वस्तु से छुटकारा पाने की कोशिश करता है और खांसता है। इसके अलावा इसी तरह, अगर व्यक्ति को गले में कुछ फंस जाएं तब भी ऐसी ही खांसी होती है। ऐसा व्यक्ति जब खांसना बंद कर देता है और सांस लेने में परेशानी होने लगती है, वह घुटम महसूस करने लगता है। ऐसी खांसी के पीछे

  • -दमा
  • -एलर्जी
  • -गले में चोक आदि हो सकता है।

रिफ्लेक्स कफ

श्वसन पथ और फेफड़ों के निचले हिस्से में होता है। अगर धूल या एलर्जी इस स्थान पर हो जाती है, तो इससे संक्रमण हो सकता है। जब एक संवेदी द्वारा संवेदी तंत्रिकाओं को उत्तेजित किया जाता है, तो यह एक खांसी बाउट को ट्रिगर करती है। इस तरह ये फेफड़ो में कफ ट्रिगर होने लगता है और खांसी आने लगती है।

इसे भी पढें: अचानक आने वाली खांसी को कैसे करें कंट्रोल, जानिए

ब्रोंकाइटिस

यह एक श्वसन रोग है जिसमें ब्रोन्ची (फेफड़ों के वायुमार्ग मार्ग) के श्लेष्म झिल्ली की सूजन होती है। झिल्ली सूज जाती है और मोटी हो जाती है, इस प्रकार छोटे वायुमार्ग को संकुचित करती है। इसके कारण सांस फूलती है और खांसी आती है। ब्रोंकाइटिस तीव्र या जीर्ण हो सकता है। तीव्र ब्रोंकाइटिस आमतौर पर एक ठंड या वायरल संक्रमण का अनुसरण करता है और कुछ दिनों या हफ्तों तक रहता है। तीव्र ब्रोंकाइटिस का 90% वायरस और बाकी 10% बैक्टीरिया के कारण होता है। अगर खांसी, जो कम से कम दो साल तक एक वर्ष में तीन महीने या उससे अधिक समय तक रहती है तो यह क्रोनिक ब्रोंकाइटिस है। सिगरेट के धुएं, वायु प्रदूषक, व्यावसायिक जोखिम इत्यादि से होने वाली परेशानियों का बार-बार आना वायुमार्ग को घायल कर सकता है और पुरानी ब्रोंकाइटिस का कारण बन सकता है।

डॉक्टर को कब दिखाना है?

खांसी एक आम लक्षण है, खासकर ठंड, फ्लू और एलर्जी के मौसम के दौरान। अधिकांश खांसी गंभीर नहीं हैं, लेकिन कुछ हो सकती हैं। ऐेसे में डॉक्टर को तब दिखाएं, जब

  • -खांसी लेने के साथ सांस लेने में परेशानी हो।
  • -पुरानी खांसी, जो कई हफ्तो तक रहे।
  • - खून वाली खांसी।
  • -सांस लेने के लिए पसलियों की मांसपेशियों का उपयोग करना।

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer