Measles Immunization Day 2020: बच्चों के लिए बेहद जरूरी है खसरे का टीका लगवाना, जानें क्यों खतरनाक है ये बीमार

खसरा एक बेहद संक्रामक और जानलेवा बीमारी है, जो बच्चों में ज्यादा होती है। इससे बचाव के लिए जन्म के 1 साल के भीतर खसरे का टीका लगवाना जरूरी है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Mar 16, 2020Updated at: Mar 16, 2020
Measles Immunization Day 2020: बच्चों के लिए बेहद जरूरी है खसरे का टीका लगवाना, जानें क्यों खतरनाक है ये बीमार

खसरा एक बेहद संक्रामक बीमारी है, जो आमतौर पर छोटे बच्चों को प्रभावित करती है। खसरा को जानलेवा माना जाता है। पूरी दुनिया में हर साल लगभग एक लाख बच्चे हर साल खसरा की बीमारी के कारण 5 साल से कम उम्र में ही मर जाते हैं। आज से कुछ दशकों पहले तक ये बीमारी छोटे बच्चों में मौत की सबसे बड़ी वजहों में से एक थी। खसरा के लिए कोई विशेष इलाज नहीं है, मगर बच्चों को बचपन में ही इसका टीका लगवाकर उन्हें इस गंभीर बीमारी से बचाया जा सकता है। भारत सहित तमाम विकासशील देशों के लिए बच्चों में खसरा एक बड़ी समस्या है। आज भी बहुत सारे लोग जानकारी के अभाव में इस टीके को नहीं लगवाते हैं। खसरा के टीके के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से ही हर साल 16 मार्च को खसरा प्रतिरक्षण दिवस (Measles Immunization Day) मनाया जाता है।

तेजी से फैलता है खसरा

खसरा का खतरा उन बच्चों और बड़ों को सबसे ज्यादा होता है, जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) बहुत कम होती है। आमतौर पर खसरा किसी संक्रमित व्यक्ति के मुंह से निकलने वाली लार, नाक से बहने वाले द्रव या छींकने, खांसने के दौरान निकलने वाली छोटी-छोटी बूंदों के संपर्क में आने से होता है। आमतौर पर इसके वायरस 2 घंटे तक सक्रिय रहते हैं और इस दौरान उसके संपर्क में आने वाले व्यक्ति को प्रभावित कर सकते हैं। अगर घर में किसी एक बच्चे या व्यक्ति को खसरा हो गया, तो अन्य सदस्यों को भी इसके होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है।

इसे भी पढ़ें: पिछले 8 वर्षों में 29 लाख बच्चों को नहीं मिली खसरे की पहली खुराक

खसरा के लक्षणों को कैसे पहचान सकते हैं?

  • शरीर पर दाने या चकत्ते निकलना
  • लगातार बुखार आना
  • तेज और लगातार खांसी आना
  • लगातार नाक बहना
  • आंखों का लाल हो जाना

आमतौर पर खसरा के लक्षण 2 दिन बाद दिखना शुरू होते हैं। शुरुआत में पूरे शरीर में छोटे-छोटे दाने आ जाते हैं। इसके बाद खांसी, बुखार और नाक बहने की समस्या शुरू हो जाती है। इस स्थिति में बच्चे के शरीर का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। कई बार स्थिति बिगड़ने पर रोगी को लगातार दस्त होते रहते हैं और इंसेफ्लाइटिस भी हो सकता है।

कब और कैसे लगवाएं बच्चों को टीका?

आमतौर पर खसरे का टीका बच्चों को 9 माह से 1 साल की उम्र के बीच लगाया जाता है। इसके बाद इसका एक बूस्टर डोज लगाया जाता है, जो 18वें महीने से 2 साल की उम्र के बीच लगवाया जाता है। कई बार कुछ बच्चों को खसरे के साथ कुछ अन्य जानलेवा बीमारियों का टीका मिलाकर एक बार में ही लगा दिया जाता है। इसके 4 कॉम्बिनेशन हो सकते हैं।

  • खसरा, गलसुआ, और रुबेला का टीका (MMR)
  • खसरा, रुबेला, गलसुआ, और छोटी माता (चिकनपॉक्स) का टीका (MMRV)
  • खसरा और रुबेला का टीका (MR)
  • अकेला खसरा का टीका

बच्चों को जरूर लगवाएं सभी टीके

आमतौर पर 5 साल से पहले-पहले बच्चों को 11 जानलेवा बीमारियों के टीके लगाए जाते हैं। इन सभी टीकों की जानकारी आपको अपने नजदीकी सरकारी अस्पताल या बच्चों के अस्पताल में मिल जाएगी। इन टीकों को लगवाने से बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित होती है और वे बीमारियों से बचे रहते हैं। कई सरकारी अस्पतालों में ये टीके मुफ्त लगाए जाते हैं।

Watch Video: एक्सपर्ट से जानें क्यों जरूरी है बच्चों को सभी टीके लगवाना? किन बीमारियों से बचाता है टीका

Read more articles on Children's Health in Hindi

Disclaimer