Doctor Verified

हेपेटाइटिस क्या है? जानें क्यों होती है ये बीमारी और लिवर खराब होने की शुरुआत कैसे होती है

Hepatitis in Hindi: हेपेटाइटिस की समस्या लिवर से शुरू होती है और गंभीर मामलों में जानलेवा हो जाती है, जानें हेपेटाइटिस के बारे में।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jul 26, 2022Updated at: Jul 26, 2022
हेपेटाइटिस क्या है? जानें क्यों होती है ये बीमारी और लिवर खराब होने की शुरुआत कैसे होती है

Hepatitis in Hindi: हेपेटाइटिस (Hepatitis) मूल रूप से लीवर से जुड़ी बीमारी है, जो वायरल इन्फेक्शन के कारण होती है। इस बीमारी में लीवर में सूजन आ जाती है। हेपाटाइटिस में 5 प्रकार के वायरस होते हैं, जैसे- ए,बी,सी,डी और ई। इन पांचों  वायरसेस को गंभीरता से लेना चाहिए, क्योंकि इनके कारण ही हेपेटाइटिस महामारी जैसी बनती जा रही है और हर साल इसकी वजह से होने वाली मौतों का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है। हेपेटाइटिस का टाइप बी और सी लाखों लोगों में क्रोनिक बीमारी का कारण बन रहे हैं क्योंकि इनके कारण लीवर सिरोसिस और कैंसर होते हैं। हेपेटाइटिस के बारे जागरूकता पैदा करने और जन्म के बाद बच्चे को वैक्सीन देकर उसे हेपेटाइटिस से बचाया जा सकता है। लोगों में बीमारियों के प्रति समझ और जागरूकता बढ़ाने के लिए ओनलीमायहेल्थ एक स्पेशल सीरीज लेकर आया है जिसका नाम है 'बीमारी को समझें'। आज इस सीरीज में हम आपको बता रहे हैं, हेपेटाइटिस क्या है और यह संक्रमण कैसे फैलता है। 

हेपेटाइटिस के प्रकार- Types Of Hepatitis in Hindi

हेपेटाइटिस वायरल इन्फेक्शन की वजह से होने वाली समस्या है। दवाओं, ड्रग्स और एल्कोहल का बहुत ज्यादा सेवन करने की वजह से भी हेपेटाइटिस की समस्या हो सकती है। हेपेटाइटिस के 5 प्रकार होते हैं-

1. हेपेटाइटिस ए (Hepatitis A)

2. हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B)

3. हेपेटाइटिस सी (Hepatitis C)

4. हेपेटाइटिस डी (Hepatitis D)

5. हेपेटाइटिस ई (Hepatitis E)

Hepatitis in Hindi

इसे भी पढ़ें: लिवर सिरोसिस होने पर शरीर देता है ये संकेत, जानें कैसे करें इसकी पहचान

शरीर में कैसे फैलता है हेपेटाइटिस संक्रमण?- How Hepatitis Infection Spread in The Body?

बाबू ईश्वर शरण सिंह हॉस्पिटल के सीनियर फिजिशियन डॉ समीर के मुताबिक हेपेटाइटिस की समस्या आमतौर पर दूषित पानी और दूषित भोजन का सेवन से शुरू होती है। हेपेटाइटिस ए, ई और वायरल हेपेटाइटिस के संक्रमण की शुरुआत दूषित जल और दूषित भोजन के कारण होती है। हेपेटाइटिस वायरस के संपर्क में आने से संक्रमण की शुरुआत होती है। इसके अलावा खुले में शौच, हाथ न धुलना और सीवर आदि की सफाई करने वाले लोगों में हेपेटाइटिस की समस्या तेजी से फैलती है। वहीं हेपेटाइटिस बी और सी की समस्या संक्रमित व्यक्ति को लगाये गए इंजेक्शन का दोबारा किसी व्यक्ति में इस्तेमाल करने से होती है। हेपेटाइटिस बी से संक्रमित मरीज का खून किसी दूसरे व्यक्ति को देने से भी यह संक्रमण फैल सकता है। हेपेटाइटिस बी और सी का संक्रमण संक्रमित व्यक्ति से सेक्स करने से भी फैल सकता है। हेपेटाइटिस से संक्रमित होने वाले मरीजों को वायरस का पहला अटैक आपके लिवर पर होता है। संक्रमण की शुरुआत होने पर मरीज के लिवर में सूजन शुरू होती है और धीरे-धीरे लिवर खराब होने लगता है। 

इसे भी पढ़ें: खतरनाक रोग है हेपेटाइटिस सी, जानें इससे जुड़े मिथ और तथ्य

हेपेटाइटिस के प्रमुख कारण- What Causes Hepatitis in Hindi

हेपेटाइटिस का रोग एक जानलेवा इन्फेक्शन होता है। सही समय पर इलाज न लेने की वजह से मरीज की जान भी जा सकती है। मुख्य रूप से यह संक्रमण के कारण शुरू होने वाला रोग है, लेकिन इसके कई अन्य कारण भी हो सकते हैं-

  • वायरल इन्फेक्शन के कारण हेपेटाइटिस का संक्रमण।
  • ऑटोइम्यून डिजीज के कारण हेपेटाइटिस का संक्रमण।
  • कुछ दवाओं के साइड इफेक्ट्स के कारण।
  • बहुत ज्यादा शराब पीने की वजह से।
  • लिवर में इन्फेक्शन की वजह से।
  • हाथ पर टैटू गुदवाने, संक्रमित खून चढ़वाने के कारण।

हेपेटाइटिस के लक्षण- Hepatitis Symptoms in Hindi

हेपेटाइटिस का संक्रमन होने पर शुरुआत में कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। धीरे-धीरे जैसे यह इन्फेक्शन बढ़ने लगता है, वैसे ही लक्षण भी गंभीर होने लगते हैं। हेपेटाइटिस की समस्या लंबे समय तक बनी रहे तो यह पीलिया का रूप ले लेता है। लंबे समय तक इलाज न होने की स्थिति में हेपेटाइटिस लिवर सिरोसिस और लिवर कैंसर का कारण भी बन जाता है। हेपेटाइटिस का संक्रमण शुरू होते ही दिखने वाले लक्षण इस प्रकार से है-

  • लिवर में सूजन
  • पेशाब का रंग गहरा होना
  • पेट में गंभीर दर्द
  • भूख-प्यास न लगना
  • अचानक वजन कम होना
  • आंखों में पीलापन
  • बुखार और उल्टी
  • पेट में सूजन

हेपेटाइटिस का इलाज और निदान क्या है?- Hepatitis Treatment in Hindi

मरीज में संक्रमण की स्थिति के आधार पर हर व्यक्ति का इलाज अलग-अलग हो सकता है। शुरुआत में चिकित्सक मरीज की जांच करते हैं। मरीज में संक्रमण की गंभीरता की जांच के लिए डॉक्टर्स पेट का अल्ट्रासाउंड, लिवर फंक्शन टेस्ट, लिवर बायोप्सी, मार्कर टेस्ट और ब्लड टेस्ट करते हैं। सही इलाज लेने से कुछ दिनों में इसके लक्ष खत्म होने लगते हैं। डाइट और लाइफस्टाइल में सुधार करने से आप इस संक्रमण को आसानी से खत्म कर सकते हैं। इसलिए डॉक्टर्स दवाओं के सेवन के साथ-साथ मरीजों को हेल्दी डाइट का सेवन और कुछ चीजों से परहेज की सलाह देते हैं।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer