नाखून के आसपास सूजन हो सकते है नाखूनों के अंदर बढ़ने का संकेत, जानें कारण और इलाज

नाखूनों का अंदर की तरफ बढ़ना काफी दर्दनाक होता है। ऐसे में अगर शुरुआत में लापरवाही की जाए तो ये समस्या गंभीर रूप ले सकती है।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jan 12, 2021Updated at: Jan 12, 2021
नाखून के आसपास सूजन हो सकते है नाखूनों के अंदर बढ़ने का संकेत, जानें कारण और इलाज

लंबे और सुंदर नाखून कौन नहीं चाहता। लेकिन कभी-कभी लापरवाही के कारण हमारे नाखून भी बीमार हो सकते हैं। स्वास्थ्य के नजरिए से देखा जाए तो नाखून कई तरीके से बता सकते हैं कि हमारी सेहत कितनी अच्छी है और कितनी नही। दूसरी तरफ नाखूनों पर लगा संक्रमण भी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। ये संक्रमण किसी भी रूप में आ सकता है। आज हम बात कर रहे हैं नाखूनों के अंदर की तरफ बढ़ना। यह भी एक प्रकार का संक्ममण ही है जो लापरवाही के कारण और खतरनाक रूप ले सकता है। नाखूनों का अंदर की तरफ बढ़ना एक ऐसी स्थिति है जिसके कारण दर्द, सूजन, लालिमा आदि लक्षण नजर आने लगते हैं। यह समस्या खासतौर पर अंगूठे में देखी गई है इस प्रकार की स्थिति पैदा होती है तो घर पर रहकर सही देखभाल से समस्या को दूर किया जा सकता है। वही डॉक्टर के मदद से भी आप समस्या से जल्दी छुटकारा पा लेते हैं। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि नाखून अंदर की ओर बढ़ने के क्या लक्षण हैं? इसके क्या कारण हैं? इसका इलाज भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

nail treatment

नाखून अंदर की तरफ बढ़ने के लक्षण

नाखूनों के अंदर की बढ़ने के लक्षण निम्न प्रकार हैं-

1- नाखून के आसपास सूजन का आ जाना।

2- नाखून के आसपास के ऊतकों के संक्रमण का फैलना।

3- नाखूनों के आसपास लाली मां का छा जाना।

4- नाखूनों को छूने पर दर्द महसूस करना।

इसे भी पढ़ें- पेट में मरोड़ के पीछे होते हैं ये 10 कारण, एक्सपर्ट से जानें लक्षण और बचाव

नाखून के अंदर की तरफ बढ़ने के कारण

नाखूनों के अंदर की तरफ बढ़ने के निम्न कारण  हैं-

1- नाखूनों पर चोट लगने के कारण नाखून अंदर की तरफ बढ़ने लगते हैं।

2- नाखूनों का आकार अगर ठीक प्रकार नहीं है तब भी ये समस्या देखने को मिलती है।

3- जो लोग नाखूनों की सही से सफाई नहीं करते हैं उनके नाखून अंदर की तरफ बढ़ने शुरू हो जाते हैं।

4- जिन लोगों का नाखून असामान्य रूप से मुड़ा हुआ होता है उनमें समस्या देखी गई है।

5- कुछ लोग ऐसे जूते का चयन करते हैं जिससे नाखूनों को नुकसान पहुंचता है तब यह समस्या नजर आती है।

6- जो लोग नाखूनों को जड़ों तक यानी बहुत छोटा काटते हैं उनके नाखून अंदर की तरफ बढ़ने लगते हैं।

नाखून अंदर की ओर बढ़ने का उपचार और इलाज

नाखूनों के अंदर बढ़ने की स्थिति ज्यादा गंभीर नहीं है तो ऐसे में इसका इलाज घर पर ही किया जा सकता है। अगर आप गर्म पानी में 15 से 20 मिनट तक नाखूनों को भिगोएं और ऐसा आप प्रतिदिन तीन से चार बार करें तो लाभ मिलता है। अगर आप दर्द से परेशान हैं तो इसके लिए आप एसिटामिनोफेन जैसे दवाइयों का सेवन डॉक्टर की सलाह पर कर सकते हैं। अगर आपके नाखून संक्रमित है तो इसके लिए आप एंटीबायोटिक पॉलीमैक्सीन, स्टेरॉइड क्रीम का उपयोग भी कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें-बार-बार बुखार आना हो सकती है हीमोलिटिक एनीमिया की निशानी, जानिए क्या है इस बीमारी के प्रमुख कारण

कैसे होता है इलाज

जह समस्या बढ़ जाती है तो डॉक्टर दो तरीकों के माध्यम से नाखूनों का इलाज करते हैं। ये तरीके निम्न प्रकार हैं-

औजारों के माध्यम से नाखूनों को उठाना

अगर आप का नाखून अंदर की तरफ कम बड़ा है तो डॉक्टर इस स्थिति में औजारों के माध्यम से नाखूनों को उठाने की कोशिश करते हैं। वे कभी-कभी इसके लिए रुई, डेंटल फ्लॉस आदि का इस्तेमाल करते हैं ऐसा करने से नाखूनों को सही तरीके से बढ़ने में मदद मिलती है।

नाखूनों को निकालना

जो नाखून इस समस्या से प्रभावित है और अधिक गंभीर स्थिति में है साथ ही उसमें मवाद, दर्द, लालिमा नजर आ रही है तो ऐसी परिस्थिति में डॉक्टर खराब नाखून को काटकर निकाल देते हैं। इसके अलावा कई बार डॉक्टर सर्जरी की सलाह देते हैं। इस प्रक्रिया को वे पार्शियल नेल रिमूवर का नाम देते हैं। इस प्रक्रिया में स्किन के अंदर जो नाखून घुसा हुआ होता है उसको निकाला जाता है। इस प्रक्रिया में डॉक्टर उंगली को सुन करते हैं और नाखून के प्रभावित हिस्से को काट कर, उस कटे हुए हिस्से को सीधा करते हैं।

नोट- अगर नाखून मोटे होने  के कारण नाखून अंदर की तरफ बढ़ गए हैं तो इसके लिए डॉक्टर पूरा नाखून भी निकाल देते हैं। दर्द से बचने के लिए डॉक्टर इंजेक्शन का उपयोग करते हैं यह एक प्रकार की सर्जरी होती है जिसे मैट्रिक्सट्रेकोमी कहते हैं।

ये लेख डॉ. अरिहंत सुराणा, कॉस्मेटिक त्वचा विशेषज्ञ और हेयर ट्रांसप्लांट सर्जन, चिकित्सा निदेशक, अल्वी अरमानी अंतर्राष्ट्रीय और मोनारियल त्वचा चिकित्सक द्वारा दिए गए इनपुट्स पर बनाया गया है।

Read More Articles on other diseases in hindi

Disclaimer